जेनेवा संधि (Geneva Convention) क्या है ?

जेनेवा संधि से सम्बंधित जानकारी (Information About Geneva Convention) 

युद्ध में घायल युद्ध बन्दियों और आम नागरिकों की रक्षा के लिए स्विट्ज़रलैंड के जेनेवा शहर में एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मलेन किया गया था| इस सम्मलेन में युद्ध बन्दियों के मानवीय मूल्यों के विषय में अंतर्राष्ट्रीय कानून बनाये गए | इस संधि में 194 देशों ने हस्ताक्षर किया था | जेनेवा स्विट्ज़रलैंड का दूसरा सबसे बड़ा शहर है, यह फ्रांस की सीमा से लगा हुआ शहर है, यहाँ की राजभाषा फ्रांसीसी है | इस पेज पर जेनेवा संधि कब हुई तथा संधि में युद्ध बन्दियों के अधिकार के विषय में विस्तार से बताया जा रहा है |

ये भी पढ़े: भारत का नक्शा किसने बनाया

ये भी पढ़े: सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की खासियत

geneva

ये भी पढ़े: सर्जिकल स्ट्राइक क्या है और कैसे होता है ?

ये भी पढ़े: जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) कौन है पूरी जानकारी

जेनेवा संधि (Geneva Convention)

  • जेनेवा समझौते में कई नियम और क़ानून दिए गए है, जिसका उद्देश्य युद्ध के समय मानवीय मूल्यों को बनाये रखना है, विश्व में मानवता को बरकारार रखने के लिए वर्ष 1964 में पहली संधि की गयी थी,  दूसरी संधि 1906 में तथा तीसरी संधि 1929 में की गयी थी | द्वितीय विश्व युद्ध के बाद 194 देशों ने मिल कर चौथी संधि की थी | इंटरनेशनल कमेटी ऑफ़ रेड क्रॉस के अनुसार जेनेवा समझौते में युद्ध के दौरान गिरफ्तार सैनिको और घायल लोगों के साथ कैसा बर्ताव करना है, इसको लेकर दिशा- निर्देश दिए गए है | इसमें यह बताया गया है, कि युद्ध बंदियों के क्या अधिकार है ? साथ ही समझौते में घायल की उचित देख-भाल और आम लोगों की बात की गयी है
  • जेनेवा समझौते में दिए गए अनुच्छेद तीन के अनुसार युद्ध के दौरान घायल होने वाले युद्ध बंदी का अच्छे तरीके से उपचार होना चाहिए
  • युद्धबंदियों के साथ बर्बरता पूर्ण व्यवहार नहीं होना चाहिए, उनके साथ किसी तरह का भेद-भाव नहीं होना चाहिए | इसके साथ ही सैनिकों को कानूनी सुविधा भी मुहैया करवानी होगी,  जेनेवा संधि के अंतर्गत युद्धबंदियों को डराया या धमकाया नहीं जा सकता है  इसके आलावा उन्हें अपमानित नहीं किया जा सकता है | संधि के मुताबिक युद्धबंदियों पर मुकदमा चलाया जा सकता है | इसके अतिरिक्त युद्धबंदियों को उनके देश को वापस लौटना होगा | कोई भी देश युद्धबंदियों को लेकर जनता में उत्सुकता पैदा नहीं कर सकता
  • युद्धबंदियों से केवल उनके नाम, सैन्य पद, नंबर और यूनिट के बारे में पूछा जा सकता है

ये भी पढ़े: भारत के पड़ोसी देश और उनकी राजधानी, मुद्रा

जेनेवा समझौते से जुड़े महत्वपूर्ण बिंदु (Important Points Related  ToGeneva Convention)

  • इस संधि के द्वारा घायल सैनिकों की उचित देखभाल की जाती है |
  • संधि के अनुसार उन्हें खाना- पीना और जरुरत की सभी चीजे दी जाती है |
  • इस संधि के अनुसार किसी भी युद्ध बंदी के साथ अमानवीय व्यवहार नहीं किया जा सकता है |
  • किसी भी देश का सैनिक जैसे ही पकड़ा जाता है, उस पर यह संधि लागू होती है |
  • संधि के मुताबिक युद्धबंदी को डराया- धमकाया नहीं जा सकता है |
  • युद्धबंदी की जाति, धर्म, जन्म आदि के बारे में नहीं पूछा जा सकता है |

ये भी पढ़े: विश्व मे कितने देश है, इनकी राजधानी एवं मुद्रा

ये भी पढ़े: क्या है भारत चीन सीमा विवाद ?

यहाँ पर हमनें आपको जेनेवा संधि के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: 1947 में भारत कैसे आज़ाद हुआ था ?

ये भी पढ़े: कब लगता है देश और राज्य में राष्ट्रपति का शासन