आईपीओ (IPO) क्या होता है?

आईपीओ से सम्बंधित जानकारी (IPO Related Information)

शेयर मार्केट में कंपनियां अपने को लिस्टेड कराकर अपने शेयर निवेशकों को बेचती है | यह अपने कारोबार को बढ़ाने अपने दूसरे खर्चों को पूरा करने के लिए अन्य तरीकों का प्रयोग करती है | यह एक पूंजी एकत्रित करती है | आम लोगों के बीच पहली बार शेयर उतारने की प्रक्रिया इनिशियल पब्लिक ऑफर (आईपीओ) कहलाती है | सरकार कई बार विनिवेश की नीति के अंतर्गत आईपीओ लाती है | इस पेज पर आईपीओ (IPO) क्या होता है, आईपीओ का फुल फॉर्म, आईपीओ की प्रक्रिया के विषय में जानकारी दी जा रही है |

ये भी पढ़ें: शेयर मार्केट में निवेश कैसे किया जाता है?

ये भी पढ़ें: शेयर मार्केट क्या है ये कैसे काम करता है

आईपीओ की प्रक्रिया (Process of IPO)

आईपीओ फिक्स्ड प्राइस और बुक बिल्डिंग के द्वारा पूरा किया जाता है | फिक्स्ड प्राइस विधि में जिस मूल्य पर शेयर पेश किए जाते हैं, उसका मूल्य पहले ही निर्धारित कर लिया जाता है | बुक बिल्डिंग में शेयरों का मूल्य का दायरा तय किया जाता है | इसके अंदर निवेशकों द्वारा बोली लगायी जाती है | प्राइस बैंड का निर्धारण करने के लिए बुकरनर की सहायता ली जाती है |

ये भी पढ़ें: जीडीपी (GDP) क्या होता है?

आईपीओ का फुल फॉर्म (Full Form)

आईपीओ का फुल फॉर्म इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग्स (Initial Public Offering) है|

आईपीओ में कीमत कैसे तय होती है (How is the Price fixed in IPO)

  • प्राइस बैंड
  • दूसरा फिक्स्ड प्राइस इश्यू ।

ये भी पढ़ें: एफडीआई (FDI) का मतलब क्या है?

प्राइस बैंड (Price Band)

जिन कंपनियों को आईपीओ लाने की अनुमति है वह सभी अपने शेयरों की कीमत तय कर सकती हैं | इसके अतिरिक्त इन्फ्रास्ट्रक्चर और कुछ दूसरी क्षेत्रों की कंपनियों को सेबी और बैंकों को रिजर्व बैंक से अनुमति लेनी अनिवार्य है | भारत में 20 फीसदी प्राइस बैंड की अनुमति है |

ये भी पढ़ें: सरकारी बांड (Government Bond) क्या है?

अंतिम मूल्य (Last Price)

बैंड प्राइस तय होने के पश्चात किसी भी कीमत के लिए बोली लगा सकता है | व्यक्ति कटऑफ बोली भी लगा सकता है | कंपनी ऐसा मूल्य तय करती है, जहां उसे लगता है कि उसके सारे शेयर बिक जाएंगे |

आईपीओ की धनराशि (IPO Money)

आईपीओ में निवेशकों द्वारा लगायी गयी धनराशि सीधे कंपनी के पास जाती है | विनिवेश के मामले में आईपीओ से प्राप्त धनराशि सरकार के पास जाती है | शेयरों की ट्रेडिंग की अनुमति मिलने के बाद  शेयरधारक अपने शेयर को खरीद और बेच सकते है | इसमें प्राप्त लाभ और हानि दोनों शेयरधारक को प्राप्त होता है |

ये भी पढ़ें: जीएनपी (GNP) और एनएनपी (NNP) क्या है?

यहाँ पर हमनें आईपीओ (IPO) क्या होता है, इसकी प्रक्रिया के विषय में आपको जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: डीएमसीए (DMCA) क्या है

ये भी पढ़ें: मुद्रास्फीति (Inflation) क्या होता है?

ये भी पढ़ें: Binary Options Trading (बाइनरी ऑप्शन ट्रेडिंग) क्या है?