ईओडब्ल्यू (EOW) क्या है

ईओडब्ल्यू (EOW) से संबंधित जानकारी

जब किसी राज्य में आर्थिक अपराधों से सम्बंधित जांच करने वाली कोई एजेंसी नहीं होती है, तो वहां पर पुलिस द्वारा ही ऐसे मामलों की जांच करवाई जाती है | परन्तु केंद्र शासित राज्य दिल्ली की बात करे तो ऐसे राज्यों में आर्थिक अपराधों की जांच हेतु इकोनॉमिक ऑफेंस विंग (EoW) द्वारा की जाती है | इसे आधिकारिक भाषा में आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ भी कहा जाता हैं | जब एक करोड़ से अधिक की धोखाधड़ी या हेराफेरी का केस होता है तो इसकी जांच की जिम्मेदारी इकोनॉमिक ऑफेंस विंग यानि की EOW की होती है | यह संस्था राज्य के किसी भी बड़े आर्थिक अपराध के केस को अपने आप संज्ञान में लेकर दर्ज करने का अधिकार रखता है | यदि आप भी इकोनॉमिक ऑफेंस विंग यानि की EOW के विषय में जानना चाहते है तो यहाँ पर ईओडब्ल्यू (EOW) क्या है, ईओडब्ल्यू का फुल फॉर्म क्या होता है इसकी हिंदी में जानकारी दी जा रही है |

सी आई डी (CID) और सी बी आई (CBI) में अंतर

ईओडब्ल्यू का फुल फॉर्म (EoW Full Form)

ईओडब्ल्यू (EOW) का फुल फॉर्म “Economic Offences Wing” होता है, इसका उच्चारण ‘इकोनॉमिक ऑफेंस विंग’ होता है | इसका हिंदी में अर्थ “आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ” होता है | यह एक सरकारी संघठन होता है, जो देश में आर्थिक अपराधों से सम्बंधित मामलों की जाँच करता है | देश की सेवा में इस संघठन का विशेष योगदान रहता है |

आर्थिक अपराधी कानून (Law Of EoW)

इस संस्था के लिए संविधान द्वारा एक कानून भी बनाया गया है, इस संस्था के अधिकारी और कर्मचारी कानूनी प्रक्रिया संविधान के अनुसार ही चलाते है | इस कानून के माध्यम से विदेश में छिपने वाले भारतीय अपराधियों पर शिंकजा कसता है | इस कानून के द्वारा सरकार किसी भी अपराधी की संपत्ति को अधिग्रहण कर सकती है और उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई का अधिकार संविधान से प्राप्त हैं | इस कानून तहत आर्थिक अपराध करने वाले अपराधी की देश के अंदर और बाहर सभी बेनामी संपत्तियां जब्त का अधिकार होता है |

सीवीसी (CVC) क्या है

इस कानून के अनुसार आर्थिक अपराधी ऐसे व्यक्ति होते हैं, जो 100 करोड़ रुपए या उससे भी ज्यादा की रकम तक का धोका करते है | वह भारत से फरार हैं या फिर भारत में न्यायिक कार्रवाई से छुटकारा पाने के लिए देश में आने से इनकार करते हैं |

इसके अंतर्गत देश छोड़ने वाले आर्थिक अपराधी की संपत्ति की कुर्की का उपबंध किया जाने का प्रावधान बनाया गया है | तथा इसमें बताया गया है कि किसी भी देश को छोड़कर जाने आर्थिक अपराधी को कोई भी सिविल दावा करने की हकदारी नहीं दी जाएगी | इस तरह के केस में विशेष अदालतों द्वारा जारी किये गए आदेशों के विरुद्ध हाई कोर्ट में अपील करने के बारे में बताया गया है |

Income Tax अधिकारी कैसे बने 

नियम और अधिनियम

ईओडब्ल्यू (EOW) के नियम और अधिनियम नीचे दिए गए क्षेत्रों में कार्य करते है | जिनकी जानकारी इस प्रकार दी गई है –

क्रमांक

शीर्षक

1.

भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम, 1988

2.

पंजीकृत एनबीएफसी की सूची

3.

बैंकिंग संबंधित अधिनियम

4.

जीएसटी अधिनियम

5.

सुप्रीम कोर्ट और उच्च न्यायालय के फैसले

6.

सतर्कता मैनुअल

7.

कानून और न्याय मंत्रालय

8.

शस्त्र अधिनियम

9.

केंद्रीय अधिनियम

सीबीआई ऑफिसर कैसे बने 

यहाँ पर आपको ईओडब्ल्यू (EOW)  के विषय में जानकारी दी गई है | अन्य जानकारी प्राप्त करने के लिए पोर्टल kaiseinhindi.com पर विजिट करते रहे | और अपने सवालों को कमेंट बॉक्स के माध्यम से जरूर पूछें |

आईएएस कैसे बने ?