पुरानी और नई एनसीईआरटी पुस्तकों में क्या अंतर है?

एनसीईआरटी की पुरानी और नई पुस्तकों में यह है अंतर (This Difference Between Old and New Books of NCERT)

सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करने में एनसीईआरटी की पुस्तकें एक आधार प्रदान करती है | यह आधार जितना ही मजबूत होगा आपकी तैयारी उतनी ही अच्छी होगी | एनसीईआरटी की पुस्तकों का महत्व समझते हुए सभी अध्यापक इसका अध्ययन करने की सलाह देते है | एनसीईआरटी की पुस्तकों में दो संस्करण है एक पुराना संस्करण और दूसरा नया संस्करण इन दोनों में अभ्यर्थी यह निर्णय नहीं ले पाते है कि इनमें से किस संस्करण का अध्ययन किया जाये | इस पेज पर पुरानी और नई एनसीईआरटी पुस्तकों में क्या अंतर है, के विषय में जानकारी दी जा रही है |

ये भी पढ़ें: आईएएस परीक्षा के लिए एनसीईआरटी पुस्तकों को कैसे पढ़े?

ये भी पढ़ें: UPPSC सिलेबस की सम्पूर्ण जानकारी

एनसीईआरटी की नई और पुरानी पुस्तकों में मुख्य अंतर (Main Difference between New and Old Books of NCERT) 

यूपीएससी या अन्य परीक्षा की तैयारी करने वाले छात्र इस असमंजस में रहते है की उन्हें नयी या पुरानी एनसीईआरटी की पुस्तकें पढ़ना चाहिए यह इस प्रकार से समझ सकते है-

  • सबसे पहले आपको यह जानकारी देना चाहता हूँ कि अभ्यर्थियों के बीच यह एक भ्रम है,  दोनों ही पुस्तकों में एक सामान तथ्य कि जानकारी दी गयी है| नए संस्करण में चित्रों को अधिक शामिल किया गया है और पुराने संस्करण में चित्रों की संख्या कम है 
  • दोनों ही संस्करण अध्ययन व लक्ष्य प्राप्त करने के लिये पर्याप्त उपयोगी हैं
  • नई एनसीईआरटी में कई विषय परीक्षाओं के बदलते पाठ्यक्रम और राजनीतिक विवादों के कारण हटा दिये गए हैं
  • नए और पुराने संस्करण नागरिक सेवा परीक्षा की तैयारी में आपकी सहायता प्रभावी ढंग से करेगी
  • दोनों पुस्तकों को एक साथ पढ़ने में अपना समय व्यर्थ न करे 
  • एनसीईआरटी की किताबें सामान्य रूप से बाजार में उपलब्ध हो जाती है,  पुराना संस्करण आपको मिलने में थोड़ी कठिनाई हो सकती है
  • पुरानी पुस्तकों की खोज में आपको अपना बहुमूल्य समय व्यर्थ नहीं करना चाहिए, जो पुस्तकें आसानी से मिल जाए आप उन्ही से अध्ययन शुरू करे

ये भी पढ़ें: आईएएस मुख्य परीक्षा में प्रश्नों का उत्तर कैसे लिखें?

ये भी पढ़े: आईएएस परीक्षा के लिए द हिन्दू व अन्य समाचार पत्रों का योगदान

ये भी पढ़ें: आईएएस (IAS), आईपीएस (IPS) फ्री कोचिंग कैसे पाए, ऑनलाइन फॉर्म

आवश्यक बातें (Essential Things)

  • आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि एनसीईआरटी की पुस्तकें मुख्य अध्ययन सामग्री नही होती है यह केवल संबंधित विषयों और मुद्दों पर आपकी जानकारी को मजबूत करती है
  • एनसीईआरटी की पुस्तकों का अध्ययन धीरे-धीरे व सावधानीपूर्वक करना चाहिए
  • विभिन्न अवधारणाओं को समझने में यह आपको सहायता करती है
  • यदि आप ने गलत तरीके से अवधारणाओं को समझ लिया तो वह आपको पूरी तैयारी में कन्फ्यूज करती रहेगी 
  • एनसीईआरटी के नए और पुराने दोनों संस्करण को पढ़ना बिलकुल भी आवश्यक नहीं है
  • यह पुस्तकें आईएएस परीक्षा के परिप्रेक्ष्य से व्यापक नहीं हैं अतः आपको इसके अतिरिक्त अन्य अध्ययन सामग्रियों का भी अध्ययन करना चाहिए 
  • अगर आप एनसीईआरटी की पुस्तकों को किसी विषय के बेसिक ज्ञान के रूप में पढ़ें तो यह आपकी तैयारी के लिए बेहतर होगा

ये भी पढ़ें: भारत में कितने आईएएस (IAS) अफसर है

ये भी पढ़ें: आईपीएस अधिकारी की भर्ती, प्रशिक्षण, सेवा कैडर एवं वेतन

यहाँ पर हमनें पुरानी और नई एनसीईआरटी पुस्तकों में क्या अंतर है के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: डीएसपी (DSP) Kaise Bane, योग्यता, सैलरी, तैयारी

ये भी पढ़ें: आरबीआई (RBI) गवर्नर की नियुक्ति योग्यता, सैलरी, कार्य

ये भी पढ़ें: बिना कोचिंग के आईएएस (IAS) परीक्षा की तैयारी