मॉब Lynching क्या है?

मॉब लिंचिंग (Mob Lynching) के विषय में जानकारी

आज के समय में भारत में गली- मोहल्ले से लेकर समाचार पत्र, टीवी चैनलों में मॉब लिंचिंग एक बहस का मुद्दा उठा हुआ है, भारत की संसद में भी यह मुद्दा जोर से उठाया गया है और इसको रोकने के लिए केंद्र सरकार से कानून बनाने का आग्रह किया गया है | हमारे देश के कई हिस्सों में धर्म के नाम पर मॉब लिंचिंग की घटनाएं देखने को मिलती है, जिससे आम जन मानस में एक धर्म का दूसरे धर्म के प्रति विपरीत भावनाओं का जन्म होता है, जिससे निर्दोष लोगों की हत्या कर दी जाती है और राजनीतिक दलों को सरकार को घेरने का मुद्दा मिल जाता है, इस पेज पर मॉब Lynching  क्या है और इसका क्या अर्थ है और इसके कारण के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें : शिया और सुन्नी मुसलमानों में क्या अंतर है?

मॉब Lynching  क्या है?

भीड़ द्वारा किसी व्यक्ति की मार- मार कर हत्या करने की घटना को मॉब लिंचिंग कहा जाता है, भीड़ में किसी एक व्यक्ति को दोषी नहीं माना जा सकता है, जिससे ऐसी घटनाओं पर कार्यवाही नहीं हो पाती है | अक्सर ऐसा देखा गया है, ऐसी घटनाएं किसी धर्म से सम्बंधित होती है |

ये भी पढ़ें : Minority (अल्पसंख़्यक) क्या है?

मॉब लिंचिंग का अर्थ (Meaning of Mob Lynching)

मॉब लिंचिंग दो शब्दों से मिलकर बना हुआ है एक मॉब दूसरा लिंचिंग है | मॉब का अर्थ भीड़ होता है और लिंचिंग का अर्थ गैर कानूनी ढंग से प्राणदंड देना | दोनों शब्दों के द्वारा बना वाक्य है ‘भीड़ के द्वारा दिया गया मृत्यु दंड है’ |

ये भी पढ़ें : एक देश एक चुनाव का मतलब क्या है?

मॉब लिंचिंग के कारण (Causes of Mob Lynching)

भारत में सबसे बड़े दो समुदाय है एक हिन्दू दूसरा मुस्लिम | भारत पर अंग्रेजों ने अपनी सत्ता फूट डालों और राज करों की नीति से स्थापित किया था | अंग्रेज तो चले गए लेकिन वह अपनी नीतियां छोड़ गए, इन नीतियों का प्रयोग कुछ राजनीतिक दल या लोग अपने फायदे के लिए करते है |

ऐसे ही दल या लोग पहले किसी स्थान पर धार्मिक भावनाओं को बढ़ावा देते है, जिससे एक धर्म अपने आप को शक्तिशाली महसूस करने लगता है और दूसरा धर्म अपने को कमजोर समझने लगता है | फिर इन दोनों धर्मों से संबंधित किसी नाजायज घटना का अंजाम दिया जाता है, इस घटना के कारण लोगों का गुस्सा फूट पड़ता है, इस गुस्से के द्वारा दूसरे धर्म के लोगों के साथ मार- पीट की घटना को अंजाम दिया जाता है, यह मार- पीट का स्तर इतना अधिक बढ़ जाता है, उस व्यक्ति की मृत्यु हो जाती है |

ये भी पढ़ें : एक देश एक राशन कार्ड योजना क्या है?

मनोवैज्ञानिकों द्वारा निकाला गया निष्कर्ष (Conclusion)

मनोवैज्ञानिकों के अनुसार प्रत्येक धर्म की कुछ आस्थाएं होती है, इन आस्थाओं पर चोट पहुंचाने की घटनाओं के कारण मॉब लिंचिंग की घटनाएं होती है | आस्थाओं पर चोट पहुंचाने की घटनाओं को कुछ गलत लोगों द्वारा अपने लाभ के लिए किया जाता है | इससे उस धर्म के लोगों का क्रोध बढ़ जाता है, फिर इस बढ़े हुए क्रोध को एक दिशा दे दी जाती है, जिससे मॉब लिंचिंग जैसी घटना घटित हो जाती है | अभी तक भारत में इस प्रकार की घटना को रोकने के  लिए कोई कानून नहीं बना है, इसलिए इस पर दोषियों पर कार्यवाही भी नहीं हो पाती है |

ये भी पढ़ें : Money Laundering (मनी लॉन्ड्रिंग) क्या है?

यहाँ पर हमनें मॉब लिंचिंग के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें : अमरनाथ यात्रा (Amarnath Yatra) क्या है?

ये भी पढ़ें : Extradition Treaty (प्रत्यर्पण संधि) क्या है?

ये भी पढ़ें : संसद के कितने सत्र होते है?

ये भी पढ़ें : आर्टिकल 15 (Article 15) क्या है?