डिग्री और डिप्लोमा में क्या अंतर है

डिग्री और डिप्लोमा में अंतर 

वर्तमान समय में प्रत्येक छात्र अपनें करियर को सुनिश्चित करनें के लिए कोई डिग्री या डिप्लोमा करना चाहता हैं, जिसके माध्यम से उसको आसानी से जॉब मिल जाये, परन्तु इन डिग्री और डिप्लोमा करनें के उपरांत भी आज के समय में नौकरी की अनिश्चता बनी हुई हैं, प्रत्येक डिग्री दो से लेकर पांच साल की होती है, इनकी फीस भी अधिक होती है, और अब बात करे डिप्लोमा की इसकी अवधि एक से तीन वर्ष की होती है, इसकी फीस डिग्री की तुलना में कम होती है, डिग्री और डिप्लोमा में अंतर यदि आप भी समझना चाहते हैं, तो  इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है |

ये भी पढ़े: 12th के बाद कैरियर कैसे बनाये

ये भी पढ़े: विज्ञापन के क्षेत्र में करियर कैसे बनाये

डिग्री और डिप्लोमा कोर्स 

किसी भी विश्वविद्यालय द्वारा प्रदान करनें वाला प्रमाण पत्र डिग्री कहलाता है और विश्वविद्यालयों के अतिरिक्त अन्य संस्थानों से प्राप्त प्रमाण पत्र डिप्लोमा कहलातें हैं, इसका अर्थ हैं कि डिग्री को डिप्लोमा से उच्च स्थान प्राप्त हैं | विश्वविद्यालय स्नातक और स्नातकोत्तर की डिग्री प्रदान करते हैं | डिग्री और डिप्लोमा कोर्स का उद्देश्य अलग- अलग होता है, डिग्री कोर्स के अंतर्गत शैक्षणिक ज्ञान पर अधिक महत्व दिया जाता है, इसका पाठ्यक्रम इस प्रकार डिजायन किया जाता हैं, कि विद्यार्थी को अपनें रूचि वाले विषय के अतिरिक्त अन्य विषयों का मूल ज्ञान प्राप्त कर सके, जिस विषय पर विद्यार्थी अधिक ज्ञान प्राप्त करना चाहता हैं, तो उसको उस विषय से स्नाकोत्तर करना अनिवार्य होता हैं, स्नाकोत्तर को उस विषय का स्पैशलाइजेशन कहा जाता है, जबकि स्नातक व अन्य विषयों को माइनर या इलैक्टिव्स कहा जाता है |

डिप्लोमा के अंतर्गत विद्यार्थी को किसी एक व्यवसाय या पेशे के लिए तैयार किया जाता हैं, इसके पाठ्यक्रम में थ्योरी पर कम और प्रयोगात्मक कार्यो पर अधिक ध्यान दिया जाता है, डिप्लोमा में विद्यार्थी से एक वर्ष की अप्रेंटिसशिप या ऑन-जॉब ट्रेनिंग भी प्रदान की जाती है, मूलतः डिप्लोमा के माध्यम से विद्यार्थी से एक व्यवसाय में प्रशिक्षित व्यक्ति की आशा की जाती है |

ये भी पढ़े: अकाउंटिंग और ऑडिटिंग फील्ड में करियर कैसे बनाये

डिग्री कोर्स में लैटरल एंट्री की सुविधा

डिप्लोमा करनें के उपरांत डिग्री कोर्स में ‘लैटरल एंट्री’ के अंतर्गत प्रवेश प्राप्त करनें का अवसर प्राप्त होता हैं, अच्छे अंकों वाले डिप्लोमा धारक सीधे डिग्री कोर्स के द्वितीय वर्ष में प्रवेश ले सकते हैं | डिप्लोमा के माध्यम से छात्र को एक वर्ष की छूट प्राप्त होती है | यहाँ पर इस बात को समझना आवश्यक है कि डिप्लोमा को डिग्री की तुलना में निम्न स्थान प्राप्त हैं |

ये भी पढ़े: होटल मैनजमेंट में करियर कैसे बनाये

नौकरी में पद के अंतर्गत डिग्री और डिप्लोमा में अंतर

डिग्री प्राप्त करनें के उपरांत आप किसी संस्था के प्रमुख या मैनेंजर लेवल में आपकी नियुक्ति की जाएगी आपको एक विभाग दे दिया जायेगा और आपको उस विभाग को अच्छी तरह से संचालित करना होगा |

डिप्लोमा करनें के उपरांत आपको किसी कार्य को दूसरे से करवाना होता हैं, अथार्त आपको उस कार्य का सुपरविजन करना होगा, कार्य पूर्ण होनें की सूचना आप अपने उच्च अधिकारी को देंगे, आपका उच्च अधिकारी डिग्री प्राप्त करनें वाला व्यक्ति होगा |

ये भी पढ़े: बीटेक (B.Tech) कैसे करे 

अवधि के अन्तर्गत डिप्लोमा एवं डिग्री में अंतर

डिप्लोमा तथा डिग्री की दोनों की अवधि अलग-अलग होती है, डिग्री करनें में 3 से 5 वर्ष का समय लगता हैं जबकि डिप्लोमा 1 से 3 वर्षों का समय लगता हैं । साधारणतया डिग्री मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी की तरफ से ही प्रदान की जाती है, जबकि डिप्लोमा कोई भी निजी संस्थान द्वारा प्रदान किया जा सकता हैं |

ये भी पढ़े: Career In Law After 12th-Graduation

डिग्री और डिप्लोमा में मूल अंतर

क्रम सं० डिग्री डिप्लोमा
1. डिग्री को ज्ञान–उन्मुख पाठ्यक्रम माना जाता है। डिप्लोमा को कौशल उन्मुख पाठ्यक्रम माना जाता है।
2. डिग्री में सिद्धांत पर ज्यादा जोर दिया जाता है और मजबूत बुनियादी बातों पर केंद्रित होता है। डिप्लोमा में सैद्धांतिक पहलुओं की बजाय प्रायोगिक कार्य पर अधिक जोर दिया जाता है।
3. ज्ञानोन्मुख होनें के कारण पाठ्यक्रम अपडेट तो किया जाता है, लेकिन अन्य कि तरह लगातार नहीं। तकनीकोन्मुख होनें के कारण कोर्स का पाठ्यक्रम अधिक अप–टू–डेट माना जाता है।
4. इंटर्नशिप और औद्योगिक दौरे पाठ्यक्रम का अनिवार्य हिस्सा हो सकते हैं। इंटर्नशिप और औद्योगिक दौरे पाठ्यक्रम का अनिवार्य हिस्सा होते हैं।
5. आमतौर पर विश्वविद्यालय इंजीनियरिंग साथ अन्य डिग्रियां (जैसे विज्ञान, कला, शिक्षा आदि) भी कराते हैं। आमतौर पर डिप्लोमा सिर्फ व्यवसाय से सम्बंधित होते हैं और विश्वविद्यालय के अतिरिक्त दूसरें संस्थान प्रदान करतें हैं |

ये भी पढ़े: ऑडियोलॉजी में करियर कैसे बनाएं, कहाँ से करे कोर्स

यहाँ पर हमनें आपको डिग्री और डिप्लोमा में क्या अंतर के विषय में बताया हैं, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहें है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: Current Affairs की तैयारी कैसे करे

ये भी पढ़े: कम समय में सही निर्णय कैसे ले

ये भी पढ़े: कैसे भरे सरकारी नौकरियों के ऑनलाइन फॉर्म