कीमोथेरेपी क्या होती है

कीमोथेरेपी से सम्बंधित जानकारी (About Chemotherapy)

कैंसर सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरे विश्व में तेजी से बढ़ रहा है। भारत में पिछले दो दशकों में कैंसर की बीमारी नें लोगो को बहुत तेजी से अपना शिकार बनाया है| आकड़ों के अनुसार वर्तमान समय में देश में लगभग 25.5 लाख से अधिक लोग कैंसर से जूझ रहे हैं| प्रतिवर्ष देश में लगभग 11.5 लाख लोगों में कैंसर का पता चलता है| कैंसर के कारण प्रतिवर्ष लगभग 7.5 लाख लोगों की मौत होती है| कैंसर को नियंत्रित करनें के लिए कीमोथेरेपी को ही सबसे उपयुक्त माना जाता है। आईये जानते है, कि कीमोथेरेपी (Chemotherapy) क्या होती है ?

ये भी पढ़े:Cancer (कैंसर) क्या है?

ये भी पढ़े: हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में क्या अंतर होता है? 

कीमोथेरेपी क्या होती है (What Is Chemotherapy)

कीमोथेरेपी दो शब्दों से मिलकर बना है,  कैमिकल या रसायन और थेरेपी या उपचार। डॉक्टरों के मुताबिक कीमोथेरेपी एक ऐसा औषधीय उपचार है, जो कैंसर की कोशिकाओं को नष्ट करने के लिए दिया जाता है। इनसे ट्यूमर सिकुड़ जाते हैं, और कैंसर शरीर के अन्य भागो में नहीं फैलते। इन ड्रग्स को एण्टी कैंसर ड्रग्स या कीमोथेरेपिक एजेंट भी कहते है | कीमोथेरेपी के दौरान ऐसी दवाओं का प्रयोग किया जाता है, जो कैंसर के सेल्स को खत्म करती हैं। कैंसर के सेल्स को खत्म करने के लिए कीमोथेरेपी भी एक अच्छा तरीका है। किसी शख्स को किस प्रकार की कीमोथेरेपी दी जाए, यह इस बात पर निर्भर करता है,  कि उसे किस प्रकार का कैंसर है? कीमोथेरेपी अकेले या सर्जरी और रेडियोथेरेपी के साथ भी दी जा सकती है ।

ये भी पढ़े: अस्थमा क्या है?

कीमोथेरेपी कई तरीकों से दी जा सकती हैं, परन्तु इसे देने की तीन विधियां सबसे अहम है, जो इस प्रकार है-

  • ड्रिप की सहायता से नस में एक सुई के द्वारा भी यह थेरेपी दी जाती है|
  • एक गोली या द्रव (लिक्विड) के रूप में मुंह के द्वारा भी कीमोथेरेपी दी जाती है|
  • एक छोटे से पम्प के जरिए, जो एक विशेष लाइन द्वारा, जिसे पीआईसीसी या हिकमैन लाइन कहते हैं, कीमोथेरेपी शरीर के अन्दर पहुंचाता है (यह पम्प कमर में बंधे एक छोटे से बैग में रखा होता है)|  

कीमोथेरेपी मुख्य रूप से वेन्स के द्वारा दिये गये ड्रग्स के लिए की जाती है, क्योंकि अधिकांश लोग इन्ट्रावेनस इन्फ्यूजन की प्रक्रिया द्वारा एंटी कैंसर दवा लेते हैं। एक बैग में तरल दवा भरी होती है, उसे एक ट्यूब से जोड़ देते हैं, और उसे वेन्स से जोड़ दिया जाता है। मरीज के शरीर में यह दवा धीरे–धीरे फैल जाती है। कीमोथेरेपी की दवा  शरीर के सभी भाग में फैल जाती हैं। इस प्रक्रिया को सिस्टमिक थेरेपी कहते हैं, क्योंकि कीमोथेरेपी से सूक्ष्म कैंसर के सेल्स भी निकल जाते हैं, जो  एक्स–रे या दूसरे प्रकार की जांच से भी नहीं दिखते। कीमोथेरेपी को वेन्स के द्वारा दिये जाने पर कैंसर के उन सेल्स को समाप्त करने में आसानी होती है जो, कैंसर के मूल स्थान से फैल चुके होते हैं।

ये भी पढ़े: टाईफाइड क्या है ?

कीमोथेरेपी कैसे होती है (How Is Chemotherapy)

शरीर के किसी भी भाग पर ऊतकों में असमान्य रूप से गाँठ के रूप में उभरना कैंसर हो सकता है। इस बीमारी को अलग-अलग श्रेणी में रखा जा सकता है। यह श्रेणियां शरीर के भाग के अनुसार निर्भर करती हैं। सबसे पहले कैंसर का पता लगानें के लिए बायोप्सी की जाती है। इसमें कैंसर का छोटा भाग निकाला जाता है, और फिर उसका परीक्षण किया जाता है। इसे बायोप्सी कहते हैं। यदि गाँठ छोटी होटी है,तो उसे निकाल ली जाती है और बड़ी होनें पर उसका कुछ हिस्सा ही परीक्षण के लिए निकाला जाता है। कैंसर का पता लगाने के बाद जो इलाज किया जाता है, उसमें कीमोथैरेपी प्रमुख है।

ये भी पढ़े:

कीमोथेरेपी के साइडइफेक्‍ट्स (Chemotherapy Side Effects)

कैंसर एक जानलेवा बीमारी है| कीमोथेरेपी से खतरनाक सेल्‍स को नियंत्रित किया जाता है, परन्तु कीमोथेरेपी के दौरान प्रयोग की जाने वाली दवाओं के अन्य प्रभाव भी हो सकते हैं। इनमें से थकान लगना, नींद न आना, उल्टियों का लगातार होना, दस्त आना,  बालों का झड़ना, त्‍वचा पर चकत्ते, खून की कमी होना, आदि। इसके कारण ब्‍लड में इंफेक्‍शन और खून का बहाव भी हो सकता है।

ये भी पढ़े: आयुष्मान भारत योजना रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन कैसे करे

कीमोथेरेपी साइडइफेक्‍ट्स का ईलाज (Treatment Of Chemotherapy Side Effects)

कीमोथेरेपी के साइड-इफेक्‍ट को नियंत्रित करनें के लिए खानपान का सबसे अधिक योगदान होता है। यदि आपको कीमोथेरेपी के कारण उल्‍टी की शिकायत है, तो खाने में अधिक मसालेदार, अधिक नमक युक्‍त तथा तला-भुना आदि खाने से परहेज करना चाहिए। इस‍की जगह पर संतुलित और आसानी से पचने वाला आहार लेना चाहिए।

इसके साथ ही सुबह के समय 40 से 50 मिनट व्‍यायाम, योग और मेडीटेशन करे चूंकि इस समय बालों के गिरने की समस्‍या भी होती है, इसलिए ऐसे में बालों में ड्रायर का प्रयोग बिल्कुल भी ना करें। इसके अलावा धूम्रपान और शराब का सेवन बिलकुल न करें|

ये भी पढ़े: डिप्रेशन से बाहर कैसे निकले?

यहाँ पर हमनें कीमोथेरेपी (Chemotherapy) के बारें में बताया| यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है|

ये भी पढ़े: सुबह खाली पेट में पानी पीने के फायदे

ये भी पढ़े: जीवन बीमा मुआवजा न मिलने के कारण

ये भी पढ़े: आयुष्मान भारत योजना क्या है (हिंदी में जानकारी)