गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) का निबंध

गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) से सम्बन्धित जानकारी

गणतंत्र दिवस प्रत्येक वर्ष 26 जनवरी को मनाया जाने वाला एक राष्ट्रीय पर्व है, 26 जनवरी सन 1950 को भारत में संविधान लागू हुआ। गणतंत्र दिवस यानि कि 26 जनवरी का दिन भारत के राष्ट्रीय पर्वों में से एक प्रमुख पर्व है, इसी कारण इसे हर जाति तथा सभी धर्म के लोगों द्वारा काफी सम्मान, उत्साह और सदभावना के साथ मनाया जाता है। इस पर्व के अवसर पर सभी विद्यालयों, कार्यालयों तथा अन्य सभी संस्थानों में ध्वजा रोहण करने के साथ मिठाइयां भी बांटी जाती है | यदि आपको भी गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर निबंध, भाषण और हिंदी SMS की जानकारी चाहिए तो यहां पूरी जानकारी प्रदान की जा रही है |

ये भी पढ़े: भारतीय संविधान की प्रस्तावना (उद्देशिका) क्या है

गणतंत्र दिवस क्यों मनाते हैं?

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहर नेहरु जी का 26 जनवरी तिथि से गहरा लगाव था, क्योंकि 26 जनवरी 1930 को कांग्रेस के लाहौर अधिवेशन के समय रावी नदी के तट पर पूर्ण स्वतंत्रता की मांग करने के साथ ही तिरंगा भी फहराया गया था | चूंकि उस समय तो स्वाधीनता के बेड़िया नहीं खुल पायी थी परन्तु 15 अगस्त, 1947 देश पूर्ण रूप से स्वतंत्र हो चुका था | लेकिन नेहरू जी चाहते थे, कि 26 जनवरी की तारीख को ऐतिहासिक और यादगार बनाने के लिए इसी तिथि को संविधान लागू करने का प्रस्ताव रखा, 26 नवंबर 1949 में संविधान स्वीकार होने के बावजूद भी संविधान में नागरिकता जैसे कुछ प्रावधानों को लागू किया गया | इसके बाद आधिकारिक रूप से 26 जनवरी 1950 में लागू किया गया | इसलिए तब से 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते है |

ये भी पढ़े: संविधान किसे कहते है, लिखित संविधान का क्या अर्थ है ?

गणतंत्र दिवस का महत्व क्या है

गणतंत्र दिवस का यह 26 जनवरी को पूरे भारत में बड़े हर्षोल्लाष के साथ मनाया जाता है | यह पर्व हमारे अंदर आत्म गौरव और सम्मान भरता है | देश के सभी लोगों को पूर्ण स्वतंत्र होने की अनुभूति भी कराता है इन्हीं सभी वजहों से इस दिन पूरे देश में यह पर्व पूरे जोश के साथ, सभी जाति और सभी धर्मों के लोग एक साथ मनाते है | गणतंत्र दिवस का पर्व इसलिए भी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि 26 जनवरी का दिन ही हमें हमारे संविधान के महत्व को बताता है। भले ही देश को आजादी 15 अगस्त 1947 को मिल गई हो, परन्तु पूर्णतया स्वतंत्रता की प्राप्ति 26 जनवरी 1950 को ही मिली मानी जायेगी | संविधान के कारण ही देश की विविधता में एकता की पूर्ण झलक दिखाई देती है, इसमें सभी जाति और सभी धर्म के लोग एक सामान है, संविधान में सभी को समान अधिकार प्राप्त है |

ये भी पढ़े: 26 जनवरी को ही क्यों लागू हुआ संविधान

इन सभी कार्यक्रमों के साथ भारत में गणतंत्र दिवस के दिन राष्ट्रीय अवकाश होता है परन्तु इस दिन लगभग सभी छोटे बड़े संस्थान ध्वजा रोहण के बाद कार्यालय बंद रखते है । ध्वजा रोहण के बाद मिठाइयां बांटने का रिवाज भी है, लोग ख़ुशी में एक दूसरे को मिठाई खिलाते है और बाँटतें है | इस पर्व को मनाने का सभी लोगों और संस्थानों का तरीका अलग अलग है जैसे- समाचार देखकर, स्कूल में भाषण या अन्य कार्यक्रमों में भाग लेकर इसके अलावा भारत की आजादी या संविधान से संबंधित किसी प्रतियोगिता में भाग लेकर आदि रूपों में मनाया जाता है।

ये भी पढ़े: केंद्र सरकार (Central Government) क्या है, कैसे बनती है

26 जनवरी पर भाषण

बहुत से ऐसे अवसर आते है जहाँ पर भाषण देना जरूरी हो जाता है और कई लोग ऐसे होते है, जिन्हें भाषण देना तो पसंद है परन्तु यह नहीं समझ में आता है की शुरुआत कैसे की जाए, कैसा भाषण हो, कैसे बोले की भाषण सबको पसंद आये | तो यहाँ पर 26 जनवरी के पावन पर्व पर कैसे भाषण दिया जाए, यहाँ पर बताया जा रहा, आप कुछ इस तरह से अपने भाषण की शुरुआत कर सकते है –

आप सभी को मेरी तरफ से गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाये। मेरा नाम _____है, और मैं____कक्षा …..का छात्र या शिक्षक/(अन्य पद) हूँ। हम सभी जानते हैं कि आज हम लोग यहाँ पर एक विशेष अवसर पर एकत्रित हुए हैं। आज के दिन को हम सभी भारतवासी कभी नहीं भूल सकते है क्योंकि इस दिन हमारे देश में संविधान लागू हुआ और यह दिन हम भारतीय गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं।

ये भी पढ़े: शासन (Governance) और प्रशासन (Administration) में क्या अंतर है?

मैं आज इस महान दिन के पावन अवसर पर आप सभी को भारत के गणतंत्र दिवस के बारे में कुछ महत्वपूर्ण तथ्य बताना चाहता हूँ/चाहती हूँ। सबसे पहले मैं आप सभी को धन्यवाद देता हूँ कि आप लोगों ने मुझे इस महत्वपूर्ण दिन के अवसर पर ये मौका दिया कि मैं यहां आपके समक्ष खडे होकर गणतंत्र दिवस के बारे में और महान देश के विषय में कुछ शब्द कह सकूं।

गणतंत्र दिवस के पावन पर्व पर आज हम सभी यहां 71वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। देश के लिए 26 जनवरी का दिन केवल एक पर्व ही नहीं, बल्कि गौरव और सम्मान भी है। यह दिन प्रत्येक भारतीय का अभिमान है, अनगिनत देशभक्तों की कुर्बानी के बाद ही भारत मां को 15 अगस्त 1947 को आजादी मिल पायी, लेकिन सही मायने में देखा जाये तो स्वतंत्रता का मुख्य आकार 26 जनवरी 1950 को मिला माना जाता है, क्योंकि हमारे देश में इसी दिन संविधान लागू हुआ था।

हमारे देश का संविधान एक लिखित संविधान है, जिसे तैयार होने में 2 साल 11 महीने और 18 दिन का समय लगा था। 395 अनुच्छेदों और 8 अनुसूचियों के साथ भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान माना गया है। इसी दिन यानि कि 26 जनवरी 1950 में डॉ. राजेन्द्र प्रसाद ने गवर्नमेंट हाउस के दरबार हॉल में भारत के राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण करने साथ ही देश के प्रथम राष्ट्रपति बने थे। देश के पहले गणतंत्र दिवस समारोह में मुख्य अतिथि के तौर पर इंडोनेशिया के राष्ट्रपति सुकर्णो को बुलाया गया था।

ये भी पढ़े: जानिये क्या है भारत के नागरिक के मौलिक अधिकार

हमे देश के महान नेताओं और आजादी के स्वतंत्रता सेनानियों को कभी नहीं भूलना चाहिए, जिनका देश की आजादी में सर्वोपरि स्थान रहा है हमारे देश के स्वतंत्रता सेनानियों में महात्मा गांधी, भगत सिंह, राजगुरु, सुखदेव, उधम सिंह, चन्द्रशेखर आजाद, लाला लाजपत राय, सरदार वल्लभ भाई पटेल आदि क्रांतिकारियों के बलिदान से आजादी प्राप्त हुई हैं।

इसके अलावा हमे सदैव संविधान बनाने में देश की मदद करने वालों देश भक्तों को भी नहीं भूलना चाहिए, जिनकी वजह से भारत में लोकतंत्र का मजबूत स्तम्भ तैयार हुआ और देश, दुनिया में अग्रसर हुआ |  हमारे देश के संविधान बनाने में सरदार बल्लभ भाई पटेल, डा बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर, आचार्य जे बी कृपलानी, सरोजिनी नायडू, गोविंद वल्लभ पंत, सी राजगोपालाचारी आदि अनगिनत नामों की लिस्ट बहुत लम्बी हो जाएगी, इस तरह के लोगों ने संविधान बनाने में मदद की | इस तरह हम अपने भाषण को विराम देते हुए, आप सभी को धन्यवाद देता हूँ |

जय हिन्द – जय भारत |

ये भी पढ़े: जनहित याचिका (PIL) क्या है

ये भी पढ़े: उच्चतम न्यायालय के न्यायधीश को हटाने की क्या प्रक्रिया है

गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर SMS हिंदी में

दोस्तों हम गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) के पावन पर्व पर Whatsapp ,Facebook ,Twitter ,Instagram या अन्य Social Site पर अपने फ्रेंड्स और रिश्तेदारों को SMS के जरिये बधाई देते है | जिससे लोगों में सदाचार बना रहे, और इस राष्ट्रीय त्यौहार की खुशिया आपस में बाँट सके | गणतंत्र दिवस पर भेजे जाने वाले SMS इस प्रकार है –

तैरना है तो समंदर में तैरो

नदी नालों में क्या रखा है,

प्यार करना है तो वतन से करो

इस बेवफ़ा लोगों में क्या रखा है ||

गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएं 2020

 

दाग गुलामी का धोया है जान लुटा कर,

दीप जलाये है कितने दीप भुझा कर,

मिली है जब यह आज़ादी तो फिर इस आज़ादी को…

रखना होगा हर दुश्मन से आज बचाकर ||

Happy Republic Day 2020.

ये भी पढ़े: धारा 370 क्या है

ये भी पढ़े: आचार संहिता का अर्थ

इतना सुन्दर जीवन दिया हमें

कई लोगो की कुर्बानी ने,

फेशन ने अँधा कर दिया हमे

जोश भरी जवानी में,

क्या समझेंगे हम मौल इस आजादी का,

जब कभी सहा नहीं दर्द हमने गुलामी का |

 

चलो फिर से खुद को जागते है,

अनुसासन का डंडा फिर घुमाते है,

सुनहरा रंग है गणतंत्र का सहिदो के लहू से,

ऐसे सहिदो को हम सब सर झुकाते है ||

आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें

ये भी पढ़े: भारतीय संविधान की 11 वीं अनुसूची में शामिल विषयो की सूची

सीमा पर लोग मरते हैं

वो खुशनसीब अमर हो जाते हैं

मेरी बदकिस्मती हैं ये

हम आम जिन्दगी जिए चले जाते हैं

26 जनवरी की हार्दिक बधाई |

 

आओ झुक कर सलाम करे उनको,

जिनके हिस्से में ये मुकाम आता है,

खुशनसीब होता है वो खून जो देश के काम आता है

हैप्पी रिपब्लिक डे 2020 |

ये भी पढ़े: वर्तमान में संघ सूची,राज्य सूची,समवर्ती सूची में कितने विषय है

ना जियो घर्म के नाम पर,

ना मरों घर्म के नाम पर,

इंसानियत ही है धर्म वतन का,

बस जियों वतन के नाम पर

भारत माता की जय |

 

न पाल हिन्दू मुस्लिम का बैर

मेरी माँ के प्यार को न बना इतना गैर

उसके दिल में सभी समान हैं

सब मिलकर रहे इसी में उसकी शान हैं |

सभी देशवासियों को गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें |

ये भी पढ़े: भारतीय संविधान सभा का गठन कब हुआ | संविधान सभा सदस्यों की जानकारी

हर एक खाली पड़े आलिन्द तेरी याद आती है

सुबह के ख्वाब के मानिंद तेरी याद आती है

हेलो, हे, हाय! सुन के तो नहीं आती मगर हमसे

कोई कहता है जब “जय हिंद” तेरी याद आती है |

 

सुझाये माँ जो मुहूर्त तो तेरी याद आती है

हँसे जब बुद्ध की मूरत तो तेरी याद आती है

कहीं डॉलर के पीछे छिप गए भारत के नोटों पर

दिखे गाँधी की जो सूरत तो तेरी याद आती है |

ये भी पढ़े: राज्यपाल की नियुक्ति कैसे होती है,कौन करता है

यहाँ पर हमनें गणतंत्र दिवस (26 जनवरी) पर निबंध, भाषण और हिंदी में SMS के विषय में जानकारी दी| यदि इस जानकारी से रिलेटेड आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है | अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे पोर्टल kaiseinhindi.com पर विजिट करते रहे |

ये भी पढ़े: भारत में महिलाओ के अधिकार