पेट को कैसे साफ करें

पेट साफ करनें हेतु महत्वपूर्ण जानकारी (Information To Clean Stomach)

पेट साफ ना रहना या खराब हो जाना अधिकांश लोगो के लिए यह एक आम समस्या बनती जा रही है, जो बहुत ही गंभीर हो सकती है। इस भागदौड़ भरी जिंदगी में लगभग हर दूसरा इंसान पेट की समस्या से परेशान है। लाख कोशिश करने के बाद भी लोग पेट की बीमारी का शिकार हो जाते हैं। पेट के संक्रमण के प्रमुख कारण अनियमित दिनचर्या और गलत खान-पान हैं। मनुष्य के शरीर में आहार नाल एक ऐसा भाग है, जो पेट से गुदा तक फैला है| क्षेत्र का अंतिम भाग आंत में उस समय तक के लिए पचे हुए भोजन के अवशिष्ट पदार्थ जमा रहते हैं, जब तक उसे मल के रूप में शरीर से निकाल नहीं दिया जाता। इसके अस्‍वस्‍थ होने पर इसका सीधा प्रभाव हमारे स्‍वास्‍थ्‍य पर पड़ता है, इसलिए आंतों का स्‍वस्‍थ होना बहुत आवश्यक है।

ये भी पढ़े: हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में क्या अंतर होता है?   

ADVERTISING

ये भी पढ़े: सुबह खाली पेट में पानी पीने के फायदे

आज-कल बाजार में अनेक प्रकार के खाद्य पदार्थ लगभग सभी जगह उपलब्ध होते है| अधिकांश खाद्य पदार्थ जो आज हम खाते हैं, उनमें कई प्रकार के रसायनों से भरे होते हैं, जो कोलन में श्‍लेष्‍म का निर्माण कर सकते हैं, जिससे हमारे शरीर में जहरीला पदार्थ पैदा होता है, इसलिए हमे पेट की सफाई करना आवश्यक हो जाता है।

पेट की सफाई की आवश्यकता (Why Stomach Cleansing Is Necessary)

पेट की सफाई एक ऐसी प्रक्रिया है, जो आपके शरीर को डिटोक्सिफाई करने में मदद करती है, और आपके पाचन स्‍वास्‍थ्‍य के साथ-साथ आपके जीवन की समग्र गुणवत्ता पर अच्छा प्रभाव डालती है। प्रतिरक्षा प्रणाली को बेहतर बनाये रखनें के लिए पेट की सफाई अत्यंत आवश्यक है, यह हमारी मानसिक क्षमता में सुधार करने भी मदद करता है, इससे कोलन कैंसर का खतरा कम हो जाता है।

कभी-कभी हम एक के बाद दूसरी और दूसरी के बाद तीसरी और कई चीजे खाते चले जाते है, जिससे हमारा पेट ख़राब हो जाता है|  अपशिष्‍ट और विषाक्त पदार्थ हमारे पाचन तंत्र में एकत्रित हो जाते है। जिसके कारण अनेक समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं, जैसे कि कब्ज, सिर दर्द, जोड़ों में दर्द, वजन बढ़ना, उल्‍टी, कम ऊर्जा का स्तर, थकान, दस्त, अपच, द्रष्टि की समस्या, त्वचा एलर्जी और तनाव आदि। यदि लंबे समय तक इसका उपचार नहीं किया जाता है तो इसके परिणाम स्वरूप पित्‍ताशय की थैली, अस्थमा, हृदय की समस्याएं, गुर्दे और यकृत रोग जैसी घातक बीमारियां हो सकती हैं, इसलिए पेट की सफाई आवश्यक है।

ये भी पढ़े: टाईफाइड क्या है ?

पेट ख़राब होनें के लक्षण (Symptoms of Upset Stomach)

जब हमारे पेट में अपशिष्‍ट और विषाक्त पदार्थो के कारण शरीर में विषाक्तता बनी रहती है, इससे विभिन्न लक्षण देखने को मिलते हैं, जो इस प्रकार हैं-

  • दस्त, कब्ज, खराब पेट
  • थकान, वजन बढ़ना आदि
  • सिरदर्द, उल्‍टी, सूजन
  • ऊर्जा का स्तर कम होना
  • सांसों की बदबू,
  • त्वचा रोग

ऐसी स्थिति में यदि पेट की उचित सफाई नहीं की जाती है तो इससे पूरे शरीर में एलर्जी, पित्त मूत्राशय के पत्थर हृदय रोग जैसी अनेक गंभीर बीमारियां हो सकती हैं।

पेट की सफाई से लाभ (Benefits of Cleaning The Stomach)

ऐसा माना जाता है, कि एक प्राकृतिक रूप से स्वच्छ पेट आपके शरीर से अवांछित पदार्थों को स्वतः ही शारीर से बाहर निकाल देता है। पेट की सफाई से लाभ से बहुत से लाभ होते है, जो इस प्रकार है –

  • पेट को साफ रखना वजन कम करने में आपकी मदद कर सकता है।
  • आपके मानसिक और शारीरिक स्‍वास्‍थ्‍य को बढ़ाना।
  • आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करना।
  • कोलन कैंसर के विकास और खतरे को कम करना।
  • कब्ज से राहत दिलाना।
  • पाचन तंत्र में सहायता करना।
  • उचित रक्त परिसंचरण को नियंत्रित करना।
  • अच्छी नींद लाना। (और पढ़े- अनिद्रा के कारण, लक्षण और उपचार)
  • शरीर में विटामिन और खनिजों के उचित अवशोषण में मदद करना।

ये भी पढ़े: Cancer (कैंसर) क्या है? 

पेट को साफ करने के चमत्कारिक घरेलु उपाय (Miracle Home Remedies To Clean Stomach)

पेट ठीक से साफ न होने से पेट मे गैस और मरोड़ जैसी समस्याए होने लगती है| इस समस्या को दूर करने के लिए बहुत से लोग अंग्रेज़ी दवा का उपयोग करते है, लेकिन आप इस समस्या से छुटकारा पाने के लिए घरेलू उपाय अपना सकते है, जो इस प्रकार है

1.एलोवेरा (Aloe Vera)

एलोवेरा पेट की सफाई करनें के साथ ही त्वचा की समस्याओं, कब्ज, दस्त और सिर दर्द के इलाज के लिए भी उपयोगी होता है। एलोवेरा डिटॉक्सिफिकेसन गुणों से भरपूर होता है, जो पेट को साफ करने के लिए प्रभावी रूप से कार्य करता है।

2.त्रिफला (Triphala)

त्रिफला चूर्ण को तीन फलों को मिलाकर बनाया जाता है। यह विटामिन सी, बायोफालावोनॉयड और फास्‍फोलिपिड्स में समृद्ध होते हैं, इसमें लक्‍सेटिव होते हैं, जो शारीर में विषाक्त पदार्थों को समाप्त करनें में सहायक होते हैं| त्रिफला आयुर्वेदिक दुकानों में आसानी से उपलब्ध है। इस समस्या से निजात पाने के लिए त्रिफला चूर्ण को नियमित रूप से सेवन करना चाहिए।

3.नींबू रस (Lemon Juice)

नींबू पेट साफ़ करनें में अहम् भूमिका निभाता है, क्योंकि इसमें एंटीआक्‍सीडेंट गुण होते हैं, और इसकी उच्च विटामिन सी सामग्री पाचन तंत्र के लिए अच्छी होती है, इसलिए पेट की सफाई के लिए नींबू के रस का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके लिए आपको एक गिलास पानी में एक नींबू का रस, एक चुटकी नमक और थोड़ा सा शहद मिलाना है। इस मिश्रण को सुबह खाली पेट पीएं। यह आपको अधिक ऊर्जा, मल त्यागने में सुविधा और त्वचा को बेहतर बनाने में मदद करेगा।

पेट साफ़ करनें के लिए सेब के जूस का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, इसके लिए आप सेब के जूस में ताजा नींबू के 2 चम्मच रस को मिलाएं। इस नींबू युक्त सेब के जूस को दिन में लगभग दो से तीन बार सेवन करें। यह आंत्र मे श्‍लेष्‍म को पतला करने में आपकी मदद करेगा। कुछ दिनों के लिए इन घरेलू उपचारों में से किसी एक का पालन करें यह आपके लिए बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है।

ये भी पढ़े: ब्लड शुगर कैसे चेक करे

4.लाल मिर्च और नींबू (Cayenne pepper and lemon)

लाल मिर्च और नींबू पेट में श्‍लेष्‍म को तोड़ने और अपशिष्‍ट पदार्थों को खत्म करने में मदद करता है। एक गिलास पानी में आधा चम्मच मिर्च पाउडर और ताजा नींबू का रस मिलाएं और इसका सेवन करें। यदि मिर्च के कारण आपके पेट में जलन होनें लगे तो  हर 15 मिनट में एक चम्मच शहद का सेवन करें जब तक की पेट की जलन शांत ना हो जाए।

5.इसबगोल का प्रयोग (Isabgol)

पेट को साफ करने के लिए इसबगोल बिना कोई दुष्प्रभाव के बहुत ही उपयोगी जड़ी बूटी है। इसबगोल आपके कोलन से हानिकारक विषाक्त पदार्थों को अवशोषित करता है और इसे आपके शरीर से बाहर निकाल देता है।

6.समुद्री नमक (Sea Salt)

पेट की सफाई के लिए समुद्री नमक एक बहुत ही प्रभावी होता है। यह पाचन तंत्र से विषाक्त पदार्थ, बैक्‍टीरिया और परजीवी को हटाने में मदद करता है। एक गिलास पानी को उबालते समय इसमें एक चुटकी समुद्री नमक मिलाए। इसे ठंडा करने के बाद इस गुनगुने पानी का सेवन करें। इस पानी को पीने के बाद जमीन पर लेट जाएं और अपने पेट नीचे की तरफ मालिश करें। यह पेट से अपशिष्‍ट पदार्थों को हटाने में मदद करेगा। दिल की बीमारियों और रक्तचाप से पीड़ित लोगों के लिए इसकी सलाह नहीं दी जाती है।

7.अदरक का जूस (Ginger Juice)

अदरक पेट को अपशिष्‍ट और विषाक्तता से दूर रखने में हमारी मदद करता है। पेट से सम्बंधित समस्या होनें पर एक चम्मच अदरक का रस लें और इसमें पानी और शहद को मिलाएं। इस मिश्रण को दिन में 2-3 बार पीए। इस मिश्रण का उपयोग तब तक करना चाहिए जब तक की आपकी पेट की समस्या हल ना हो जाए। अदरक आपको और भी बहुत से स्‍वास्‍थ्‍य लाभ दिलाने में मदद करता है। चाय में अदरक का प्रयोग कर भी आप अपने पेट की सफाई कर सकते हैं। अदरक को कैंडी, मसल कर या रस निकाल कर उपयोग कर सकते है। गर्भवती महिलाओं और स्‍तनपान कराने वाली महिलाओं को इसके उपयोग से बचना चाहिए।

ये भी पढ़े: डिप्रेशन से बाहर कैसे निकले?

पेट की सफाई करने हेतु आसान टिप्स (Stomach Cleaning Tips)

  • प्रतिदिन भोजन करने के बाद एक सेब अवश्य खाएं, क्योंकि इससे भोजन पचने मे कोई समस्या नहीं होती और हर सुबह पेट भी खुलकर साफ होता है,इसलिए प्रतिदिन सेब को अच्छे से चबा चबा कर ज़रूर खाएं आपको ज़रूर लाभ होगा |
  • अपने भोजन में हरी मिर्च तथा लाल मिर्च का इस्तेमाल करे, इससे भी काफी लाभ होता है | यह भोजन को आंतों मे रुकने नहीं देता, जिसके कारण पेट अच्छी तरह से साफ हो जाता है |
  • पानी को गुनगुना कर उसमें  2 चम्मच नींबू का रस मिलाये और चुटकी भर नमक मिलाएं और इसे घोल कर पिये| ऐसा करने से पेट साफ न होने की समस्या से छुटकारा मिलता है, और खुलकर शौच आता है |
  • सुबह के समय खाने के साथ पतिदिन एक कप दही का सेवन करे, और यह ध्यान रखे कि दही को सादा ही खाएं उसमे कुछ मिलाएँ नहीं |
  • बार बार होने वाली कब्ज़ की समस्या से बचने के लिए दिन मे 4-5 लीटर पानी पीएं और खाना खाते समय जल्दबाज़ी न करें आराम से चबा चबा कर खाएं |
  • रात को सोने से पहले 20-25 ग्राम किशमिश लेकर पानी मे भिगो कर रख दें और अगली सुबह इसे उठते ही खालें, यह उपाय रोजाना करने से पुराने से पुराने कब्ज़ का उपचार होता है |

यहाँ पर हमनें आपको पेट साफ़ करनें के विषय में बताया| यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: A1 और A2 दूध क्या होता है

ये भी पढ़े: वायु गुणवत्ता सूचकांक (AQI) क्या होता है

ये भी पढ़े: हेयर ट्रांसप्लांट (Hair Transplant) क्या है

ADVERTISING