भारतीय नागरिकता कैसे प्राप्त करें

भारतीय नागरिकता प्राप्त करनें की प्रक्रिया (Procedure For Obtaining Indian Citizenship)

किसी व्यक्ति को किसी देश की नागरिकता उसे देश की सरकार द्वारा तब दी जाती है, जब वह व्यक्ति कानूनी औपचारिकताओं का अनुपालन करता है| इस प्रकार नागरिकता के आधार पर किसी व्यक्ति की जन्म भूमि का पता नही लगाया जा सकता| एक बार जब कोई व्यक्ति किसी देश का नागरिक बन जाता है, तो उसे देश के राष्ट्रीय आयोजनों जैसे वोट डालने का अधिकार, नौकरी करने का अधिकार, देश में मकान खरीदने और रहने का अधिकार मिल जाता है| हम यह कह सकते है, कि नागरिकता राजनीतिक/ कानूनी स्थिति है, जो कि किसी व्यक्ति को कुछ औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद मिलती है| जैसे अदनान सामी एक गायक है, और वह पाकिस्तानी मूल का नागरिक है, परन्तु उन्हें कुछ औपचारिकतायें पूरी करने के कारण भारत की नागरिकता मिल गयी है| भारतीय नागरिकता कैसे प्राप्त करें ? इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है|

ये भी पढ़े: CAA, CAB Full Form in Hindi

ये भी पढ़े: नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 क्या है?

भी पढ़े: एनआरआई (NRI) का मतलब क्या होता है ? 

भारतीय नागरिकता कैसे प्राप्त करें (How To Get Indian Citizenship)

भारतीय नागरिकता एक बार फिर चर्चा में है। गृह मंत्रालय के अनुसार, सिटीजनशिप एक्ट, 1955 के मुताबिक भारत की नागरिकता चार तरीकों से प्राप्त की जा सकती है। यह प्रोविजन सिटीजनशिप एक्ट, 1955 के सेक्शन 3, 4, 5(1) और 5(4) में दिए गए हैं। जिसे वर्ष 2011 और 2015 में अंतिम बार संशोधित किया गया, जो इस प्रकार है-

जन्म के आधार पर नागरिकता (By Birth)

  • कोई भी व्यक्ति भारत में 26 जनवरी 1950 को या इसके बाद और 1 जुलाई 1987 के पहले जन्म हुआ है, वह भारतीय नागरिक कहलाएंगे, इसमें यह आवश्यक नहीं है कि उनके माता-पिता भारत के नागरिक हैं अथवा नहीं।
  • कोई भी व्यक्ति भारत में 1 जुलाई 1987 से 2 दिसंबर 2004 के बीच जन्म लेने वाला ऐसा शख्स जिसके जन्म के समय उसके माता या पिता में से कोई भी भारतीय नागरिक है, वह भारतीय नागरिक माना जायेगा।
  • 3 दिसंबर 2004 के बाद भारत में जन्म लेने वाला कोई भी व्यक्ति जिसके माता-पिता दोनों भारतीय नागरिक हों या कम से कम कोई एक भारतीय नागरिक हो और दूसरा अवैध प्रवासी न हो, तो वह भारतीय नागरिक कहलाएगा।

भी पढ़े: भारत में कुल कितने राज्य हैं

वंश के आधार पर नागरिकता (By Descent)

  • ऐसा व्यक्ति जिसका जन्म 26 जनवरी 1950 को या इसके बाद भारत के बाहर हुआ है, लेकिन उसके माता-पिता भारतीय नागरिक है, तो उन्हें वंश के आधार पर भारतीय नागरिकता प्राप्त होगी|
  • ऐसा व्यक्ति जिसका जन्म 10 दिसंबर 1992 के बाद और 3 दिसंबर 2004 के पहले भारत के बाहर हुआ हो और जिसके माता या पिता में से कोई एक भारतीय नागरिक हो।
  • ऐसा व्यक्ति जिसका जन्म 3 दिसंबर 2004 के बाद भारत के बाहर हुआ हो, परन्तु उनके माता-पिता यह घोषित करें, कि उनके पास किसी दूसरे देश का पासपोर्ट नहीं है, और वह जन्म के एक वर्ष के अंदर भारतीय दूतावास में रजिस्ट्रेशन करवा लेते है, तो उन्हें भारतीय नागरिकता माना जायेगा।

भी पढ़े: जानिये क्या है भारत के नागरिक के मौलिक अधिकार !

रजिस्ट्रेशन द्वारा नागरिकता (By Registration)

  • भारत की नागरिकता रजिस्ट्रेशन के माध्यम से भी प्राप्त की जा सकती है, इसके नियम इस प्रकार है-
  • भारतीय मूल का ऐसा व्यक्ति जो कम से कम 7 वर्षों से भारत में निवास कर रहा हो, वह रजिस्ट्रेशन के माध्यम से नागरिकता प्राप्त कर सकता है।
  • एक ऐसा व्यक्ति जो भारतीय मूल का है, परन्तु अविभाजित भारत के अतिरिक्त किसी दूसरे देश में निवास कर रहा है।
  • एक ऐसा व्यक्ति जिसका भारतीय नागरिक से विवाह हुआ हो और रजिस्ट्रेशन के लिए आवेदन करने से पहले वह कम से कम 7 वर्षों से भारत में निवास कर रहा हो।

भी पढ़े: फास्ट ट्रैक कोर्ट (Fast Track Court) क्या है

किसी नए क्षेत्र को भारत में शामिल करनें पर (Include New Region In India)

यदि किसी नए क्षेत्र को भारत में शामिल किया जाता है, तो वहां के लोगो को भारतीय नागरिकता प्राप्त हो जाएगी| जैसे कि 1962 में पांडिचेरी को भारत में शामिल किये जानें पर वहां की जनता को भारतीय नागरिकता प्राप्त हो गयी|

दोहरी नागरिकता (Dual Citizenship)

  • संशोधित नागरिकता अधिनियम 1955 के अनुसार, कोई भी भारतीय नागरिक दो देशों की नागरिकता नहीं ले सकता| यदि वह व्यक्ति ऐसा करता है, तो नागरिकता अधिनियम की धारा 9 के मुताबिक उसकी नागरिकता समाप्त की जा सकती है| प्रावधान के अनुसार यदि भारत का कोई भी नागरिक रहने के लिए या किसी और कारण से अन्य देश की नागरिकता प्राप्त कर लेता है, तो पहले देश की नागरिकता को रद्द कर दिया जाता है|
  • ऐसे व्यक्ति जो स्वतंत्रता के बाद या पहले भारत से जाकर किसी अन्य देश में बस गए उनके लिए भारत सरकार ने दोहरी नागरिकता का प्रावधान OCI में किया गया है|
  • ओवरसीज सिटीजनशिप ऑफ इंडिया (ओसीआई) एक आव्रजन स्थिति है, जो भारतीय मूल के एक विदेशी नागरिक को भारतीय गणराज्य में अनिश्चित काल तक रहने और काम करने की अनुमति देती है| वह विदेशी नागरिक जो 26 जनवरी 1950 से पहले या बाद से भारत का नागरिक हो या वह या उसके बच्चे या पोते पोतियां भारत के नागरिक हों उनको OCI कार्ड दिया जाता है|
  • हालांकि OCI कार्ड धारकों के लिए कई नियम हैं, जैसे उन्हें मतदान करनें का अधिकार नहीं होता है| सरकारी कार्यालयों में कार्य करने का अधिकार नहीं होता| साथ ही OCI कार्ड धारकों को कृषि संपत्तियों को खरीदने का अधिकार भी नहीं है, इसके साथ-साथ ही वह व्यक्ति भारत में कोई चुनाव भी नहीं लड़ सकता है|

भी पढ़े: भारतीय संविधान सभा का गठन कब हुआ था

भारतीय नागरिकता हेतु ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया (Online Apply Process)

गृह मंत्रालय के अंतर्गत यदि कोई विदेशी व्यक्ति भारत की नागरिकता प्राप्त करना चाहता है, तो इसके लिए वह ऑनलाइन आवेदन कर सकते है, इसकी प्रक्रिया इस प्रकार है-

  • सबसे पहले आपको indiancitizenshiponline.nic.in लिंक पर क्लिक करे

  • यहाँ पर आपको कई विकल्प दिखाई देंगे, जैसे Introduction, Online Apply

  • यहाँ आप अपनी इच्छानुसार नागरिकता के नियम , एक्ट से सम्बंधित जानकारी प्राप्त कर सकते है|जो आपको पीडीऍफ़ के रूप में उपलब्ध होगा|
  • सभी जानकारी प्राप्त करनें के बाद अब आपको Apply Online पर क्लिक करना है

  • अब आपके सामनें एक नई विंडो खुलेगी

  • यहाँ दी गयी जानकारी सावधानी पूर्वक पढ़कर फार्म में सबसे नीचे Apply Online पर क्लिक करे

  • अब आपके सामनें एक फार्म खुलेगा, जिसमें आपसे Personal, Address, Family, Criminal Proceeding, photo / Document आप्शन दिए होंगे, जिसमें आपको सब्स्र पहले Personal पर क्लिक कर जानकारी भरनी है|

  • इस फार्म में सभी जानकारी अंकित करनें के बाद आपको Save and Next पर क्लिक्क करे

  • इसके बाद आपको दूसरे आप्शन Address पर क्लिक कर सभी जानकारी अंकित करे

  • इस प्रकार आपको सभी स्टेप्स में जानकारी दर्ज करनी होगी, और सबमिट पर क्लिक करना है| ऑनलाइन अप्लाई  करनें के बाद अब आप  Online Status check पर क्लिक कर फार्म की स्थिति की जानकारी प्राप्त कर सकते है|

इस प्रकार आप ऑनलाइन माध्यम से भारतीय नागरिकता प्राप्त करनें के लिए आवेदन कर सकते है|

भी पढ़े: भारत में कितनी नदियाँ है

यहाँ पर हमनें भारतीय नागरिकता प्राप्त करनें तथा ऑनलाइन माध्यम से आवेदन करनें के बारें में बताया| यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है|

भी पढ़े: भारत में महिलाओ के अधिकार 

भी पढ़े: ऑनलाइन शिकायत कैसे दर्ज करे

भी पढ़े: रेरा (RERA) कानून (ACT) क्या है नियम क्या है