सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की खासियत

सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस 

सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस मिसाइल परीक्षण भारत की प्रमुख सफलताओं में एक है, इस मिसाइल का परीक्षण रूस और भारत के साझा कार्यक्रम के अन्तर्गत किया गया है, ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का पहला सफल परीक्षण भारत नें 21 मई 2018 को रूस के सहयोग से किया, डिफेंस रिसर्च एंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (डीआरडीओ) के अनुसार यह परिक्षण ओडिशा तट पर चांदीपुर में एकीकृत टेस्ट रेंज (आईटीआर) में मौजूद मोबाइल लॉन्चर के माध्यम से सफलतापूर्वक किया गया है, इस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की खासियत के बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है |

ये भी पढ़े: वैज्ञानिक कैसे बनें ? 

ये भी पढ़े: जानें देश के टॉप 10 वैज्ञानिको के बारें में

ब्रह्मोस प्रथम भारतीय मिसाइल

यह भारत की पहली ब्रह्मोस मिसाइल है इसकी कार्य अवधि 10 से 15 साल तक बढ़ा दी गई है |

ब्रह्मोस मिसाइल के कार्यकाल को बढ़ानें के लिए पहली बार भारत में प्रौद्योगिकी विकसित की गई |

भारतीय सेना में सम्मिलित

भारतीय सेना नें ब्रह्मोस की तीन रेजिमेंटों को अपने शस्त्रागार में कुछ समय पहले ही शामिल कर लिया था, सभी मिसाइल के ब्लॉक-III संस्करण से लैस हैं |

मिसाइल की विशेषता

1.यह मिसाइल स्वयं ऊपर और नीचे की उड़ान भरकर जमीन के लक्ष्यों को भेदने में सक्षम है, इस तरह  से यह दुश्मन देश की रक्षा प्रणालियों से बच निकलती है |

2.भारतीय सेना में ब्रह्मोस के जमीनी हमला करने वाला संस्करण वर्ष 2007 से प्रयोग किया जा रहा है |

3.यह जमीन के लक्ष्य को 10 मीटर की ऊंचाई से भेद सकती है |

ये भी पढ़े: प्रोग्रामर कैसे बने इसके लिए क्या करे

ब्रह्मोस मिसाइल की विशेषताए 

1.ब्रह्मोस मिसाइल का प्रथम परीक्षण 12 जून 2001 को चांदीपुर से ही किया गया था |

2.ब्रह्मोस एक सुपर सोनिक क्रूज मिसाइल है |

3.यह घनी आबादी शहरी क्षेत्र में भी छोटे लक्ष्यों को सटीकता से भेदने में सक्षम है |

4.ब्रह्मोस मिसाइल दो चरण में कार्य करता है, इसमें ठोस प्रोपेलेट बुस्टर तथा एक तरल प्रोपेलेट रैम जैम सिस्टम लगा हुआ है |

5.इस मिसाइल की लम्बाई 8.4 मीटर तथा चौड़ाई 0.6 मीटर है, इसका वजन 3 हजार किलोग्राम है |

ये भी पढ़े: अपने अंदर के Talent को कैसे पहचाने

6.यह मिसाइल 300 किग्रा वजन तक विस्फोटक ले जाने तथा 350 किमी तक मार करने की क्षमता रखती है |

7.यह सुपर सोनिक क्रूज मिसाइल आवाज की गति से भी 2.8 गुना तेज चलने की क्षमता रखती है |

8.इस मिसाइल को पानी के जहाज, हवाई जहाज, जमीन एवं मोबाइल लॉन्चर से छोड़ा जा सकता है |

9.इस मिसाइल को किसी भी दिशा में लक्ष्य की तरफ अपने हिसाब से छोड़ा जा सकता है |

10.यह मिसाइल जल, थल और वायु अथार्त जल में पनडुब्बी या पानी के जहाज के द्वारा वायु में वायुयान के द्वारा और जमीन में लांचर के माध्यम से आसानी से दुश्मन देश की ओर छोड़ा जा सकता है |

11.यह मिसाइल तकनीक थलसेना, जलसेना और वायुसेना तीनों के काम आ सकती है |

ये भी पढ़े: ए पी जे अब्दुल कलाम की खोज

यहाँ पर हमनें आपको सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की खासियत के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी हैं, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहें है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े:  सफलता के लिए जरुरी है Focus

ये भी पढ़े: सरकारी नौकरी कैसे मिलेगी

ये भी पढ़े: मेडिकल-इंजीनियरिंग के अलावा ये कोर्स दे सकते है रोज़गार 

ये भी पढ़े: भारत के प्रमुख शोध-संस्थान (India’s Major Research Institute)