विपक्ष का नेता (Opposition Leader) कौन होता है?

विपक्ष का नेता से सम्बंधित पूरी जानकारी (Information About Opposition Leader)

भारत ने संसदीय व्यवस्था को अपनाया है, इसके अंतर्गत राज्य सभा और लोकसभा का गठन किया गया है| लोकसभा का गठन व्यस्क मताधिकार का प्रयोग करते हुए आम चुनाव में निर्वाचित सदस्यों के द्वारा किया जाता है| लोकसभा के गठन में पक्ष और विपक्ष दलों का दर्जा दिया जाता है | जिस दल की सरकार बनती है, उसका नेता प्रधानमंत्री होता है और जिस दल की सरकार नहीं बनती है, उसके दल के नेता को विपक्ष के नेता का दर्जा दिया जाता है | जिसमें उसे कई सुविधाओं का  लाभ दिया जाता है, इस पेज पर विपक्ष का नेता कौन होता है, यह कैसे चुना जाता है, अधिकार, कर्तव्य के बारे में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री (PM), मुख्यमंत्री (CM), सांसद (MP), विधायक (MLA) का वेतन कितना है

विपक्ष का नेता कौन होता है (Opposition Ka Leader Kaun Hota Hai)

लोकसभा में बहुमत के लिए किसी भी दल को 272 सीटों की आवश्यकता होती है, इस बहुमत द्वारा ही सरकार का गठन किया जाता है, जबकि लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष का दर्जा प्राप्त करने के लिए किसी भी राजनीतिक दल को कम से कम 55 सीटें जीतनी आवश्यक हैं | लोकसभा में जीतने वाले दल के अतिरिक्त जिस दल को अधिक सीटें प्राप्त होती है, उस दल के नेता को विपक्ष का नेता कहा जाता है |

ये भी पढ़ें: राज्य सभा के सांसद कैसे बने

विपक्ष का नेता कैसे चुना जाता है (Selection Process)

लोकसभा के आम चुनाव के बाद जिस दल को लोकसभा की कुल सीटों का 10 प्रतिशत या इससे अधिक सीटें प्राप्त होती है| वह विपक्ष के नेता के लिए आवेदन कर सकता है, इसकी स्वीकृति लोकसभा अध्यक्ष के द्वारा दी जाती है |

ये भी पढ़ें: कैबिनेट मंत्री और राज्यमंत्री में क्या अंतर है

विपक्ष के नेता के अधिकार (Rights Opposition Leader)

संसद में विपक्ष के नेता को वेतन और भत्ता अधिनियम 1977 और उसके तहत बनाए गए नियमों व प्रावधानों के अनुसार दी जाती है| संसद में किसी भी बिल का विरोध करना और उस पर चर्चा करवाने का समर्थन करना विपक्ष के नेता के द्वारा किया जाता है| सरकार की गलत नीतियों का विरोध विपक्ष के नेता के द्वारा किया जाता है तथा सरकार के मंत्रियों से प्रश्न पूछना और संतुष्टि लायक उत्तर न देने पर उसका विरोध विपक्ष के नेता के द्वारा किया जाता है |

ये भी पढ़ें: अध्यादेश क्या होता है, अध्यादेश और विधेयक में अंतर

कर्तव्य (Obligation)

देश हित में सरकार द्वारा लिए गए निर्णयों का समर्थन करना और गलत नीतियों का पुरजोर विरोध करना | संसद की कार्यवाही को सुचारु रूप से चलने में सहयोग करना | सरकार के मंत्रियों से प्रश्न पूछना और सरकार द्वारा लाये गए बिलों की जाँच समिति में भाग लेना| जाँच में गलत पाए गए नियमों का विरोध करना और अपने सुझाव देना, जिससे जनता हित में अधिक से अधिक निर्णय लिए जा सके |

ये भी पढ़ें: बहुमत क्या होता है, विशेष और साधारण बहुमत में अंतर

यहाँ पर हमनें आपको विपक्ष के नेता के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: राज्यसभा के कार्य,शक्ति और अधिकार

ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री (Prime Minister) कैसे बनते है

ये भी पढ़ें: भारतीय संविधान में कितने भाग, अनुच्छेद और अनुसूचियां है

ये भी पढ़ें: वर्तमान में संघ सूची,राज्य सूची,समवर्ती सूची में कितने विषय है