बैंक विलय क्या है?

बैंक विलय से सम्बंधित जानकारी (Information About Bank Merger)

भारत सरकार देश की आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय ले रही है | अभी हाल ही में वित्तमंत्री के द्वारा 10 सरकारी बैंकों के विलय की घोषणा की गयी है | सरकार चाहती है कि बैंक अधिक से अधिक प्रतिस्पर्धी माहौल में कार्य करें और ग्राहकों को बेहतर से बेहतर सेवाएं दे सके | इस विलय के बाद बैंकों के नॉन पर्फोर्मिंग एसेट अथार्त एनपीए की समस्या सुलझ सकती है | इस पेज पर बैंक विलय क्या है, लाभ, हानि, प्रभाव के विषय में जानकारी दी जा रही है |

ये भी पढ़ें: बैंक की शिकायत कैसे करें?

ये भी पढ़ें: सेविंग अकाउंट पर बैंक काटता है चार्ज – जानिए

बैंक विलय क्या है (What is Bank Merger)?

भारत में कई छोटी और बड़ी बैंक है, जो अपने संसाधन के अनुसार कार्य करती है | बैंकिंग व्यवस्था को सुधारने के लिए भारत सरकार दो या दो से अधिक बैंकों को मिला कर एक बैंक बनाती है इस प्रक्रिया को बैंक विलय कहा जाता है | विलय होने वाले बैंक इस प्रकार है-

मुख्य बैंक सम्मिलित बैंक
पंजाब नेशनल बैंक ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया
केनरा बैंक सिंडिकेट बैंक
यूनियन बैंक ऑफ इंडिया आंध्र बैंक, कॉर्पोरेशन बैंक
इंडियन बैंक इलाहाबाद बैंक

ये भी पढ़ें: बैंक चेक (Bank Cheque) कैसे भरे ?

बैंक विलय से लाभ (Benefits)

  • बैंक विलय से बैंकों की स्थिति मजबूत होगी बैंक और अधिक सस्ता तथा ज्यादा कर्ज बांट सकेंगे |
  • बैंकों के परिचालन में लगने वाली लागत को कम किया जा सकता है |
  • बैंकों की पहुंच नए राज्यों और क्षेत्रों में हो जाएगी |
  • बैंक नयी तकनीक और विशेषज्ञता प्राप्त कर सकते है |
  • बैंक कर्मियों के वेतन में होने वाली असमानता दूर हो सकेगी |

 ये भी पढ़ें: इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक (IPPB) क्या है ?

बैंक विलय से हानि (Losses)

  • बैंक विलय से विकेंद्रीकरण होगा इससे क्षेत्रीय लाभ समाप्त हो जायेंगे |
  • आर्थिक संकट के समय बड़े बैंकों में अधिक जोखिम होता है |
  • बैंक कर्मचारियों को तकनीकी स्तर पर चुनौती बढ़ेगी |

 ये भी पढ़ें: नेट बैंकिंग मोबाइल बैंकिंग कैसे करे

बैंक विलय का प्रभाव (Effect)

  • बैंक विलय से ग्राहकों को नए चेकबुक प्रदान किये जाते है | मौजूदा कुछ समय के लिए पुरानी चेक बुक ही मान्य की जाती है, लेकिन बाद में धीमे- धीमे यह बदल दी जाती है |
  • आप अपने बैंक खाते में ईसीएस के माध्यम से सैलरी के ऑटो क्रेडिट और कई तरह के बिल पेमेंट के लिए अपना बैंक अकाउंट नंबर और आईएफएससी कोड का वितरण किया होता है | विलय की प्रकिया पूरी होने के बाद आपको पुनः अपने खाते की जानकारी देनी होगी |
  • बैंक विलय के बाद बड़ी बैंक की ब्रांच या शाखाएं अधिक हो जायेंगी | जिसका सीधा लाभ उनके ग्राहकों को होगा | लोग अधिक जगह से अपने पैसों का लेन- देन कर सकते है |

ये भी पढ़ें: बैंक पीओ कैसे बने

यहाँ पर हमनें बैंक विलय क्या है, लाभ, हानि, प्रभाव के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: बैंक में क्लर्क कैसे बने

ये भी पढ़ें: विदेशी मुद्रा भंडार क्या है?

ये भी पढ़ें: पोस्ट ऑफिस बचत योजना