अटल बिहारी बाजपेई का व्यक्तित्व और देश प्रेम

अटल बिहारी वाजपेई कौन थे

अटल बिहारी बाजपेई भारत के पूर्व प्रधान मंत्री, प्रसिद्ध राजनेता और कवि थे, इनका व्यक्तित्व और देश प्रेम के विषय में पार्टी के साथ विपक्ष के नेता सम्मान के साथ-साथ सराहना करते थे | वह उदारवादी व्यक्तित्व वाले एक महान व्यक्ति थे, जिन्होंने अपना समस्त जीवन देश सेवा के लिए समर्पित कर दिया | इनकी विचारधारा से प्रभावित होकर युवा लोग इनकी भारतीय जनता पार्टी का हिस्सा बने और बहुत बड़ी संख्या में इन्हें जनसमर्थन प्राप्त हुआ | मित्रो, आइये आज हम इस पेज पर जानते है, अटल बिहारी बाजपेई कौन थे ? उनके व्यक्तित्व और देश प्रेम के बारे में |

ये भी पढ़े: डॉ. ए. पी. जे अब्दुल कलाम की बायोग्राफी

ये भी पढ़े: लाल बहादुर शास्त्री का जीवन परिचय

अटल बिहारी बाजपेई 

1.अटल बिहारी बाजपेई जी का जन्म 25 दिसंबर, 1924 को भारत के मध्य प्रदेश राज्य के ग्वालियर जिले में हुआ था, इनके पिता का नाम श्री कृष्ण बिहारी बाजपेई तथा माता का नाम कृष्णा देवी था |

2.इन्होंने शिक्षा ग्वालियर के विक्टोरिया कॉलेज (वर्तमान में लक्ष्मीबाई कॉलेज के नाम से जाना जाता है) तथा के डी. ए. वी. कॉलेज कानपुर, उत्तर प्रदेश से प्राप्त की थी |

3.अटल बिहारी बाजपेई जी ने वर्ष 1980 में लाल कृष्ण अडवाणी, भैरो सिंह शेखावत और राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) के सहयोग से भारतीय जनता पार्टी का गठन किया | इनकों वर्ष 1996 ,1998 और 1999 में तीन बार देश के प्रधान मंत्री के रूप चुना गया |

ये भी पढ़े: महात्मा गांधी के राजनीतिक | अध्यात्मिक गुरु कौन थे ?

अटल बिहारी वाजपेई का व्यक्तित्व

यह एक उदारवादी व्यक्ति थे, इन्होंने पाकिस्तान के साथ बात-चीत करके लाहौर बस यात्रा की शुरुआत की थी, जिससे दोनों देश के आपसी रिश्ते सुधर सके, परन्तु पाकिस्तान ने छल से कारगिल पर कब्ज़ा कर लिया, जिसके बाद पाकिस्तान के साथ कारगिल युद्ध लड़ा गया | अटल जी की उदारता का पता इस बात से भी चलता है की जब उनसे अलगाववादियों से संविधान के दायरे में बातचीत करने का प्रश्न किया गया,तो उन्होंने इसका उत्तर दिया कि, बातचीत इंसानियत के दायरे में होगी |

ये भी पढ़े: स्वामी विवेकानन्द के विश्व धर्म सम्मेलन की सारी जानकारी

अटल जी में देश प्रेम की भावना 

अटल बिहारी बाजपेई जी भारत को एक शक्तिशाली राष्ट्र के रूप में देखना चाहते थे, इसलिए इन्होंने परमाणु परीक्षण करने का निर्णय किया, उस समय भारत पर परमाणु परिक्षण न करने का विदेशी दबाव बनाया जा रहा था | अटल जी ने निडरता के साथ गुप्त तरीके तत्कालीन महान वैज्ञानिक श्री अब्दुल कलाम जी के साथ मिलकर परमाणु परीक्षण करने का निर्णय किया, इसका परीक्षण राजस्थान में वर्ष 1998 में किया गया | परमाणु परीक्षण के कारण भारत पर अमेरिका के द्वारा कई प्रकार के प्रतिबन्ध लगाए गए, जिससे न डरते हुए अटल जी ने देश को प्रगति की ओर ले गए |

सम्बंधित लेख (Related Links)

अटल जी एक कवि के रूप में

अटल बिहारी बाजपेई जी एक महान कवि भी थे, जिन्होंने अपनी रचनाओं के द्वारा जन मानस को देश के प्रति समर्पित होने का आवाहन किया इनकी प्रमुख रचना इस प्रकार है-

1.रंग-रंग हिन्दू मेरा परिचय |

2.मृत्यु या हत्या |

3.अमर बलिदान (लोक सभा में अटल जी के वक्तव्यों का संग्रह) |

4.कैदी कविराय की कुण्डलियाँ |

5.संसद में तीन दशक  |

6.अमर आग है |

7.कुछ लेख: कुछ भाषण |

8.सेक्युलर वाद |

9.राजनीति की रपटीली राहें |

10.बिन्दु बिन्दु विचार, इत्यादि |

11.मेरी इक्यावन कविताएँ |

ये भी पढ़े: लाल बहादुर शास्त्री की मौत का सच

यहाँ पर हमनें आपको अटल बिहारी बाजपेई जी के व्यक्तित्व और देश प्रेम को भावना के विषय में बताया, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करे, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: मदर टेरेसा का जीवन परिचय

ये भी पढ़े: डॉ भीमराव अंबेडकर के बारे में जानकारी

ये भी पढ़े: भारत रत्न पुरस्कार विजेता की सूची (नवीनतम)