कट ऑफ (Cut Off) क्या है, कैलकुलेट (Calculate)

कट ऑफ (Cut Off) 

प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी करने वाले अभ्यर्थी कट ऑफ शब्द से परिचित होते है, क्योंकि उनका चयन इसी कट ऑफ के अंदर अंक प्राप्त करने पर होता है | साधारण व्यक्ति इस शब्द से परिचित नहीं होते है, इसलिए उनको समझने के लिए प्रतियोगिता के स्तर और सफल अभ्यर्थी के विषय में सही जानकारी होनी आवश्यक है, यदि आप इसके विषय में नहीं जानते है, तो इस पेज पर कट ऑफ (Cut Off) क्या होता है, इसे कैसे कैलकुलेट (Calculate) करने के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़े: सहायक अध्यापक कैसे बने

ये भी पढ़े: टीचिंग लाइन में कैसे बनाएं करियर 

कट ऑफ (Cut Off) क्या होता है ?

किसी भी परीक्षा में न्यूनतम अंक प्राप्त करने वाले अभ्यर्थी को कितने अंक पर सफल घोषित किया गया है, इसकी जानकारी प्राप्त करने के लिए कट ऑफ का निर्धारण किया जाता है, इसकी साधारण शब्दों में इस प्रकार समझ सकते है, कि वह न्यूनतम अंक जिसको प्राप्त करने के उपरांत अभ्यर्थी का निर्धारित पद के लिए चयन कर लिया जाता है, उसे कट ऑफ कहा जाता है |

ये भी पढ़े: 12th के बाद कैरियर कैसे बनाये

ये भी पढ़े:  प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करे

कट ऑफ (Cut Off) को कैसे कैलकुलेट (Calculate) करते है ?

कट ऑफ की गणना करने के लिए किसी परीक्षा में निर्धारित पदों की संख्या और उस पद के लिए सफल उम्मीदवार और परीक्षा के स्तर के विषय में सही जानकारी होनी चाहिए | जैसे- पीएससी की परीक्षा में 100 पद है तथा नियम के अनुसार इसका 15 गुना अथार्त 1500 अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा में सम्मिलित करना है, तो इसके लिए हमें प्रथम स्थान और 1500 वें अभ्यर्थी को प्राप्त अंकों के विषय में जानकारी होनी चाहिए |

माना की 1500 वें अभ्यर्थी के अंक 85 है, तो इस परीक्षा का कट ऑफ 85 अंक होगा | अथार्त वह सभी अभ्यर्थी जिनके अंक 85 व 85 से अधिक है, वह मुख्य परीक्षा में भाग ले सकते है |

प्रत्येक परीक्षा में सफल उम्मीदवार की संख्या पर ही कट ऑफ का निर्धारण किया जाता है |

ये भी पढ़े:  कॉलेज में लेक्चरर (Lecturer) कैसे बने

ये भी पढ़े:  परीक्षा के लिए Preparation नोट्स कैसे बनाए

कट ऑफ से लाभ

कट ऑफ से लाभ इस प्रकार है |

  • कट ऑफ से किसी भी परीक्षा में केवल योग्य अभ्यर्थी ही सम्मिलित हो पाते है |
  • कट ऑफ से अधिक संख्या में आवेदन करने वाले अभ्यर्थियों में से योग्य अभ्यर्थियों को चुना जाता है |

ये भी पढ़ें: जब पढनें में मन ना लगे तो क्या करे ?

ये भी पढ़ें: सफलता के लिए जरुरी है Focus

ये भी पढ़ें: Reasoning को कैसे बनाये आसान

कट ऑफ से हानि

कट ऑफ से हानि इस प्रकार है |

  • नक़ल होने पर अयोग्य अभ्यर्थी अधिक अंक प्राप्त कर लेते है, जिससे कट ऑफ को उच्च कर दिया जाता है, इस प्रकार से योग्य अभ्यर्थी प्रतियोगिता से पहले ही बाहर कर दिए जाते है |
  • वर्तमान समय में सहायक शिक्षक भर्ती में कट ऑफ न होने से शिक्षा मित्र को भारांक के कारण कम अंक पर भी नियुक्ति प्रदान कर दी जाएगी | जिससे योग्य अभ्यर्थी चयन प्रक्रिया में पहले ही बाहर हो जायेंगे |

ये भी पढ़ें: सरकारी नौकरी मिलेगी जरूर अगर आपका करेंट अफेयर्स होगा मजबूत

यहाँ पर हमनें आपको कट ऑफ के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: ग्राम विकास अधिकारी कैसे बने

ये भी पढ़े: TC या TT कैसे बने

ये भी पढ़ें: कैसे करे अपने दिन की सही शुरुआत

ये भी पढ़ें: शादीशुदा अभ्यर्थी सरकारी नौकरी की तैयारी कैसे कर सकते है ?