गाय और भैंस के दूध बढ़ाने की विधि

ऐसे बढ़ाये गाय और भैंस का दूध (Increase Cow and Buffalo Milk)

भारत में लगभग किसान गाय और भैंस पालने के शौक़ीन होते हैं| दरअसल, गाय और भैंस के दूध में कईं प्रकार के आवश्यक पौषक तत्व और प्रोटीन पाए जाते हैं, जो हमारे शरीर को रोग निरोधक बनाते हैं| आज के समय में गाय और भैंस को डेरी प्रोडक्ट्स बनाने के लिए भी खरीदा जा रहा है| इनके दूध से दही, पनीर, घी आदि बनाए जाते हैं, इसलिए इनकी बिक्री निरंतर बढ़ती जा रही है|

ये भी पढ़े: पशुपालन लोन कैसे ले जाने पूरी जानकारी 

ये भी पढ़े: प्रधानमंत्री कामधेनु योजना, पशुपालन, मत्स्य पालन लोन स्कीम

गाय और भैंस के दूध बढ़ाने के लिए पशुओं को संतुलित आहार देना अत्यंत आवश्यक है, क्योंकि संतुलित आहार पशुओं में दूध उत्पादन की क्षमता को बढ़ानें के साथ ही पशुओं को स्वस्थ भी रखता है। व्यस्क पशु, गाभिन पशु और बच्चे इन सभी के आहार की मात्रा अलग-अलग होती है, परन्तु पशुपालक इसका ध्यान नहीं रखते है, उनके पास जो भी उपलब्ध होता है, उन्हें देते है। आईये जानते है, कि आप गाय और भैंस के दूध को कैसे बढ़ा सकते है, इसके लिए क्या करना चाहिए?

ये भी पढ़े: वैज्ञानिक खेती (Scientific Agriculture) क्या है

 गाय और भैंस के दूध बढ़ाने की विधि (Method Of Raising Milk)

जानकारी देते हुए बता दें कि, जब जानवरों को भरपूर मात्रा में पालन पोषण नहीं  मिल पाता है, तो जानवरों का शारीरिक विकास होना बंद हो जाता है, जिससे पशुओं में रोगी प्रतिरोधी क्षमता काफी कम होती चली जाती है।  इसके बाद उनकी दूध देने की क्षमता भी कम हो जाती है | यदि आपके पास जानवर है, तो अच्छे दूध उत्पादन के लिए उनका पोषण अच्छी तरह से करना चाहिए | ताकि, उनका स्वास्थ्य बिलकुल सही और वो अधिक दूध  उत्पादन करें |

वैसे तो पशुपालक अपने जानवरो को 24 घण्टों में केवल दो समय दाना व चारा खिलाते है, और दो समय के उसके आहार में आप अपने जानवर को 5 किलो का चोकर खिला देते है, लेकिन ऐसा करने से गाय और भैंस अधिक दूध उत्पादन नहीं करते है | वहीं यदि आप पशु को वहीं 5 किलो चोकर चार बार दें, तो आपका पशु आपको अच्छा दूध  उत्पादन करेगा | इसके साथ ही आप अपने पशु को  समय-समय पर चारा चोकर और पानी पिलाते रहेंगे, तो गाय और भैंस दूध अधिक देती है |

ये भी पढ़े: कृषि वैज्ञानिक (Agricultural Scientist) कैसे बने

पशुओ के लिए इस तरह बनाए संतुलित आहार (Balanced Diet)

  • दाना (मक्का, जौ, गेंहू, बाजरा) इसकी मात्रा लगभग 35 प्रतिशत होनी चाहिए। चाहें बताए गए दाने मिलाकर 35 प्रतिशत हो या अकेला कोई एक ही प्रकार का दाना हो तो भी खुराक का 35 प्रतिशत दे।
  • खली(सरसों की खल, मूंगफली की खल, बिनौला की खल, अलसी की खल) की मात्रा लगभग 32 किलो होनी चाहिए। इनमें से कोई एक खली को दाने में मिला सकते है।
  • चोकर(गेंहू का चोकर, चना की चूरी, दालों की चूरी, राइस ब्रेन,) की मात्रा लगभग 35 किलो। खनिज लवण की मात्रा लगभग 2 किलो
  • नमक लगभग 1 किलो इन सभी को लिखी हुई मात्रा के अनुसार मिलाकर अपने को पशु को खिला सकते है।

ये भी पढ़े: Interesting Facts & Articles in Hindi (बात काम की)

दूध उत्पादन बढ़ाने के लिए पशुओं का आहार  (Animal Nutrition)

  • अपने घर के पशुओं को संतुलित रखने के लिए आप  गाय  को  प्रतिदिन5 किलो दाना और भैंस को  प्रतिदिन दो किलो दाना खिलाये |
  • गाय और भैंस के ज्यादा दूध उत्पादन के लिए उन्हें सबसे पहले समय- समय पर चारा और पानी दिया जाए |
  • गाय और भैंस को हमेशा चारा में खली, बरसीम और ज्वार मिलाकर देना चाहिए |
  • विनोल को देने से भी गाय और भैंस अच्छा दूध उत्पादन करती है |
  • गाय और भैंस को हमेशा एक दिन में 32 लाटर तक पानी पिलाना चाहिए |
  • अपने जानवरों को जब भी चारा खिलाये तो वह चारा साफ और सुथरा होना चाहिए |
  • इसके बाद शाम को चारा खिलाने के बाद आप अपनी गाय और भैंस के लिए 200 से 300 ग्राम सरसों का तेल गेंहूं के आटे में मिला लें और फिर उसे  मिला हुआ आंटा खिला दें | आपको याद रखने की जरूरत है, कि यह गेंहू का आंटा खिलाने  के बाद अपने  जानवरों को पानी बिलकुल भी न पिलाये, क्योंकि इससे उसे खांसी आने की संभावना रहती है |
  • अपने जानवरों को समय समय पर आहार देते रहने से वो अच्छा दूध उत्पादन करते है |

ये भी पढ़े: जीरो बजट नेचुरल फार्मिंग (खेती) क्या है

ये भी पढ़े: आर्गेनिक फार्मिंग (जैविक खेती) क्या है

ये भी पढ़े: ऑडियोलॉजी में करियर कैसे बनाएं, कहाँ से करे कोर्स