A1 और A2 दूध क्या होता है

A1 और A2 दूध की जानकारी (A1 And A2 Milk)

दूध एक संपूर्ण पौष्टिक आहार के रूप में जाना जाता है, जिसे शाकाहारी और मांसाहारी दोनों ही वर्ग के लोग एक सामान लेते हैं। दूध बच्चों के न्यूटरीशन का बहुत महत्वपूर्ण हिस्सा माना जाता है, क्योंकि इसमें भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है | इसके साथ ही इसमें अन्य विभिन्न तत्व भी मौजूद हैं, जैसे लैक्टोज, फैट, अन्य विटामिन्स और मिनरल्स आदि है, जो हमारी सेहत के लिए लाभकारी होता है| दूध में दो तरह का प्रोटीन होता है, एक वह प्रोटीन और दूसरा केसीन प्रोटीन । केसीन प्रोटीन भी दो रूपों में मिलता है, अल्फा केसीन और बीटा केसीन। बीटा केसीन भी दो रूपों में पाया जाता है, जिसे हम A1 और A2 दूध कहते है| आईये जानते है, कि A1 और A2 दूध में क्या होता है, और इनमें क्या अंतर है?

ये भी पढ़े: गाय और भैंस के दूध बढ़ाने की विधि

ये भी पढ़े: जीरो बजट नेचुरल फार्मिंग (खेती) क्या है   

वर्तमान समय में बाजारों में  में दो प्रकार का दूध पाया जाता है | पहला  A1 दूध और दूसरा A2 दूध | इन दोनों प्रकार के दूध देने के लिए गाय भी अलग- अलग होती है क्योंकि, A1 दूध देने के लिए भारत में आयातित की जाने वाली गाय, जिन्हें हायब्रिड, जर्सी गाय,होल्स्टीन या अन्य नामों से जानते है, जो अब भारत में भी पायी जाती है | A2 दूध के लिए A2 किस्म की गाय  होती हैं, जिन्हें देसी गाय के नाम जाना जाता है, इसमें दुग्ध उत्पादन मात्रा कम होती है | वहीं दूध बिकने की बात  करें तो आजकल भारत और दुनिया भर में  A1 दूध का प्रयोग अधिक किया जा रहा है, क्योंकि देश में हायब्रिड गायों की तादाद बढ़ रही है, और लोग इन गायों को पालना ज्यादा पसंद करते है और कम लागत में अधिक दुग्ध का उत्पादन करते है |

A1 और A2 दूध क्या है (A1 And A2 Milk Kya Hai  )

जैसा कि हम जानते है, कि दूध में कैल्शियम और प्रोटीन अधिक मात्रा में पाया जाता है | प्रोटीन कई प्रकार के होते हैं, उसमें से एक प्रकार है केसीन| A1 और A2 दूध , गाय के दूध में पाए जाने वाले बीटा केसिन प्रोटीन के प्रकार हैं| हम यह कह सकते है, कि दूध में 80% केसीन प्रोटीन पाया जाता है| संयुक्त राज्य अमेरिका से आयात की गई जर्सी गाय के दूध में A1 और A2 दोनों तरह के बीटा केसीन प्रोटीन पाए जाते हैं| वहीं यूरोप से आयातित होल्स्टीन गाय के दूध में A1 प्रोटीन होता है| व्यावसायिक रूप से उत्पादित अधिकांश दूध और दुग्ध उत्पादों में A1 बीटा केसीन ही होता है|

भारत में पायी जाने वाली गायों में सबसे अधिक A1 दूध देने वाली गाय शामिल है| यह गाय बाहर के देशो में भी बहुत अधिक पायी जाती हैं,  जिसे हाइब्रिड गाय के नाम से जाना जाता हैं | A1 दूध देने वाली गाय के दूध में एक अलग प्रकार का अमीनो एसिड पाया जाता है, जिसे हिस्टीडाईन कहते है|

ये भी पढ़े: Interesting Facts & Articles in Hindi (बात काम की)

यदि हम A2 दूध की बात करे तो, इस प्रकार का दूध देसी गाय देती हैं| उसमें केसीन प्रोटीन के साथ-साथ एक खास प्रकार का अमीनो एसिड भी निकलता है, जिसे हम प्रोलीन कहते हैं| दूध में उपस्थित प्रोटीन पेप्टाइड्स में परिवर्तित होता है, बाद में यह अमीनो एसिड्स का स्वरूप लेता है| अमीनो एसिड हमारी सेहत के लिए बहुत महत्वपूर्ण होता है, परन्तु ये अमीनो एसिड जो A2 गाय के दूध में पाया जाता है| इसके अंतर्गत आने वाली गायों को गिर गाय, साहिवाल गाय, लाल सिंधी गाय और राठी गाय गाय है |

भरपूर मात्रा में प्रोलीन पाया जाता है, जो हमारे शरीर में BCM 7 को पहुंचने में रोक लगाने का काम करता है| BCM 7 एक छोटा सा प्रोटीन होता है, जिसे ओपीओइड पेप्टाइड कहा जाता है | यह  ऐसा प्रोटीन होता है, जो हमारे शरीर में अच्छी तरह से पच नहीं पाता है | जिससे हमारे शरीर में कई तरह की समस्याएं उत्पन्न होने लगती है |

ओपीओइड पेप्टाइड क्या है (BCM 7) 

BCM 7 पर  की गई रिसर्च  में  शोधकर्ताओं ने बताया कि,  A2 दूध को पचाना आसान होता है |  A1 बीटा केसीन वाले दूध में ज्यादा मात्रा में BCM 7 होता है | यदि यह दूध बच्चों को दिया जाए तो उनमें मधुमेह की समस्या होनें की संभावना बढ़ जाती है| इस बात की पूरी जानकारी लेने के लिए  स्कॅन्डिनेवियन और नीदरलैंड में शोधकर्ताओं ने इस पर रिसर्च की है| जिससे सामने आया  कि, BCM 7 स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है|

ये भी पढ़े: वैज्ञानिक खेती (Scientific Agriculture) क्या है

A1 और A2 दूध में अंतर (Difference Of A1 & A2 Milk)

वैज्ञानिकों द्वारा की गयी शोध के अनुसार,  A2 किस्म का दूध, A1 किस्म के दूध से कई गुणा स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक होता है। A2 किस्म का दूध देसी नस्‍ल की गाय से प्राप्त होता है। इस किस्म की गाय ताजी और हरी घास खाती हैं। साथ ही A2 किस्म का दूध देने वाली गाय सफेद नहीं बल्कि गहरे भूरे रंग की होती है। इसमें A1 किस्म के दूध की तुलना में अधिक प्रोटीन और पोषक तत्व होते हैं। इस तरह का दूध डायबिटिज, हृदय रोग एवं न्‍यूरोलॉजीकल डिसऑर्डर से बचाता है, एवं शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को भी बढ़ता है। शोधकर्ताओं का यह भी कहना है कि लंबे समय तक A1 टाइप का दूध पीने से कई तरह की स्वास्थ्य समस्यांए होने का खतरा भी रहता है।

ये भी पढ़े: आर्गेनिक फार्मिंग (जैविक खेती) क्या है

यहाँ पर हमनें A1 और A2 दूध के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: पशुपालन लोन कैसे ले जाने पूरी जानकारी

ये भी पढ़े:  ऑडियोलॉजी में करियर कैसे बनाएं, कहाँ से करे कोर्स

ये भी पढ़े: प्रधानमंत्री कामधेनु योजना, पशुपालन, मत्स्य पालन लोन स्कीम