प्रोग्रामर कैसे बने

प्रोग्रामर बननें के लिए क्या करें 

कंप्यूटर प्रोग्रामर शब्द का प्रयोग एक ऐसे व्यक्ति के लिए किया जाता है, जो कंप्यूटर के क्षेत्र मैं सॉफ्टवेयर निर्माण संबंधित कार्य करते हैं, एक या एक से अधिक प्रोग्रामिंग भाषाओ को मिला कर प्रोग्राम बनाया जाता है, जो कंप्यूटर,मोबाइल या किसी भी हार्डवेयर को संचालित करता है, इन्हें बनानें के लिए कुछ स्टैण्डर्ड प्रोग्रामिंग भाषाओ का प्रयोग किया जाता है, यदि आप एक प्रोग्रामर बनना चाहते है, तो इसके बारे में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है |

ये भी पढ़े: सी लैंग्वेज ( C Programming Language ) कैसे सीखे

ये भी पढ़े: मल्टीमीडिया डिज़ाइनर के रूप में करियर कैसे बनाये

प्रोग्रामर कैसे बने

एक कंप्यूटर प्रोग्रामर सॉफ्टवेयर अनुप्रयोगों और ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए कोड बनाता है, एक सॉफ़्टवेयर डेवलपर एक कंप्यूटर प्रोग्राम को डिजाइन करनें के बाद, प्रोग्रामर द्वारा लिखा जाता है, जो उस डिज़ाइन को एक ऐसे निर्देशों में परिवर्तित करता है,जिसका अनुसरण कंप्यूटर कर सकता है |

शैक्षिक योग्यता

प्रोग्रामिंग में डिप्लोमा के लिए 50 प्रतिशत अंक एवं 12वीं पास होना अनिवार्य है, जबकि बैचलर डिग्री कोर्स, बीई/बीटेक के लिए साइंस में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, और गणित में 50 प्रतिशत अंक के साथ 12वीं उत्तीर्ण होना आवश्यक है ।

ये भी पढ़े: सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने

आयु

कंप्यूटर प्रोग्रामर बनने के लिए अभ्यर्थी की न्यूनतम आयु 18 वर्ष और अधिकतम आयु 40 वर्ष है |

पाठ्यक्रम अवधि 

प्रोग्रामर बननें के लिए लगभग चार वर्ष का समय लगता है,  यदि आप कंप्यूटर साइंस से बीएससी करनें के पश्चात लगभग तीन वर्ष का समय लगता है, प्रोग्रामिंग में डिप्लोमा की अवधि 3  वर्ष है,जबकि  एमई/एमटेक कोर्स 2  वर्ष का है ।

प्रोग्रामर बननें हेतु कोर्स

यदि आप प्रोग्रामर बनना चाहते है, तो इसके लिए आपको कंप्यूटर से सम्बंधित भाषाओं का ज्ञान होना अत्यंत आवश्यक है, जैसे C लैंग्वेज , C++ , Java , पाईथन , सी शार्प इत्यादि, क्योंकि बिना कंप्यूटर लैंग्वेज के आप किसी भी सॉफ्टवेर को नहीं बना सकते |

ये भी पढ़े: दो कंप्यूटर के बीच फाइल शेयर कैसे करे ?

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग पाठ्यक्रम

  • वेब विकास
  • डेटाबेस डिजाइन
  • कोडिंग
  • हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर
  • डिबगिंग

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग पाठ्यक्रम से सम्बंधित जानकारी 

छात्रों को वर्ग, विरासत, नियंत्रण संरचनाओं, सरल डेटा संरचनाओं और वस्तुओं सहित सॉफ्टवेयर विकास में ऑब्जेक्ट उन्मुख प्रोग्रामिंग और बुनियादी अवधारणाओं के साथ पेश किया जाता है। एक प्रयोगशाला अनुभाग आम प्रोग्रामिंग समस्याओं को हल करने के अनुभव पर हाथ प्रदान करता है। कंप्यूटर विज्ञान प्रमुखो को इस कोर्स को लेने की आवश्यकता है।

ये भी पढ़े: कंप्यूटर पासवर्ड (Computer Password ) रिसेट कैसे करे ?

कंप्यूटर आर्किटेक्चर कोर्स

कंप्यूटर आर्किटेक्चर में सिस्टम डिज़ाइन, मशीन भाषा और कंप्यूटर के संगठन को उनके सबसे बुनियादी स्तर पर शामिल किया गया है। कंप्यूटर विज्ञान प्रमुखों के लिए इस कोर्स में बूलियन बीजगणित और तर्क द्वार, पूर्णांक, स्केल किए गए, और फ़्लोटिंग पॉइंट बाइनरी अंकगणितीय, नियंत्रण, अंकगणितीय-तर्क, और पाइपलाइन इकाइयां, और मोड और विभिन्न प्रकार की मेमोरी को संबोधित करना शामिल है। छात्र आधुनिक एम्बेडेड प्रोसेसर के लिए सरल असेंबली भाषा भी सीखते हैं।

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग इंट्रोडक्टरी कोर्स

प्रोग्रामिंग भाषा सीखनें के पश्चात आप सॉफ्टवेयर प्रोग्राम बनाना आरंभ कर सकते हैं, इस पाठ्यक्रम के छात्र बड़े कोड और पैटर्न, एकीकृत डिजाइन, डिबगर्स, सिस्टम बिल्ड टूल्स और कोड री-फैक्टरिंग का उपयोग करके सॉफ्टवेयर डिज़ाइन करना सीखते हैं, इसके अंतर्गत अन्य विषयों में जीयूआई, बहु-थ्रेडिंग, क्लाइंट-सर्वर नेटवर्किंग और ईवेंट-संचालित प्रोग्रामिंग भी होती है |

ये भी पढ़े: कंप्यूटर एक्सपर्ट(Computer Expert) कैसे बने

ऑपरेटिंग सिस्टम कोर्स

कंप्यूटर साइंस के छात्रों को ऑपरेटिंग सिस्टम, जैसे कि विंडोज, लिनक्स और मैक ओएस एक्स के मूलभूत सिद्धांतों के बारे में बताया जाता है, इसके अंतर्गत विषयों में ऑपरेटिंग सिस्टम, सिंक्रनाइज़ेशन, कॉन्सुरेंसी, शेड्यूलिंग, वर्चुअल मेमोरी, पेजिंग, डिवाइसेस, सुरक्षा और फाइलों का विकास शामिल है।

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) कोर्स

एआई (आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस) एक ऐसा मार्ग है,जिसके माध्यम से हम सोचनें  वाले कंप्यूटर, कंप्यूटर कंट्रोल रोबोट, जो हमारी तरह सोच सकते हो, इन्हें हम निर्मित कर सकते है । एआई कमप्यूटर साइंस की एक भाषा है, जो कंप्यूटर सिस्टम के क्रिएशन तथा पढ़ाई से संबंधित है । आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का मुख्य उद्देश्य एक ऐसा एक्सपर्ट सिस्टम तैयार करना जिसमें मनुष्य के सामान  सोचनें की शक्ति हो ।

ये भी पढ़े: कंप्यूटर या लैपटॉप मे Hard Disk Partition कैसे करते है ?

प्रोग्रामर बननें हेतु कालेज

  • आईआईएससी, बैंगलोर
  • आईआईटी, बॉम्बे
  • आईआईटी, खडगपुर
  • आईआईआईटी, हैदराबाद
  • आईआईटी,मद्रास

कंप्यूटर प्रोग्रामर सैलरी

कंप्यूटर प्रोग्रामर को वेतन के रूप में 30000 से 40000 रुपये प्रतिमाह प्राप्त होते है, तथा यह वेतन उनके कार्य अनुभव के आधार पर वृद्धि होती रहती है |

यहाँ आपको हमनें प्रोग्रामर बननें के बारें में बताया, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करे, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: 12th के बाद कैरियर कैसे बनाये

ये भी पढ़े: Linux operating system कैसे इनस्टॉल करे ?

ये भी पढ़े: कंप्यूटर फॉर्मेट (Computer Format) कैसे करे ?