उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री शिक्षुता (अप्रेंटिस) प्रोत्साहन योजना

मुख्यमंत्री शिक्षुता (अप्रेंटिस) प्रोत्साहन योजना से संबंधित जानकारी

उत्तर प्रदेश सरकार ने बजट सत्र 2020-21 में युवाओं के लिए विशेष स्थान दिया है | सरकार द्वारा पेश किये गए इस बजट में प्रदेश के युवाओं की शिक्षा, स्किल डेवलपमेंट करने के लिए, और रोजगार देने पर विशेष फोकस किया है | इस बजट में बेरोजगार युवाओं को उद्योगों में प्रशिक्षण के साथ-साथ प्रतिमाह प्रशिक्षण भत्ता देने की भी घोषणा की गई है | युवाओं को रोजगार देने के लिए सरकार ने उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री शिक्षुता (अप्रेंटिस) प्रोत्साहन योजना की शुरुआत करने जा रही है, जिससे प्रदेश के युवाओं को रोजगार के क्षेत्र में भविष्य नई दिशा में अग्रसर होगा, और इसी के साथ सरकार 2500 रूपये मासिक भत्ता (अप्रेंटिस) प्रोत्साहन के तौर पर छात्र को दिए जायेंगे | यदि आप भी उत्तर प्रदेश मुख्यमंत्री शिक्षुता (अप्रेंटिस) प्रोत्साहन योजना और 2500 रूपये मासिक भत्ता के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो यहां पर इसकी जानकारी प्रदान की जा रही है |

स्कॉलरशिप ऑनलाइन आवेदन कैसे करे

2500 रूपये मासिक भत्ता

उत्तर प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश खन्ना ने विधानसभा में सत्र 2020- 21 का बजट पेश करते हुये जानकारी दी कि प्रदेश के युवाओं को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए पूरे राज्य में ‘मुख्यमंत्री शिक्षुता प्रोत्साहन योजना’ (CMAPS) तथा ‘युवा उद्यमिता विकास अभियान’ (YUVA) योजना की शुरुआत की जायेगी |

इस योजना के तहत युवाओं को उद्योगों में प्रशिक्षण देने के साथ मासिक प्रशिक्षण भत्ता देने का प्रावधान रखा गया है। भत्ते की राशि में 1500 रुपए महीना की धनराशि केंद्र सरकार द्वारा तथा 1000 रुपए महीना राज्य सरकार द्वारा व शेष राशि उद्योग द्वारा दिए जाने की योजना बनाई गई। ‘मुख्यमंत्री शिक्षुता प्रोत्साहन योजना’ के संचालन से राज्य के उद्योगों को कारीगर व युवाओं को प्रशिक्षण के साथ रोजगार भी प्राप्त हो सकेगा। इस योजना को चलाने के लिए 100 करोड़ रुपए की बजट में व्यवस्था की गई है।

जानिये PM मोदी द्वारा सरकारी योजनाएं !

‘युवा हब’ का प्रत्येक जिले में होगा निर्माण

उत्तर प्रदेश के प्रत्येक जिले में युवा हब का निर्माण किया जायेगा | जिसके द्वारा युवाओं को परियोजना में वित्तीय सहायता के साथ संचालन में भी मदद प्रदान करेगा। बजट के अनुसार 1200 करोड़ रुपए की धनराशि, जो युवाओं को रोजगार देने में खर्च की जाएगी, जो सरकार द्वारा बनाये गए युवा हब के माध्यम युवाओं तक पहुंचाई जाएगी। उत्तर प्रदेश सरकार की इस योजना के द्वारा लगभग एक लाख युवाओं को स्वावलंबी बनाने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। प्रत्येक जिले में युवा हब बनाने के लिए लगभग 50 करोड़ रुपए की व्यवस्था की गई है। जिसके अंतर्गत लघु उद्योग, खादी एवं ग्रामोद्योग आदि क्षेत्रों में युवाओं को जोड़ने हेतु मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना, मुख्यमंत्री ग्रामोद्योग रोजगार, विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना, प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम तथा ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे युवाओं के लिए विशेष रोजगार योजना संचालित किये जाने की योजना बनाई गई।

क्या है स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया

सहारनपुर, आजमगढ़ और अलीगढ़ में यूनिवर्सिटी का होगा निर्माण

उत्तर प्रदेश में 3 नए राज्य विश्वविद्यालयों (University) का निर्माण किया जायेगा। जिसमें सहारनपुर, आजमगढ़ और अलीगढ़ शहरों में ये विश्वविद्यालय बनाये जायेंगे। इसके अतरिक्त यूपी में पुलिस फॉरेंसिक यूनिवर्सिटी की भी स्थापना करना प्रस्तावित किया गया है।

इंजीनियरिंग कॉलेज, आयुष विश्वविद्यालय और लॉ यूनिवर्सिटी का निर्माण

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज जिले में लॉ यूनिवर्सिटी (Law University) और गोरखपुर में आयुष विश्वविद्यालय (Ayush University) की स्थापना होगी। मिर्जापुर, प्रतापगढ़, बस्ती और गोंडा जिलों में इंजीनियरिंग कॉलेज बनाये जायेंगे। इसके अलावा उत्तर प्रदेश में 18 जिलों में अटल आवासीय विद्यालय की भी स्थापना की जा रही है। इसके लिए 270 करोड़ रुपए की अलग से व्यवस्था की गई है।

 मेडिकल-इंजीनियरिंग के अलावा ये कोर्स दे सकते है रोज़गार 

यहाँ पर हमनें मुख्यमंत्री शिक्षुता (अप्रेंटिस) प्रोत्साहन योजना के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई गई है| यदि इस जानकारी से रिलेटेड आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है | अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे पोर्टल kaiseinhindi.com पर विजिट करते रहे |

पशुपालन लोन किस योजना के अंतर्गत ले