प्रधानमंत्री रोजगार सृजन (पीएमईजीपी) योजना

पीएमईजीपी योजना की पूरी जानकारी (Information About PMEGP Scheme) 

हमारे देश में बेरोजगारी की समस्या सबसे बड़ी समस्या है| बेरोजगारी के कारण प्रतिस्पर्धा निरंतर बढ़ती जा रही है| देश के बेरोजगार लोगो को रोजगार के लिए सरकार द्वारा द्वारा कई योजनाओं का संचालन किया जा रहा है, लोगो की अपना व्यवसाय शुरू करनें के लिए सरकार द्वारा धन भी उपलब्ध कराया जा रहा है| यदि  आप नौकरी के बजाए अपना स्वयं का व्यवसाय शुरू करना चाहते हैं और आपके पास पूंजी नहीं है, तो आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है। यदि आपके पास स्किल हैं और आपने बिजनेस को आगे की प्लानिंग की है, तो पूंजी आपके काम में बाधा नहीं बनेगी, क्योंकि इसके लिए सरकार आपकी मदद करेगी।

ये भी पढ़े: उत्तर प्रदेश बेरोजगार भत्ता (UP Berojgari Bhatta)

ये भी पढ़े: राजस्थान बेरोजगारी भत्ता, राशि, योग्यता

भारत सरकार द्वारा प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम (पीएमईजीपी) योजना के माध्यम से आप अपना काम शुरू कर सकते है|  इस योजना के अंतर्गत सरकार आपको लोन देगी, परन्तु इसके लिए कुछ शर्तें निर्धारित की गई हैं, जिसे आपको पूरा करना होगा। इस योजना के तहत आपको अपने बिजनेस प्लान, उसकी रणनीति और आगे बढ़ाने के लिए स्किल की पूरी तैयारी रखनी होगी। प्रधानमंत्री रोजगार सृजन (पीएमईजीपी) योजना क्या है ? इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है|

ये भी पढ़े: mprojgar.gov.in, मध्य प्रदेश बेरोजगारी भत्ता योजना

प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना क्या है (PMEGP Yojna Kya Hai)

पीएमईजीपी अर्थात प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम को सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्योग मंत्रालय (MSMEs) द्वारा वर्ष 2008 में शुरू किया गया है। पीएमईजीपी के अंतर्गत राष्ट्रीयकृत बैंक नई परियोजनाएं शुरू करने के लिए उद्यमियों को ऋण और कार्यशील पूंजी प्रदान करते हैं। भारत की केंद्र सरकार ने मौजूदा दो योजनाओं अर्थात प्रधानमंत्री रोजगार योजना (PMRY) और ग्रामीण रोजगार सृजन कार्यक्रम (REGP) को मिलाकर प्रधानमंत्री रोजगार सृजन योजना शुरू की गयी है।

प्रधानमंत्री रोजगार योजना को देश के युवाओं के लिए तैयार किया गया है। देश की शिक्षित आबादी को अपना स्वरोजगार शुरू करने में मदद करने के उद्देश्य से इस योजना की शुरुआत की गई है। इस योजना के अंतर्गत आपको लोन के लिए अधिक भागदौड़ करने की जरूरत नहीं है। इस ऋण योजना का उद्देश्य विनिर्माण, व्यापार, सेवा या व्यापार उद्यम शुरू करने के एकमात्र उद्देश्य के लिए भारत के शिक्षित लेकिन बेरोजगार युवाओं को सब्सिडी वाले वित्त सहायता देना है।

ये भी पढ़े: किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (KVPY) क्या है?

पीएमईजीपी योजना का उद्देश्य (Purpose Of PMEGP Scheme)

केंद्र सरकार इस योजना के माध्यम से युवाओं में स्वरोजगार को बढ़ावा देना चाहती है| सरकार का उद्देश्य है कि लोग ग्रामीण, कस्बाई या शहरी इलाके में छोटे-छोटे कारोबार शुरू कर एक तरफ जहां अपने जीवनयापन के लिए साधन बना सकते हैं वहीं इसमें काम पर दो-चार लोगों को लगाकर उनकी जीविका का साधन भी बना सकते हैं| इस योजना के अंतर्गत सरकार परियोजना लागत का 90% तक ऋण प्रदान करती है। यह ऋण राष्ट्रीयकृत बैंकों द्वारा स्वीकृत किए जाते हैं। यह ऋण केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित रियायती ब्याज दरों पर सावधि ऋण और कार्यशील पूंजी के रूप में बैंकों द्वारा प्रदान किए जाते हैं।

सरकार ग्रामीण और शहरी क्षेत्रों में रोजगार के अधिक अवसर प्रदान करना चाहती है। केंद्र सरकार राष्ट्र के युवाओं को अपना स्टार्टअप शुरू करने के लिए कई सुनहरे अवसर प्रदान करके उन्हें सशक्त बनाना चाहती है। पीएमईजीपी योजना इन स्टार्टअप के अवसरों में से एक है, जो उद्यमियों को अपना व्यवसाय शुरू करने में मदद करेगा।

ये भी पढ़े: (योगी) उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना (Swarojgar Yojana)

योजना का संचालन (Scheme Opreation)

भारत सरकार का सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम मंत्रालय (MSME) संचालित करता है। 15 अगस्त 2008 को यह योजना लांच की गई थी। केंद्र सरकार का खादी एवं ग्राम उद्योग आयोग (KVIC) इस योजना की नोडल एजेंसी (प्रमुख केंद्र) है। राज्यों में, यह विभिन्न संस्थाओं के माध्यम से युवाओं को अपना रोजगार स्थापित करने में मदद करता है, जो इस प्रकार है-

  • राज्य खादी एवं ग्राम उद्योग निदेशालय (State Khadi and Village Industries Board)
  • जिला उद्योग केंद्र (District Industries Centres)
  • बैंक और गैर बैंकिंग वित्तीय संस्थाएं | (Banks and NBFCs)

ये भी पढ़े: मुख्यमंत्री (CM) को पत्र कैसे लिखे, शिकायत, प्रार्थना पत्र 

पीएमईजीपी योजना के लिए पात्रता (Eligibility For Scheme)

  • इस योजना का लाभ पाने के लिए आपको 18 से 35 साल के बीच का होना चाहिए। महिलाओं, एससी / एसटी, पूर्व सैनिकों और शारीरिक रूप से विकलांगों के लिए 10 साल की उम्र में छूट है।
  • विनिर्माण क्षेत्र में 10 लाख रुपये से अधिक लागत की परियोजना और व्य वसाय/सेवा क्षेत्र में 5 लाख रुपये से अधिक की परियोजना के लिए शैक्षणिक योग्यलता के तौर पर लाभार्थी को आठवीं कक्षा उत्तीरर्ण होना चाहिए ।
  • इस योजना के लिए उत्तर-पूर्वी राज्यों के नागरिकों के लिए आयु वर्ग की सीमा 18 से 40 वर्ष है। इसके अलावा आपको कम से कम 3 वर्षों के लिए अपने क्षेत्र के स्‍थायी निवासी होना चाहिए। अगर आप कम से कम 8वीं पास हैं तो आप लोन के लिए योग्य हैं।
  • पत्‍नी/पति और माता-पिता के साथ हिताधिकारी की आय 40,000 रु. से अधिक नहीं होनी चाहिए।
  • पीएमईजीपी के अंतर्गत योजना के तहत सहायता केवल विशिष्ट नई स्वीतकार्य परियोजना के लिए ही उपलब्धक है|
  • स्वयं सहायता समूह और धर्मार्थ ट्रस्ट
  • सोसायटी पंजीकरण अधिनियम- 1860 के तहत पंजीकृत संस्थान
  • उत्पादन आधारित सहकारी समितियाँ

ये भी पढ़े: प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना क्या है

ये भी पढ़े: क्या है प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना

कैसे और कितनी मिलेगी मदद (What Assistance You Get)

  • उत्पादन आधारित उद्योग लगाने के लिए अधिकतम 25 लाख रुपए तक की लागत वाले उद्यम या कारोबार स्थापित किए जा सकते हैं।
  • बिजनेस या सेवा क्षेत्र आधारित उद्यम के लिए 10 लाख रुपए तक का लोन मिल सकता है।
  • कुल स्वीकृत लोन का कुछ प्रतिशत सरकार चुकाएगी (सब्सिडी के रूप में शुरुआत में ही)। बाकी पैसा बैंक की ओर से term loan के रूप में मिलेगा। सरकार की ओर से भुगतान का प्रतिशत इस प्रकार है-

सामान्य श्रेणी के आवेदक (General category)

  • 15% – शहरी क्षेत्र के सामान्य आवेदकों के लिए
  • 25% – ग्रामीण क्षेत्र के सामान्य आवेदकों के लिए

पिछडे वर्गों के आवेदक (महिला/ SC/ ST/ OBC/ अल्पसंख्यक /शारीरिक विकलांग / Ex-servicemen/ पहाडी व ​सीमा क्षेत्रों के निवासी)

  • 25% – शहरी क्षेत्र के पिछडे आवेदकों के लिए
  • 35% – ग्रामीण क्षेत्र के पिछडे आवेदकों के लिए

ये भी पढ़े: क्या है स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया

पीएमईजीपी हेतु आवश्यक दस्तावेज़ (Documents)

लोन की ब्याज दर और भुगतान अवधि (Loan interest rate and repayment period)

पीएमईजीपी लोन भी बिजनेस लोन की तरह होगा, इसमें सरकार से सब्सिडी मिलने के कारण लोन की मात्रा कम हो जाएगी। इससे आपकी किस्तें कम पैसों की बनती हैं। बिजनेस लोन की ब्याज दर उस बैंक या वित्तीय संस्था के नियम के हिसाब से होगा, जहां से आपका लोन स्वीकृत होगा। सामान्यत: यह 11-12% वार्षिक दर से शुरू होती हैं।

ये भी पढ़े: आयुष्मान भारत योजना रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन कैसे करे

पीएमईजीपी योजना ऑनलाइन आवेदन कैसे करे (Online Apply)

1.इस योजना के अंतर्गत ऋण प्राप्त करनें हेतु आप दिए गये लिंक पर  https://www.kviconline.gov.in/pmegpeportal/jsp/pmegponline.jsp  क्लिक करे|

2.यदि आप स्वयं फार्म फिल करना चाहते है तो Individual पर क्लिक करे

3.अब आपको यहाँ मांगी गयी सभी जानकारी भरे , और पूरा फार्म भरनें के बाद Save Applicant Data पर क्लिक करे

4.Save Applicant Data पर क्लिक करते ही आपके सामनें एक नई विंडो खुलेगी

5.इस फार्म में मांगी गयी सभी जानकारी और डाक्यूमेंट्स अपलोड कर ok पर क्लिक करे| यदि आप अपने फार्म को चेक करना चाहते है, तो आपको पुनः main पेज पर जाना होगा और  Download Model Projects पर क्लिक करे

6.अब आपको Login Form पर क्लिक करना है|

7.यदि आपके पास User Id नही है तो आप Forget Password पर क्लिक करे

8. यहाँ आप आधार और रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से लॉग इन कर सकते है, और अपने फार्म का विवरण प्राप्त कर सकते है|

9.यहाँ पर आपको आपके फार्म की स्थिति के बारें में पूरी जानकारी प्राप्त कर सकते है|

यहाँ पर हमनें आपको प्रधानमंत्री रोजगार सृजन (पीएमईजीपी) योजना के विषय में बताया, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहें है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: जानिये PM मोदी द्वारा सरकारी योजनाएं !

ये भी पढ़े: प्रधान मंत्री को पत्र कैसे लिखे

ये भी पढ़े: क्या है कर्मचारी पेंशन योजना