जीवन बीमा मुआवजा न मिलने के कारण

जीवन बीमा मुआवजा (Life Insurance Compensation) के विषय में जानकारी

लगभग सभी लोगों के द्वारा अपने और परिवार के भविष्य के लिए बीमा योजना में पंजीकृत कराया जाता है | भारत में जीवन बीमा निगम के अतिरिक्त कई संस्थायें है, जो नयी- नयी बीमा योजनाओं को बाजार में लाती है, लोग इसमें बढ़- चढ़ कर भाग लेते है, जिससे किसी दुर्घटना होने पर स्वयं और परिवार को आर्थिक संकट से बचाया जा सके | बीमा का लाभ लेने के लिए हमें इनके टर्म और कंडीशन के विषय में सही से जानकारी होनी चाहिए नहीं तो दुर्घटना होने पर हमें बीमा का लाभ देने से वंचित कर दिया जाता है | इस पेज पर आपको उन महत्वपूर्ण विषयों के बारे में जानकारी दी जा रही है, जिसके कारण बीमा कंपनी आपको बीमा का लाभ देने से वंचित कर सकती है |

ये भी पढ़ें: बीमा क्या होता है?

ये भी पढ़ें: आम आदमी बीमा योजना (AABY) क्या है?

पॉलिसी लेने वाले व्यक्ति की हत्या (Murder)

यदि पॉलिसीधारक की हत्या कर दी जाती है और हत्या की जाँच में नॉमिनी की भूमिका पायी जाती है, तो बीमा कंपनी उस नॉमिनी को बीमा की रकम नहीं देगी | अगर पॉलिसीधारक किसी आपराधिक गतिविधि में शामिल होता है और उसकी हत्या कर दी जाती है तो उस समय भी बीमा कंपनी आपको बीमा की राशि नहीं देगी |

शराब (Alcohol) के कारण मृत्यु होने पर

यदि पॉलिसीधारक शराब के नशे में ड्राइव कर रहा हो या उसने ड्रग्स लिया हो तो इस स्थिति में मृत्यु होने पर बीमा कंपनी मुआवजे का भुगतान नहीं करती है | अगर व्यक्ति अधिक शराब पीता है, तो बीमा कंपनी उसे बीमा पॉलिसी ही नहीं बेचती है |

ये भी पढ़ें: आयुष्मान भारत योजना क्या है (हिंदी में जानकारी)

सिगरेट (Cigarette) का सेवन करने पर

यदि व्यक्ति सगरेट या बीड़ी का सेवन करता है और उसने पहले से इसकी जानकारी नहीं दी है, तो बीमा कंपनी बीमा के दावे को मानने से मना कर सकती है, जानकारी देने पर बीमा कंपनी ऐसे व्यक्तियों से अधिक प्रीमियम चार्ज करती हैं |

एडवेंचर या खतरनाक एक्टिविटी में भाग लेने पर (Adventure or Dangerous Activities)

यदि आप एडवेंचर या खतरनाक एक्टिविटी में भाग है और किसी कारण आपकी मृत्यु उस एडवेंचर या खतरनाक एक्टिविटी में हो जाती है, तो बीमा कंपनी आपके नॉमिनी को बीमा की राशि नहीं देगी | कार या बाइक रेस, स्काई डाइविंग, पैरा ग्लाइडिंग आदि सभी जीवन को खतरे वाली कैटेगरी में आती है |

ये भी पढ़ें: एल आई सी (LIC) एजेंट कैसे बने

पहले से बीमारी होने पर (Already Sick)

यदि आप की पहले से तबीयत ख़राब रहती है और पॉलिसी लेते समय आपने इसकी जानकारी बीमा कंपनी को नहीं दी तो बीमा कंपनी आपको मुआवजा देने से इनकार कर सकती है | रेगुलर टर्म प्लान में एसटीडी और HIV/एड्स बीमा कवर नहीं रहता है |

ये भी पढ़ें: LIC SCHOLARSHIP (छात्रवृत्ति) ऑनलाइन आवेदन कैसे करे

आत्महत्या (Suicide)

यदि पॉलिसीधारक पॉलिसी खरीदने के प्रथम वर्ष में ही आत्महत्या कर लेता है तो उसके दावे को ख़ारिज किया जा सकता है, कई कंपनियां दूसरे साल आत्महत्या होने पर  बीमा कवर देती है |

बच्चे के जन्म पर मृत्यु (Maternal Death)

यदि पॉलिसी धारक की मृत्यु बच्चे के जन्म के समय हो जाती है, तो नॉमिनी को बीमा कवर का मुआवजा नहीं मिल सकता है | सामान्य टर्म पॉलिसी के अनुसार बच्चे के जन्म में किसी गड़बड़ी होने पर जननी की मृत्यु हो जाती है, तो उसे बीमा कवर नहीं दिया जाता है |

इसलिए बीमा पॉलिसी लेते समय सदैव उसके टर्म और कंडीशन को पढ़ना आवश्यक है, यदि उसमे कोई बात समझ में नहीं आ रही है, तो आप एजेंट या कम्पनी से संपर्क कर सकते है |

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना क्या है?

यहाँ पर हमनें बीमा मुआवजा न मिलने के कारण के सदस्य देशों के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: प्रधानमंत्री मोदी स्कालरशिप योजना (PM MODI SCHOLARSHIP SCHEME)

ये भी पढ़ें: भारत सरकार की समस्त योजनाओं की जानकारी

ये भी पढ़ें: वन नेशन वन कार्ड (ONE NATION ONE CARD) क्या है ?