नगर निगम में शिकायत कैसे करें

नगर निगम में शिकायत करनें के लिए क्या करे  

नगर निगमों का गठन पंचायती राज व्यवस्था के निगम अधिनियम,1835 के तहत किया जाता है, जो शहरों को आवश्यक सामुदायिक सेवाएं प्रदान करते हैं। नगर अध्यक्ष नगर निगम का प्रमुख होता है। निगम प्रभारी नगर आयुक्त के अधीन होता है। निगम के विकास की योजना बनाने से संबंधित कार्यक्रमों की निगरानी और कार्यान्वयन करने का कार्य नगर अध्यक्ष और सभासद के साथ-साथ कार्यकारी अधिकारी का भी होता है। सभासदों की संख्या भी शहर के क्षेत्र और आबादी की संख्या पर निर्भर करती है। सबसे बड़े निगम भारत के चार मेट्रोपॉलिटन शहर दिल्ली, मुंबई, कोलकाता और चेन्नई हैं। नगर निगम में शिकायत करनें के बारें में  आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है| 

ये भी पढ़े: ncw.nic.in राष्ट्रीय महिला आयोग में शिकायत कैसे करें

ये भी पढ़े: मुख्यमंत्री (CM) को पत्र कैसे लिखे, शिकायत, प्रार्थना पत्र

नगर निगम क्या है (Nagar Nigam Kya Hai)

शहरी स्थानीय सरकार जो दस लाख से अधिक आबादी वाली महानगर के विकास के लिए कार्य करती है, उसे भारत के नगर निगम के रूप में जाना जाता है। नगर निगम के सदस्य सीधे लोगों द्वारा चुने जाते हैं, इन्हें सभासद कहा जाता है। भारतवर्ष की स्थानीय संस्थाओं को मुख्य रूप से दो श्रेणियों में रखा जा सकता है, जो इस प्रकार है- 

  • नगरों की देखभाल करने वाली संस्थाएँ
  • ग्रामीण क्षेत्रों की देख-रेख करने वाली संस्थाएँ

नगरों को देखभाल करने वाली संस्थाओं का वर्गीकरण कुछ इस प्रकार से किया जा सकता है

  • नगर निगम (Municipal Corporation)
  • नगरपालिका (Municipal Board)
  • नगर-क्षेत्र व सूचित क्षेत्र समितियाँ (Town Area and Notified Area Committees)

ये भी पढ़े: कैसे करे उपभोक्ता फोरम में शिकायत दर्ज़ 

नगर निगम का इतिहास (History Of Muncipal Corrporation)

नगर निगम को ही सिटी कारपोरेशन या महानगर पालिका या महानगर निगम (Municipal Corporation) कहते हैं| भारत में पहला नगर निगम भारत में 1687 में बॉम्बे और दिल्ली नगर निगम से पहले मद्रास में स्थापित किया गया था। इसके बाद 1726 में कलकत्ता और बॉम्बे नगर निगम के गठन के बाद से अस्तित्व में है। उन्नीसवीं शताब्दी के शुरुआती भाग में भारत के लगभग सभी शहरों में नगरपालिका शासन के कुछ रूप में अनुभव किये गए थे। 1882 में भारत के तत्कालीन वायसराय लॉर्ड रिपन, जिन्हें स्थानीय स्व-सरकार के पिता के रूप में जाना जाता है, उन्होंनें  स्थानीय स्वशासन का प्रस्ताव पारित किया, जिसने भारत में नगरपालिका शासन के लोकतांत्रिक रूपों को स्थापित किया। 

1991 की भारत की जनगणना के अनुसार, देश में 3255 शहरी स्थानीय निकाय (ULB) थे। नगर निगम और नगरपालिका पूरी तरह से प्रतिनिधि निकाय हैं, जबकि अधिसूचित क्षेत्र समितियां और नगर क्षेत्र समितियां या तो पूरी तरह से या आंशिक रूप से नामांकित निकाय हैं। भारत के संविधान के अनुसार, 1992 के 74 वें संशोधन के बाद अधिनियम, शहरों को दो श्रेणियों को निर्वाचित निकायों के साथ नगर पालिकाओं या नगर पंचायतों के रूप में नामित किया गया है।

ये भी पढ़े: ऑनलाइन शिकायत कैसे दर्ज करे

नगर निगम में शिकायत हेतु टोल फ्री नम्बर (Tollfree Number)

नगर निगम में शिकायत दर्ज कराने में अब फोन का बिल नहीं बढ़ेगा। नगर निगम ने टोल फ्री नम्बर (9115323232) लांच किया है। इसके अतिरिक्त दूरभाष संख्या 0522-2307770, 0522-2307782 तथा 0522-2307783 पर भी शिकायत दर्ज करा सकते है । इस नम्बर पर नगर निगम से जुड़ी सभी समस्याएं दर्ज होंगी।

ये भी पढ़े: Online FIR कैसे दर्ज करे

ऑनलाइन शिकायत कैसे करे (Online Complaint)

  • ऑनलाइन शिकायत करनें के लिए https://lnnpgrs.in/ पर क्लिक करे

  • यहाँ आपको एक सूची दिखेगी जिससे सम्बंधित शिकायत करना चाहते है  उस पे क्लिक करे अब आप अर्थात शिकायतकर्ता से सम्बंधित जानकारी अंकित करे

  • पूरी जानकारी दर्ज करनें के बाद सुरक्षित करे पर क्लिक करे
  • अब आपके द्वारा दिए गये मोबाइल नंबर पर एक मेसेज आयेगा, जिसमें कंप्लेंट नंबर दिया होगा| इसे आप सुरक्षित कर ले|
  • आप दिए गये कंप्लेंट नंबर की सहायता से यह जानकारी प्राप्त कर सकते है, कि आपको कंप्लेंट की स्थिति क्या है|  

ये भी पढ़े: प्रधान मंत्री को पत्र कैसे लिखे

यहाँ पर हमनें नगर निगम में शिकायत कैसे करनें के बारे में बताया | यदि इस जानकारी से सम्बंधित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है | अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे पोर्टल kaiseinhindi.com पर विजिट करते रहे |

ये भी पढ़े: सूचना का अधिकार (RTI) क्या है

ये भी पढ़े: ऑनलाइन मुकदमा कैसे दर्ज कराएं (यूपी कॉप सिटीजन एप्प)

ये भी पढ़े: ऑनलाइन जानें आपका आधार कार्ड कहां इस्तेमाल हुआ ?