Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) क्या है

Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) से सम्बंधित जानकारी

पूरा विश्व कोरोना वायरस (Coronavirus) महामारी की समस्या से जूझ रहा है, जिसकी चपेट में दुनिया के कई देश आ चुके है | इस समस्या को देखते हुए, सभी देश नए – नए कदम उठा रहे है | यह सब देखते हुए भारत के प्रधानमंत्री ने भी एक नया कदम उठाया, इस समस्या से निपटने के लिए पूरे भारत में एक कर्फ्यू लगाया, जिसे Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) नाम दिया गया है | Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) भारत में प्रथम बार लागू किया गया, जिसका साथ भारत की जनता ने पूरी तरह से दिया और यह सफल कर्फ्यू रहा | यह भारत में 22 मार्च 2020 को पूरे भारत में लागू किया गया | यदि आप भी Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) क्या है, Janta Curfew Meaning in Hindi क्या होती है, इसके विषय में जानना चाहते है तो यहां पर इसकी विस्तृत जानकारी दी जा रही है |

ADVERTISING

Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) क्या है

Cancer (कैंसर) क्या है?

Janta Curfew (जनता कर्फ्यू)

भारत के प्रधानमंत्री जी द्वारा यह बार बार अपील की गई कि अपने घरों में ही रहे, ज्यादा भीड़ – भाड़ वालों क्षेत्रों से दूरी बनाकर रखे | इसके लिए रविवार (22 मार्च 2020) को कर्फ्यू जैसा माहौल बनाया गया, जिसका नाम प्रधानमंत्री जी ने जनता कर्फ्यू दिया | इस कर्फ्यू का समय सुबह 7 बजे से रात्रि 9 बजे तक रखा गया था | इस कर्फ्यू को भारत में बड़ी सफलता प्राप्त हुई |

ADVERTISING

Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) का नियम

  • जनता कर्फ्यू के दिन अपने घरों में ही रहना होता है, सब लोग अपने घर पर ही रहते है |
  • इस कर्फ्यू के समय सभी माल, मार्किट सभी बंद रहेंगे |
  • बहुत ही ज्यादा आवश्यक होने पर घर से निकलें, इसके अलावा आप राज्य की हेल्पलाइन नम्बर पर कॉल करके सरकार द्वारा दी जा रही है सहायता ले सकते है |
  • बुजुर्ग और बच्चों को घर से न निकाले |

COVID 19 क्या है

Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) का महत्व

कोरोना वायरस की महामारी देखते हुए, वैसे तो प्रत्येक दिन हमें सतर्कता बरतनी होगी, परंतु 22 मार्च को सारे देशवासी जनता कर्फ्यू का पालन करते है तो इस एक ही दिन में कोरोना वायरस के ज्यादा फैलने के खतरे पर काबू पाया जा सकता है | देश की जनता इस कर्फ्यू का पालन करके इस वायरस से लड़ने में देश के लिए अपना योगदान दे सकते हैं |

Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) प्रधानमंत्री का कथन

Janta Curfew (जनता कर्फ्यू) देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सम्बोधित करते हुए कहा कि – हमें 22 मार्च, रविवार को सुबह 9 बजे से शाम 7 बजे तक जनता कर्फ्यू का पालन करना है. उन्होंने जनता कर्फ्यू का अर्थ भी बताया. इसका अर्थ बताते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि जनता कर्फ्यू यानी जनता के लिए, जनता की ओर से खुद पर लगाया गया कर्फ्यू. उन्होंने प्रत्येक व्यक्ति से 22 मार्च तक हर दिन कम से कम 10 लोगों को फोन करके कोरोना वायरस से बचाव के उपायों के साथ ही जनता कर्फ्यू के बारे में भी जानकारी दे |

आयुष्मान भारत योजना क्या है

जनता कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर क्या होगा

  • यदि आप जनता कर्फ्यू का उल्लंघन करते है तो, आप पर कोई जुर्माना नहीं लगेगा |
  • यदि आप इसका उल्लंघन करते है, तो आपकी देश के जिम्मेदार नागरिक नहीं है |
  • इसके उल्लंघन पर कोई कानूनी सजा का प्रावधान नहीं रखा गया |
  • इसके उल्लंघन से आप देश में कोरोना वायरस की महामारी को बढ़ावा देंगे |
  • उल्लंघन करने वालो की वजह से देश एक भयावह स्थिति तक पहुंच सकता है |
  • देश के हालात सामान्य नहीं हो पाएंगे |
  • वायरस पर कण्ट्रोल पाया नहीं जा सकेगा |

अस्थमा क्या है? 

यहाँ पर हमने ‘Janta Curfew (जनता कर्फ्यू)’ के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | अन्य सम्बंधित जानकारी प्राप्त करने के लिए कमेंट करे | अधिक जानकारी के लिए पोर्टल kaiseinhindi.com पर विजिट करे |

हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में क्या अंतर होता है?

ADVERTISING