वर्तमान में संघ सूची,राज्य सूची,समवर्ती सूची में कितने विषय है

संघ सूची, राज्य सूची, समवर्ती सूची में विषय 

भारत एक राज्यों का संघ है, संविधान के द्वारा केंद्र सरकार और राज्य सरकार की शक्तियों का विभाजन किया गया है | इसलिए संविधान में तीन प्रकार की सूची का निर्माण किया गया है, जिसके द्वारा शक्तियों की स्पष्ट जानकारी प्राप्त की जा सके | इस सूची के द्वारा राज्य सरकार और केंद्र सरकार में किसी भी प्रकार के गतिरोध को रोकने के प्रयास किया गया है, इससे भारत के प्रशासनिक ढांचा को और अधिक मजबूती प्रदान की जाती है | इस सूची के विषय में प्रत्येक भारतीय को जानकारी होना चाहिए, जिससे वह राज्य और केंद्र सरकार की शक्तियों में स्पष्ट रूप से विभाजन कर सके | इस पेज पर वर्तमान में संघ सूची, राज्य सूची, तथा  समवर्ती सूची में विषय से सम्बंधित  जानकारी आपको इस पेज पर दे रहे है |

ये भी पढ़े: भारतीय संविधान की प्रस्तावना (उद्देशिका) क्या है

ये भी पढ़े: किस राज्य में कितनी विधानसभा सीटें है

केंद्र राज्य सम्बन्ध

भारतीय संविधान एक संघीय संविधान है, इसलिए संविधान की सातवीं अनुसूची में केंद्र और राज्य की शक्तियों में विभाजन किया गया है, इस विभाजन का स्पष्ट उल्लेख के लिए तीन सूची का निर्माण किया गया है, जो इस प्रकार है-

  • संघ सूची
  • राज्य सूची
  • समवर्ती सूची

ये भी पढ़े: भारतीय संविधान की 11 वीं अनुसूची में शामिल विषयो की सूची

संघ सूची (Union Catalog)

राष्ट्रीय महत्व से सम्बंधित विषयों को संघ सूची में सम्मिलित किया गया है, इन विषयों से सम्बंधित कानून बनाने का अधिकार संसद को प्रदान किया गया है

राज्य सूची (State list)

क्षेत्रीय महत्व से सम्बंधित विषयों को वरीयता देते हुए संविधान द्वारा कानून बनाने का अधिकार राज्य विधानमंडल को प्रदान किया गया है

समवर्ती सूची (Concurrent List)

समवर्ती सूची में उन विषयों को सम्मिलित किया गया है, जिस पर राज्य सरकार और केंद्र सरकार दोनों कानून का निर्माण कर सकती है | दोनों सरकारों द्वारा बनाये गए कानून में गतिरोध उत्पन्न होने पर केंद्र सरकार के क़ानून को मान्यता प्रदान की गयी है, केंद्र सरकार द्वारा बनाये गए कानून को लागू करते ही राज्य सरकार का कानून स्वतः ही समाप्त मान लिया जाता है, इसके लिए किसी भी प्रकार की अधिसूचना जारी नहीं की जाती है |

अपवाद- जम्मू और कश्मीर राज्य में इन तीनों सूची के प्रावधान लागू नहीं होते है |

सम्बंधित लेख (Related Links)

संघ सूची के विषय (Subject Of Union Catalog)

वर्तमान समय में संघ सूची में कुल 100 विषयों को सम्मिलित किया गया है, जिनमे से प्रमुख इस प्रकार है, जैसे- सेना, रक्षा , विदेशी मामले , रेल, डाक, बचत ,परमाणु ऊर्जा ,नागरिकता ,संचार ,मुद्रा (करेंसी) ,भारतीय रिजर्व बैंक ,बैंकिंग बीमा स्टॉक विनिमय (स्टॉक  एक्चंगे) , जनगणना, आयकर तथा निगम कर आदि |

राज्य सूची के विषय (Subject Of State List)

राज्य सूची में वर्तमान समय में 61 विषयों को सम्मिलित किया गया है, इसके अनुसार प्रमुख विषय इस प्रकार है-  न्यायालय ,राज्य पुलिस ,जिला अस्पताल , सफाई , पशु , सिंचाई , कृषि, सड़क, वन , रेलवे पुलिस, वन , वांट एवं नाप इत्यादि |

ये भी पढ़े: आचार संहिता का अर्थ

समवर्ती सूची के विषय (Subject Of Concurrent List)

वर्तमान समय में समवर्ती सूची में कुल 52 विषयों को सम्मिलित किया गया है, जिनमे से प्रमुख इस प्रकार है-

शिक्षा, दीवानी एवं फौजदारी मुकदमे, श्रम कल्याण, कारखाने, समाचार पत्र, वन , आर्थिक एवं सामाजिक नियोजन, प्रदूषण नियंत्रण, परिवार नियोजन, वांट माप इत्यादि |

यहाँ पर हमनें आपको वर्तमान में संघ सूची, राज्य सूची, समवर्ती सूची के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: भारत की राष्ट्रभाषा क्या है ?

ये भी पढ़े: किस राज्य में कितनी विधानसभा सीटें है

ये भी पढ़े: उच्चतम न्यायालय के न्यायधीश को हटाने की क्या प्रक्रिया है