क्या आप भी बोर पढाई को खेल की तरह आसान बनाना चाहते है

बोर पढाई को खेल की तरह आसान कैसे बनाये 

वर्तमान समय में शिक्षा को प्रभावी रूप से बच्चो के देनें के लिए खेल के रूप में शिक्षा प्रदान करनें पर अधिक महत्व दिया जा रहा है, वैज्ञानिक निष्कर्षो के आधार पर पाया गया कि, बच्चो को खेल में रूचि अधिक होती है, और उनका सारा ध्यान खेल पर होता है, इस आयु में बच्चो के ध्यान को खेल से हटाया नहीं जा सकता हैं, बल्कि उस खेल को शिक्षा से जोड़ कर बच्चो को शिक्षित किया जा सकता है |

प्रत्येक आयु में मनोवृति में परिवर्तन होता रहता हैं, उस मनोवृति को ध्यान रख कर पाठ्यक्रम के निर्माण किया जाये तो, शिक्षा ग्रहण करनें के समय को बचाया जा सकता हैं, इस तरह से खेल को शिक्षा के रूप में प्रयोग किया जा सकता है, यदि आप भी पढाई को खेल की तरह आसान बनाना चाहतें हैं, तो इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है |

ये भी पढ़े: इंग्लिश बोलना कैसे सीखे

पुस्तकों को हास्य चित्रण करके

अधिकांश देखा गया हैं कि, गर्मी कि छुट्टियों में बच्चे कॉमिक्स पढ़ते है, इससे उनका मनोरंजन होता हैं, और पढ़नें की इच्छा बढ़ जाती है, कि इस कहानी में आगे क्या होगा ? बच्चो की इस रूचि को देखते हुए यदि उनके पाठ्यक्रम को एक कॉमिक्स के रूप प्रस्तुत करनें पर उनका पाठ्यक्रम जल्दी समाप्त हो जायेगा और उनका मनोरंजन भी हो जायेगा, इस तरह से गर्मी कि छुट्टियों का उचित प्रयोग किया जा सकता है |

पाठ्यक्रम को विभाजित करना

आप अपनें पाठ्य क्रम को कुछ छोटे-छोटे भागो में विभाजित करके  पूरे पाठ्यक्रम को बहुत  ही आसानी  से समाप्त कर सकते है, प्रत्येक विषय के कुछ पाठ को एक छोटे से भाग में रखे और उसको समाप्त होनें के बाद ही अन्य भाग को पढ़ना शुरू करे, प्रत्येक भाग को समाप्त करनें का एक समय सीमा का निर्धारण कर ले और उसको उसी के अंदर समाप्त करने का प्रयास करे, जब आप एक भाग को समाप्त कर लेंगे, तो आपको अपनें लक्ष्य को प्राप्त करनें की ख़ुशी होगी, इससे आपको प्रोत्साहन प्राप्त होगा और इस लक्ष्य की तुलना आप आगे के विभाजित भागों से कर सकते हैं |

प्रश्नपत्र का प्रारूप

किसी भी परीक्षा को देनें से पहले उसके प्रश्न पत्र के प्रारूप को अच्छी तरह से समझ लेना चाहिए, प्रत्येक प्रश्न  पत्र के अंदर कई भाग या खंड होते है उन खंड या भाग में प्रश्नो की संख्या निर्धारित होती है, इसकी जानकारी आप को बहुत ही आवश्यक हैं, आप इसके लिए पुरानें दस वर्षो के प्रश्न पत्रों का अध्ययन कर सकते हैं, इससे आपको महत्वपूर्ण प्रश्नो का ज्ञान हो जायेगा, यदि इन महत्वपूर्ण प्रश्नो को कही नोट कर ले तो बेहतर होगा, इसके बाद आप मॉडल पेपर का भी अध्यन कर ले जिससे भविष्य में आनें वाले प्रश्नो का भी आपको लगभग अंदाजा हो जायेगा, आप प्रत्येक प्रश्न पत्र को समय के अंदर हल करने का प्रयास करें |

ये भी पढ़े: कैसे करे अपने दिन की सही शुरुआत

परीक्षा से पूर्व नियंत्रण

परीक्षा के समय जब आपको प्रश्न पत्र मिले तो उसको सही से समझ ले और उसमें देख ले आप को कौन सा प्रश्न सबसे अच्छी तरह से आता है, आप उसी को हल करना शुरू करे, परीक्षा के समय आप आपनें आप पर पूर्ण रूप से नियंत्रण रखे, अधिकांश देखा गया हैं कि प्रश्न पत्र को देख कर ही बच्चे जल्दबाजी करनें लगते है, जिससे वह प्रश्नो का सही उत्तर नहीं देते है, जो प्रश्न में पूछा गया है, आप का उत्तर उसी पर होना चाहिए, यदि प्रश्न बड़ा हो, तो उसी उत्तर में और जानकारी का समावेश उसी विषय से सम्बंधित होनी चाहिए, इधर- उधर कि बातो का समावेश नहीं करना चाहिए, यदि आपके उत्तर देनें का तरीका सुन्दर होगा तो आपको अच्छे अंक प्राप्त होंगे, उत्तर देते समय यदि सही जानकारी आप नहीं देंगे तो आप ज्यादा सुंदरीकरण भी कर देंगे तब भी आपको अच्छे अंक प्राप्त नहीं होंगे, इसलिए सदैव सही जानकारी ही देना चाहिए  |

यहाँ पर हमनें आपको पढाई को खेल की तरह आसान बनानें के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी हैं, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहें है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: कैसे बने Ideal Student