प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन पेंशन योजना (Shram Yogi Maandhan Pension Yojna)

श्रमयोगी मानधन पेंशन योजना से पाए 3000 रुपये प्रतिमाह पेंशन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2019 के अंतरिम बजट में असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे मजदूरों की सामाजिक सुरक्षा की दिशा में अहम कदम उठाया है, बजट में सरकार के द्वारा नयी पेंशन योजना का शुभारम्भ किया गया है|  इस योजना में कोई भी 18 वर्ष से अधिक आयु का व्यक्ति जो असंगठित क्षेत्र में कार्य कर रहा है, 55 रुपये प्रतिमाह निवेश कर भाग ले सकता है| श्रमिक द्वारा जितनी राशि का निवेश किया जाएगा सरकार द्वारा उतनी ही राशि का उसके खाते में सहयोग किया जायेगा, इस प्रकार वह प्रतिमाह 3000 रूपये की पेंशन प्राप्त कर सकता है | इस पेज पर प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन पेंशन योजना के द्वारा 3000 रुपये प्रतिमाह पेंशन के विषय में विस्तार से बता रहे है |

ये भी पढ़े: क्या है कर्मचारी पेंशन योजना (ईपीएस) ? 

ये भी पढ़े: आयुष्मान भारत योजना क्या है (हिंदी में जानकारी)

योजना लांच होने की जानकरी (Information Of Scheme)

योजना का नाम प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन पेंशन योजना
योजना का प्रारंभ बजट 2019
योजना की घोषणा वित्त मंत्री पियूष गोयल
लाभार्थी असंगठित क्षेत्र के कर्मचारी
पेंशन राशि 3000 रुपये प्रतिमाह

ये भी पढ़े: क्या है कर्मचारी पेंशन योजना (ईपीएस) ?

उद्देश्य

असंगठित क्षेत्र के कर्मचारी वेतन कम होने के कारण निम्न स्तर का जीवन यापन करते है, बचत न होने के कारण 60 वर्ष के पश्चात उन्हें आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ता है, ऐसे लोगों की सहायता सरकार ‘प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन पेंशन योजना’ के माध्यम से करना चाहती है |

पेंशन राशि (Pension Amount)

सरकार द्वारा 60 वर्ष की आयु पूरी करने पर 3000 रूपये की धन राशि प्रतिमाह प्रदान की जाएगी |

क्या है प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन पेंशन योजना

केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने वर्ष 2019 के अंतरिम बजट में प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन पेंशन योजना की घोषणा की है, यह योजना असंगठित क्षेत्र में कार्य कर रहे श्रमिकों पर केंद्रित है, इसमें 18 वर्ष की आयु के श्रमिक भाग ले सकते है, जिनका मासिक वेतन 15000 हजार से कम है,

इस योजना में व्यक्ति यदि 18 से 29 वर्ष की आयु में भाग लेता है, तो उसे प्रति माह 55 रूपये जमा करना होगा, अगर व्यक्ति 29 वर्ष के बाद योजना में  भाग लेता है, तो उसे 100 रुपये प्रतिमाह जमा करना होगा |

इस योजना में श्रमिक जितनी राशि जमा करेगा, केंद्र सरकार श्रमिक के खाते में उतनी ही राशि का सहयोग करेगी, इस प्रकार 60 वर्ष के बाद श्रमिक को 3000 रूपये प्रति माह की पेंशन प्राप्त होने लगेगी |

ये भी पढ़े: क्या है प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना

सरकार द्वारा आवंटित राशि

सरकार ने इस योजना के लिए प्रारंभ में 500 करोड़ रूपये का प्रावधान बजट में किया है, इसके बाद इसकी राशि में धीमे- धीमे बढ़ोत्तरी की जाएगी | इस योजना को चालू वित्तीय वर्ष से लागू किया जाएगा |

ये भी पढ़े: PF अकाउंट का UAN Number कैसे चेक करे  

आवेदन फॉर्म और प्रक्रिया (Apply Online)

इस योजना का लाभ प्राप्त करने के लिए अभ्यर्थी को रजिस्ट्रेशन करना होगा | इसके बाद इसके आवेदन फॉर्म को भरना होगा | फॉर्म कहा प्राप्त होगा, आवेदन कैसे करना है, इसकी अभी कोई अधिकारिक जानकारी प्राप्त नहीं हुई है | अभी तक सरकार द्वारा केवल घोषणा की गयी है |

बजट में ग्रेच्युटी की सीमा

वह सभी कर्मचारी जो पांच साल से अधिक कार्य कर रहे है, वह नौकरी छोड़ने या सेवानिवृत्ति के समय ग्रेच्युटी के हकदार होंगे | इसे कंपनी देने से मना नहीं कर सकती है, अभी तक 10 लाख रुपये थी जिसको बढाकर 20 लाख रुपये कर दिया गया है |

ये भी पढ़े: क्या है Unified Payment Interface

यहाँ पर हमनें आपको प्रधानमंत्री श्रमयोगी मानधन पेंशन योजना के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: प्रधानमंत्री सुकन्या समृद्धि योजना क्या है

ये भी पढ़े: बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना क्या है

ये भी पढ़े: आयुष्मान भारत योजना रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन कैसे करे