फिजिकल (Physical) और मेडिकल टेस्ट (Medical Test) क्या होता है

फिजिकल (Physical) और मेडिकल टेस्ट (Medical Test)  

किसी भी नौकरी में पद के अनुरूप फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट का मानक निर्धारित किया जाता है, जिससे अभ्यर्थी के शारीरिक क्षमता की जाँच संभव हो सके, यदि आप सुरक्षा से सम्बंधित नौकरी के लिए आवेदन कर रहे है, तो उसका फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट का स्टैण्डर्ड अलग होता है और अगर आप अन्य पद के लिए आवेदन कर रहे है, तो उसका स्टैण्डर्ड अलग होता है | फिजिकल टेस्ट और मेडिकल टेस्ट के द्वारा उस विभाग या संस्था को आपको योग्य या अयोग्य घोषित करने का पूर्ण अधिकार होता है, इसलिए आवेदन करने वाले अभ्यर्थी को इसमें उत्तीर्ण होना अति आवश्यक है | इस पेज पर फिजिकल (Physical) और मेडिकल टेस्ट (Medical Test) तथा इसमें अंतर के बारे में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़े : आर्मी और पुलिस भर्ती में मेडिकल कैसे होता है ?

ये भी पढ़े: असिस्टेंट कमांडेंट कैसे बने

फिजिकल (Physical) और मेडिकल टेस्ट (Medical Test) में अंतर

फिजिकल (Physical) टेस्ट

किसी भी चयन प्रक्रिया में पद के अनुरूप फिजिकल टेस्ट के मानक निर्धारित किये जाते है, इसमें शरीर की लम्बाई, सीना, दौड़, लम्बी कूद, गोला फेंकना इत्यादि प्रक्रिया को सम्मिलित किया जाता है |

लम्बाई

लम्बाई में अभ्यर्थी के शरीर की ऊंचाई की नाप ली जाती है, निर्धारित लम्बाई से कम होने पर अभ्यर्थी को प्रतियोगिता से बाहर कर दिया जाता है |

ये भी पढ़े: पुलिस कांस्टेबल कैसे बने

सीना

सेना या पुलिस की नौकरी में पुरुष अभ्यर्थी के सीने की माप ली जाती है, इसमें दो प्रकार की माप ली जाती है एक सीना फुला कर तथा एक सामान्य स्तर पर दोनों में आप यदि निर्धारित मानक को प्राप्त करते है, तो आपको प्रतियोगिता में सम्मिलित किया जाता है |

दौड़

अभ्यर्थी को एक निर्धारित समय के अंदर निर्धारित दूरी को पूरा करना होता है, जो अभ्यर्थी निर्धारित मानक को पूरा कर लेते है, उन्हें चयन प्रक्रिया में सम्मिलित किया जाता है |

ये भी पढ़े : मेडिकल-इंजीनियरिंग के अलावा ये कोर्स दे सकते है रोज़गार 

ये भी पढ़े: भारतीय तट रक्षक कैसे बने

लम्बी कूद

लम्बी कूद में अभ्यर्थी के कूदने की क्षमता की जाँच की जाती है, इसमें एक दूरी का निर्धारण होता है, अभ्यर्थी को उसे पार करना होता है |

गोला फेंकना

इसमें अभ्यर्थी के गोला फेंकने की क्षमता की जाँच की जाती है |

इस प्रकार सभी जाँच में जब अभ्यर्थी उत्तीर्ण हो जाता है, तो उसका फिजिकल टेस्ट पूरा हो जाता है कई प्रतियोगिताओं में अन्य जाँच को भी सम्मिलित किया जाता है, इन सभी जाँच का मुख्य उद्देश्य आपके शारीरिक सहनशीलता का पता करना होता है |

ये भी पढ़े : स्टार देखकर कैसे पहचाने क्या है आर्मी ऑफिसर के रैंक

ये भी पढ़े: रॉ एजेंट बननें के लिए क्या करें 

ये भी पढ़े: NDA EXAM  में पहली बार में ही कैसे पाए सफलता

मेडिकल टेस्ट

मेडिकल टेस्ट एक या एक से अधिक डॉक्टर के द्वारा किया जाता है, इसमें आपके शरीर के अंगों के अंदर और बाहरी बनावट की जाँच की जाती है, जाँच के समय आपके प्रत्येक अंग के मानक डॉक्टर के पास उपलब्ध रहते है, जिससे वह आपको योग्य या अयोग्य घोषित करते है |

मेडिकल टेस्ट में आपके घुटने, पैर फ़्लैट, अंगूठों में हेलिक्स, हड्डियों में कहीं असामान्यता, पैर धनुषाकार, जोड़ों में कहीं भी असामान्यता, छाती अन्दर धंसी न हो, उभरे और स्वस्थ मसल्स, अभ्यर्थी का मानसिक और शारीरिक स्वास्थ अच्छा होना, सुनने की क्षमता, आँखें कलर के अंधेपन या कलर ब्लाईंडनेस से मुक्त हो, आँखों की दूर दृष्टि और निकट दृष्टि सामान्य हो, आँखे थोड़े से प्रकाश में हीं चकाचौंध न हो इस प्रकार की जाँच की जाती है |

ये भी पढ़े : होम गार्ड (Home Guard) कैसे बने

यहाँ पर हमनें आपको फिजिकल (Physical) और मेडिकल टेस्ट (Medical Test) के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े : विभिन्न स्तर की परीक्षाओं की तैयारी कैसे करे

ये भी पढ़े: सब इंस्पेक्टर कैसे बने