जानें देश के टॉप 10 वैज्ञानिको के बारें में

भारत के टॉप 10 वैज्ञानिको के बारे में

भारतवर्ष को प्राचीन काल से प्रतिभाओ भंडार माना गया है, भारत में कई ऐसे अविष्कार और शोध हुए है, जिनकी जानकारी विश्व को बहुत बाद में हुई , प्राचीन समय में आर्यभट्ट से लेकर अब तक ए पी जे अब्दुल कलाम जैसे महान वैज्ञानिको का जन्म स्थान भारत है, जिनकी खोजो को विश्व आज भी लोहा मानता है, देश के टॉप 10 वैज्ञानिको के बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है |

ये भी पढ़े: वैज्ञानिक कैसे बनें ? वैज्ञानिक बननें के उपाय

ये भी पढ़े: 12th के‌ बाद किसी भी क्षेत्र में करियर कैसे बनाए

1.ए. पी. जे. अब्दुल कलाम

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम जी का पूरा नाम डॉ अबुल पाकिर जैनुलाबदीन अब्दुल कलाम है, इनका जन्म 15 अक्टूबर, 1931 को तमिलनाडु के रामेंश्वरम में हुआ था, ए पी जे अब्दुल कलाम जी को भारत का मिसाइल मैन कहा जाता है, इन्होनें नें भारत को परमाणु सम्पन्न देश बनानें में अहम् भूमिका निभाई है, भारत का पहला परमाणु परीक्षण इन्ही की निगरानी में संपन्न हुआ, इसके बाद देश का पोखरण परमाणु परिक्षण (देश का द्वितीय) इन्ही के मार्गदर्शन में संपन्न हुआ | कलाम जी अपनी लोकप्रियता के कारण भारत के राष्ट्रपति के पद को भी सुशोभित किया और इन्हे भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया है |

2.ए. एस. किरण कुमार

यह भारत के महान वैज्ञानिक है और भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) के वर्तमान समय में अध्यक्ष है, इन्होनें अंतर्राष्ट्रीय मौसम विज्ञान, भूमि, महासागर, वातावरण और ग्रहों से जुड़े कई शोध किये है, इन्होंनें ही मंगल गृह की कक्षा में भेजे गए  मार्श ऑर्बिटर की सफल रणनीति तैयार की इन्होंनें ही मंगल ग्रह की कक्षा की ओर भेजे गए मार्श ऑर्बिटर की सफल योजना बनायी है और इसको सफल बनानें में मुख्य भूमिका निभाई है, मंगलयान और चंद्रयान में प्रयोग हुए प्रमुख उपकरणों की खोज के लिए ए एस किरण कुमार जी को पद्मश्री से सम्मानित किया गया है |

ये भी पढ़े: सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की खासियत

3.राकेश के जैन

भारतीय मूल के अमेंरिकी वैज्ञानिक राकेश के जैन जी ट्यूमर बायॉलजी में के विशेषज्ञ है, ट्यूमर और कीमोथेरपी व रेडियॉलजी उपचार के क्षेत्र में कार्य के कारण इन्हे अमेंरिका का सर्वोच्च विज्ञान क्षेत्र का ‘नैशनल मैडल ऑफ़ साइंस’ पुरस्कार प्रदान किया गया है |

4.वेंकटरमन रामाकृष्णन

वेंकटरमन रामाकृष्णन जी का जन्म 1952 में तमिलनाडु के कड्डालोर जिले में हुआ था, वर्ष 2009 में इन्हे रसायन विज्ञान में कोशिका के अंदर प्रोटीन का निर्माण करनें वाले राइबोजोम की संरचना के गहन शोध के लिए अन्य दो वैज्ञानिकों के साथ संयुक्त रूप में नोबेल पुरस्कार प्रदान किया गया है, यह ब्रिटेन कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी की एमआरसी लेबोरेट्रीज़ ऑफ़ मॉलिक्यूलर बायॉलजी के सी स्ट्रकचरल स्टडीज़ विभाग के प्रमुख वैज्ञानिक पद पर कार्यरत हैं |

ये भी पढ़े: सफलता के लिए जरुरी है Focus

5.सतीश धवन

सतीश धवन जी का जन्म जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर जिले में हुआ था, इन्होंनें भारतीय विज्ञान संस्थान में 20 वर्षों तक कार्य किया, वर्ष  1971 में इन्हें पद्म पुरस्कार से सम्मानित किया गया है, इन्होंनें ध्वनि से तेज रफ़्तार (सुपरसोनिक) विंड टनल का विकास करनें का प्रमुख कार्य किया है, इन्ही के नाम पर आंध्र प्रदेश के श्रीहरीकोटा में भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के प्रक्षेपण केंद्र का नाम सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र रखा गया है |

ये भी पढ़े: सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की खासियत

6.सी एन आर राव

इनका पूरा नाम चिंतामणि नागेश रामचंद्र राव है, इनका जन्म 30 जून 1934 को बेंगलुरु में हुआ था, रसायन विज्ञान के क्षेत्र में इन्होनें कई सफलता प्राप्त की है, इनका सम्बन्ध  भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान, आईआईटी कानपुर, भारतीय विज्ञान संस्थान, ऑक्सफ़ोर्ड विश्वविद्यालय, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय, कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय आदि से भी रहा है, इन्हे पद्मश्री, पद्मविभूषण और  भारत रत्न से सम्मानित किया गया है |

ये भी पढ़े: कृषि वैज्ञानिक (Agricultural Scientist) कैसे बने

7.उडुपी रामचन्द्र राव

उडुपी रामचन्द्र राव जी का जन्म 10 मार्च, 1932 को कर्नाटक में हुआ था, इन्हे पद्मभूषण पुरस्कार, ग्रुप अचीवमेंट पुरस्कार, नासा, थियोडोर वॉन कार्मन पुरस्कार, विश्वमानव पुरस्कार इत्यादि से सम्मानित किया गया है, वर्ष 1975 में प्रथम भारतीय उपग्रह ‘आर्यभट्ट’ सहित 18 से अधिक उपग्रह का मॉडल डिजाइन और उनको संचालित करनें का कीर्तिमान इन्होनें ही स्थापित किया था |

8.डॉ के कस्तूरी रंगन

डॉ के कस्तूरी रंगन का जन्म केरल के एर्नाकुलम में 24 अक्टूबर, 1940 को हुआ था, इन्होनें खगोल विज्ञान के क्षेत्र में इनका विशेष योगदान प्रदान किया, इन्होनें इसरो के PSLV एवं GSLV प्रॉजेक्ट्स पर कार्य किया था, इसके बाद इन्होनें चंद्रयान-I, इनसेट-2 , भारतीय दूर संवेदी उपग्रह आईआरएस 1A तथा 1B को अपना नेंतृत्व प्रदान किया, भारत सरकार नें  इनके योगदान के लिए पद्म विभूषण, पद्म भूषण तथा पद्मश्री पुरस्कारों से सम्मानित किया है। कॉस्मिक एक्स-रे व गामा-रे के स्रोतों तथा प्रभाव संबंधी शोध पर इन्होनें अपना प्रभाव पूर्ण सहयोग प्रदान किया गया हैं |

ये भी पढ़े: अपने अंदर के Talent को कैसे पहचाने

9.जी माधवन नायर

जी माधवन नायर जी का जन्म 31 अक्टूबर 1943 को केरल के तिरुवनंतपुरम में हुआ था, भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (ISRO) के यह प्रमुख रह चुके हैं, अपनें छ: वर्ष के कार्यकाल में इन्होनें 25  सफल मिशन पूरे करनें का कीर्तिमान स्थापित किया हैं, इसमें चंद्रयान-I की उपलब्धि सर्वोपरि है | भारत सरकार नें इनके अतुलनीय योगदान के लिए पद्म भूषण, पद्म विभूषण, लिमका बुक ऑफ़ रिकार्ड्स, ‘मैन ऑफ़ द इयर’ पुरुस्कार से सम्मानित किया है |

10.डॉ. के. राधाकृष्णन

डॉ के राधाकृष्णन का जन्म 29 अगस्त, 1949 को केरल में हुआ था, इन्होनें केरल विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रिकल इंजिनियरिंग की उपादि प्राप्त की है, इन्हे अंतरिक्ष वैज्ञानिक के रूप जाना जाता हैं, इन्होनें सर्वप्रथम विक्रम साराभाई स्पेस सेंटर से अपनें कार्य की शुरुवात की इसके बाद यह इसरो के अध्यक्ष रहते हुए GSLV के लिए स्वदेशी क्रायोजेनिक इंजन व मंगलयान को सफलतापूर्वक अपनें निर्धारित लक्ष्य तक पहुंचानें का कीर्तिमान स्थापित किया, भारत सरकार नें इन्हे पद्म भूषण पुरस्कार से सम्मानित किया है |

ये भी पढ़े: भारत के प्रमुख शोध-संस्थान (India’s Major Research Institute)

यहाँ पर हमनें आपको देश के टॉप 10 वैज्ञानिको के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी हैं, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहें है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: कैसे बने – अधिकारी, डॉक्टर, इंजीनियर, वैज्ञानिक

ये भी पढ़े: यूनेस्को द्वारा घोषित भारत के 37 विश्व धरोहर स्थल की सूची