सभासद क्या होता है?

सभासद से सम्बंधित जानकारी (Information About Sabhasad)

भारत में स्थानीय प्रशासन के लिए नगर पालिका का गठन किया जाता है | इसका गठन शहरी क्षेत्र के प्रशासन को संचालित करने के लिए किया जाता है| नगर पालिका में कई महत्वपूर्ण पद होते जो अपने दायित्वों का निर्वहन करते है और व्यवस्था को संचालित करते है | इसमें सभासद का पद बहुत ही महत्वपूर्ण होता है | इस पेज पर सभासद के विषय में जानकारी दी जा रही है|

ये भी पढ़ें: पार्षद क्या है कैसे बने ?

ये भी पढ़ें: भारत में चुनाव कितने प्रकार के होते हैं?

सभासद क्या होता है (What is Sabhasad)?

नगर को वार्डों में विभाजित किया जाता है | नगर की जनसँख्या के आधार पर एक या एक से अधिक वार्डों के लिए एक सभासद का पद निर्धारित किया जाता है | यह सभासद अपने क्षेत्र में रहनें वाले लोगो का प्रतिनिधित्व करते है, और उनकी समस्याओं को हल करने का प्रयास करते है |

ये भी पढ़ें: नई राजनीतिक पार्टी (Political Party) कैसे बनाये

सभासद बननें हेतु योग्यता (Ability)

  • वह भारत का नागरिक होना चाहिए |
  • व्यक्ति की आयु 21 वर्ष पूरी हो चुकी हो |
  • उस व्यक्ति का नाम वार्ड की निर्वाचक नामावली में पंजीकृत हो |
  • वह भारत में किसी भी नगर निगम का कर्मचारी न हो |
  • उसे पहले कभी चुनाव लड़ने के लिए अयोग्य घोषित नहीं किया गया हो |

ये भी पढ़े: भारत में महिलाओ के अधिकार 

ये भी पढ़े: ग्राम प्रधान कैसे बने, चुनाव कैसे होता है

सभासद के कर्तव्य और अधिकार (Duties and Authority)

  • एक सभासद पूर्ण रूप से नगर पालिका के कल्याण और हितों के लिए कार्य करता है |
  • सभासद परिषद की बैठकों, परिषद समिति की बैठकों और अन्य संबंधित निकायों की बैठकें में भाग लेता है |
  • वह नगर पालिका के कार्यक्रमों और नीतियों के विकास और मूल्यांकन में भाग लेता है |
  • वह जनहित के मुद्दों को परिषद की बैठकों में आत्मविश्वास के साथ रखने में सक्षम रहता है |
  • वह नगर पालिका के संचालन और प्रशासन से संबधित मुख्य प्रशासनिक अधिकारी से सभी प्रकार की जानकारी को प्राप्त करता है |

ये भी पढ़े: क्या है देश के राष्ट्पति के अधिकार 

ये भी पढ़े: ब्लाक प्रमुख (Block Pramukh) का चुनाव कैसे होता है

सभासद का वेतन (Salary)

सभासद का वेतन 10 हजार रुपये प्रतिमाह प्रदान किया जाता है, इसके अतिरिक्त उन्हें प्रति बैठक एक हजार रुपये प्रदान किया जाता है, राज्य के नियमानुसार इसमें परिवर्तन हो सकता है |

सभासद का चुनाव कैसे होता है (How is The Sabhasad Elected)

सभासद का चुनाव राज्य निर्वाचन आयोग के द्वारा आयोजित कराया जाता है | प्रत्येक पांच वर्ष में एक बार निकाय चुनाव का आयोजन होता है | यदि आप सभासद बनना चाहते है, तो आपको निर्वाचन आयोग के द्वारा निर्धारित नियमानुसार पर्चा भरकर निकाय चुनाव में भाग लेना होगा | चुनाव आयोग के द्वारा आपको एक चिन्ह प्रदान कर दिया जायेगा | इसके बाद आप अपने क्षेत्र में चुनाव प्रचार कर सकते है | यदि आपके क्षेत्र की जनता आपको निर्वाचित करती है, तो आप सभासद के पद पर कार्य कर सकते है |

ये भी पढ़े: जानिये क्या है भारत के नागरिक के मौलिक अधिकार 

ये भी पढ़े: चुनाव आयोग क्या है (Election Commission Kya Hai)

यहाँ पर हमनें सभासद का वेतन, अधिकार, कर्तव्य, और चुनाव के विषय में बताया है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: लोकसभा में कितनी सीटें हैं ?

ये ये भी पढ़े: विपक्ष का नेता (Opposition Leader) कौन होता है?

ये भी पढ़े: केंद्र सरकार (Central Government) क्या है, कैसे बनती है

ये भी पढ़े: प्रधानमंत्री (PM), मुख्यमंत्री (CM), सांसद (MP), विधायक (MLA) का वेतन कितना है