जेपीसी (JPC) क्या है?

जेपीसी (JPC) के विषय में जानकारी

भारतीय संसद में सीमित समय और कार्य की अधिकता के कारण समितियों का गठन किया जाता है | संसद इन समितियों के माध्यम से विधेयक की जाँच करने का कार्य करती है | समितियां जांच के उपरांत संसोधन के साथ अपने सुझाव भारत सरकार को देती है | भारत सरकार समितियों द्वारा दी गयी रिपोर्ट पर विचार करके उसे पूर्ण या आंशिक रूप से लागू करती है | इस पेज पर जेपीसी (JPC) क्या है, संयुक्त संसदीय समिति के विषय में जानकारी दी जा रही है |

ये भी पढ़ें: संसद के कितने सत्र होते है?

ये भी पढ़ें: नागरिकता संशोधन विधेयक 2019 क्या है?

जेपीसी क्या है (What is JPC)?

जेपीसी (JPC) एक संयुक्त संसदीय समिति या अस्थायी समिति होती है | जेपीसी का गठन संसद द्वारा किसी विशेष मुद्दे या रिपोर्ट की जाँच के लिये किया जाता है | जेपीसी अलग-अलग विधेयकों, मुद्दों और संसद में पेश की गई रिपोर्टों की जाँच और परीक्षण का कार्य करती है |

ये भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर पुनर्गठन बिल 2019 | राज्य पुनर्गठन कैसे होता है?

जेपीसी की आवश्यकता

भारत की संसद सम्पूर्ण भारत के लिए नीति का निर्माण करती है | इसलिए उसके पास कई मुद्दे होते है | संसद सभी विधेयकों और रिपोर्टों की जाँच करने में असमर्थ रहती है, इसलिए वह अलग-अलग विधेयकों और मुद्दों के लिए जेपीसी का गठन करती है | जेपीसी उस मुद्दे या विधेयक की गहनता से जाँच करती है, जिसके बाद वह अपनी रिपोर्ट भारत सरकार को सौपती है |

ये भी पढ़ें: आर्टिकल 35A क्या है ?

जेपीसी का गठन (Formation of JPC)

जेपीसी का गठन अनेक दलों के सदस्यों को सम्मिलित करके की जाती है | इस प्रकार से इसे दलगत संरचना कहा जा सकता है | यह संसद में दलों की शक्ति के अनुसार निर्धारित की जाती है | जेपीसी में अलग-अलग दलों से चुने हुए प्रतिनिधियों की संख्या उनके अनुपात पर निर्भर करती है, इसी कारण से किसी विवादित मुद्दे या विधेयक पर राजनैतिक पार्टियां जेपीसी की मांग करती हैं |

ये भी पढ़ें: विपक्ष का नेता (Opposition Leader) कौन होता है?

जेपीसी या संयुक्त संसदीय समिति का प्रभाव (Effect)

भारत सरकार द्वारा कई अनियमितताओं और लापरवाही वाले कार्य केवल इसी भय से नहीं किये जाते हैं कि भविष्य में उसकी जाँच किसी संयुक्त संसदीय समिति से कराई जा सकती है | संयुक्त संसदीय समिति बहुत ही बारीकी से मुद्दे या विधेयक की जांच करती है, जिससे छोटी से छोटी लापरवाही या अनियमितता पकड़ में आ जाती है | जेपीसी या संयुक्त संसदीय समिति अपनी रिपोर्ट में इन सभी का विस्तृत वर्णन करती है और अपने सुझाव भी देती है, जिसके बाद तत्कालीन या पूर्व सरकार पर आरोप निर्धारित किये जाते है | जेपीसी या संयुक्त संसदीय समिति का हमारे संसदीय प्रणाली में काफी प्रभावी और ख़ास महत्त्व है |

ये भी पढ़ें: UAPA Bill क्या है?

यहाँ पर हमनें जेपीसी (JPC) क्या है, संयुक्त संसदीय समिति के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: अविश्वास प्रस्ताव और विश्वास मत क्या है?

ये भी पढ़ें: लोकसभा अध्यक्ष कैसे चुना जाता है?

ये भी पढ़ें: राज्य में राष्ट्रपति शासन कैसे लगता है ?