धनतेरस पर धन प्राप्ति के उपाय

धनतेरस पर धन प्राप्ति के उपाय 

भारत में दीपावली के पांच दिवसीय पर्व में धनतेरस एक प्रमुख दिन है, इस दिन को धन की वर्षा के रूप में जाना जाता है, धनतेरस का अर्थ है, कि धन को तेरह गुना करना | इस दिन को धन में वृद्धि करने के रूप में मान्यता प्राप्त है, इस दिन सोने-चाँदी के आभूषण को खरीदना शुभ माना जाता है, इस दिन भगवान धनवंतरि का जन्म हुआ था | इन्हें पीतल की धातु पसंद है, इसलिए इस दिन पीतल के बर्तन को खरीदने को अच्छा माना जाता है, इस पेज पर धनतेरस पर धन प्राप्ति के उपाय के विषय में जानकारी दी जाती है |

ये भी पढ़े: धनतेरस कब है (सम्पूर्ण जानकारी ) 

ये भी पढ़े: धनतेरस पर क्या खरीदना चाहिए

धनतेरस पर धन प्राप्त करनें के तरीके 

धनतेरस पर धन प्राप्ति का उपाय

1.धनतेरस की शाम को माता लक्ष्मी की पूरे विधि-विधान से पूजा करनी चाहिए, इसके बाद माता लक्ष्मी के चरणों में सात लक्ष्मीकारक कौडिय़ां अर्पित करे | आधी रात के पश्चात उन कौडिय़ों को घर के किसी कोने में गाड़ दें, इससे जल्द ही आर्थिक उन्नति होने के योग बनने लगेंगे |

2.धन लाभ प्राप्त करने के लिए कुबेर यंत्र अत्यधिक सहायता करता है, धनतेरस या दीपावली के दिन बिल्व-वृक्ष के नीचे बैठकर इस यंत्र को सामने रखकर कुबेर मंत्र को शुद्धता पूर्वक जाप करने से धन प्राप्ति के योग बनते है | इसके बाद इस यंत्र को धन रखने वाले स्थान या तिजोरी में रखना चाहिए | इससे दरिद्रता का नाश होकर, प्रचुर धन व यश की प्राप्ति होती है |

मन्त्र

‘ऊँ यक्षाय कुबेराय वैश्रवणाय धन्य धन्याधिपतये धन धान्य समृद्धि में देहित दापय स्वाहा’ 

3.धनतेरस या दीपावली पर महालक्ष्मी यंत्र का पूजन करना चाहिए विधि के अनुसार इसकी पूजा करके इसकी स्थापना करना चाहिए | इस यन्त्र का प्रयोग कम समय में धन वृद्धि के लिए किया जाता है, इसे स्वर्ण वर्षा करने वाला यंत्र भी कहा जाता है |

4.पुराने चांदी के सिक्के और कौड़ी व रूपये के साथ माता लक्ष्मी की पूजा करना चाहिए | पूजा केसर और हल्दी से करनी चाहिए | पूजा के पश्चात इन्हें तिजोरी में स्थापित कर दे | इससे धन वृद्धि होती है |

ये भी पढ़े: अमेज़न (Amazon) से शॉपिंग (Shopping) कैसे करे

5.धनतेरस की शाम को घर के ईशान कोण में गाय के घी का दीपक जलाये, दीपक में बत्ती के रूप में रुई के स्थान पर लाल रंग के धागे का प्रयोग करें, दीपक में थोड़ी सी केसर भी डाल दें | इस उपाय का प्रयोग करने पर धन के आगमन का रास्ता साफ़ हो जाता है |

6.धन प्राप्ति व दरिद्रता दूर करने के लिए श्रीकनकधारा अचूक यंत्र है, इसकी पूजा करने से मन की इच्छा पूरी होती है | यह अष्टसिद्धि व नवनिधियों को देने वाला यंत्र है | इस यन्त्र की पूजा व स्थापना धनतेरस या दीपावली के दिन की जाती है, आप इसके प्रयोग से धन प्राप्त कर सकते है |

7.धनतेरस या दीपावली की रात को शुद्धता के साथ स्नान करने के बाद पीली धोती को पहनना चाहिए | इसके बाद एक स्थान पर  उत्तर की ओर मुंह करके बैठना चाहिए | अब अपने सामने  सिद्ध लक्ष्मी यंत्र को स्थापित करें | इसके बाद विष्णु मंत्र का उच्चारण करे और साथ ही स्फटिक माला से नीचे लिखे मंत्र का 21 माला जाप करें | मंत्र जाप करते समय मध्य में उठे नहीं चाहे आपको घुंघरुओं की आवाज सुनाई दे या साक्षात लक्ष्मी जी ही दिखाई दे |

ये भी पढ़े: दीपावली में फ्लिपकार्ट से शापिंग कैसे करे 

मंत्र

“ऊँ श्रीं ह्रीं श्रीं ऐं ह्रीं श्रीं फट्”

यदि आप इस तरह से विधि-विधान पूर्वक इसे संपन्न कर लेते है, तो माता लक्ष्मी प्रसन्न हो जाती हैं और साधक को मालामाल कर सकती हैं |

धनतेरस का मतलब

दीपावली पर्व के दो दिन पहले धनतेरस मनाया जाता है | इस दिन लक्ष्मी-गणेश और कुबेर जी की पूजा की जाती है | धनतेरस का अर्थ है कि धन को तेरह गुणा करना या धन में वृद्धि करने का दिन | धनतेरस के दिन ही भगवान धनवन्‍तरी का जन्‍म हुआ था | इनका जन्म समुन्‍द्र मंथन के समय हुआ था | यह अपने साथ अमृत का कलश व आयुर्वेद लेकर प्रकट हुए थे, इसलिए भगवान धनवंतरि को औषधी के जनक के रूप में जाना जाता है |

ये भी पढ़े: दीपावली शुभकामना सन्देश 

धनतेरस का महत्त्व

धन्त्रस का महत्व

सम्बंधित जानकारी (Related Links)

‘हिंदू कैलेंडर के अनुसार धनतेरस कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी को मनाया जाता है | धनतेरस में  ‘धन’ का मतलब समृद्धि और ‘तेरस’ का अर्थ तेरहवां दिन होता है | व्यापारियों के लिए धनतेरस का विशेष महत्त्व होता है |  धनतेरस के दिन सोने-चांदी के बर्तन खरीदना शुभ माना जाता है, इस दिन शुभ अवसर पर लोग नयी-नयी वस्तुएं खरीदते है, इस दिन शाम को 13 दिए जला कर लक्ष्मी जी की पूजा की जाती है | इस दिन को धन वृद्धि के रूप में माना जाता है, सम्पूर्ण भारत में इस दिन का विशेष महत्व है |

यहाँ पर हमनें आपको धनतेरस के विषय में बताया, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: भारत की राष्ट्रभाषा क्या है ?

ये भी पढ़े: विश्व मे कितने देश है, इनकी राजधानी एवं मुद्रा

ये भी पढ़े: Interesting Facts & Articles in Hindi (बात काम की)