बीपीओ (BPO) और केपीओ (KPO) क्या है

बीपीओ और केपीओ क्या है 

भारत में आउटसोर्सिंग के माध्यम से अपनी कम्पनी का विस्तार देने के लिए अनुबंध किया जाता है | इस अनुबंध के आधार पर बीपीओ और केपीओ अपनी सेवाएं कम्पनी को प्रदान करती है | कम्पनी इस सर्विस का लाभ लेकर अपने बिजनेस को बढाती है | यह एक तीसरा पक्ष होता है , जो उत्पादन करने वाली कंपनियों को सहायता प्रदान करता है | बीपीओ और केपीओ क्या है ? इससे सम्बंधित जानकारी आपको इस पेज पर विस्तार से दे रहे है |

ये भी पढ़े: एमबीए (MBA) कैसे करे ?

ये भी पढ़े: CDPO Kaise Bane 

 बीपीओ क्या है ?

बीपीओ का फुल फॉर्म (Business Process Outsourcing) है, यह तीसरे पक्ष के साथ किया गया वह विशिष्ट अनुबंध है, जिसके आधार पर कम्पनी अपने मूल्य-बचत उपाय के रूप में बीपीओ द्वारा प्रदान की गयी सर्विस का उपयोग किया है | बीपीओ को वह कार्य प्रदान किये जाते है, जिसकी कंपनी को आवश्यकता तो होती है, परन्तु कम्पनी अपनी बाजार में शाख बनाने के लिए बीपीओ सर्विस पर निर्भर नहीं रहती है |

केपीओ क्या है ?

केपीओ ज्ञान व सूचना आधारित सेवाओं से सम्बंधित सेवा है, केपीओ में व्यक्ति को उच्च शिक्षा ग्रहण करना आवश्यक है, इसमें कानूनी सेवा, बौद्धिक सम्पदा एवं पेटेंट से जुडी सेवाएं, अभियांत्रिकी सेवाएं, वेब डेवलपमेंट, कैड/कैम अनुप्रयोग, व्यापार अनुसंधान एवं विश्लेषण, कानूनी अनुसन्धान, चिकित्सा अनुसंधान, प्रकाशन और विपणन अनुसंधान जैसी सेवाएं सम्मिलित है |

ये भी पढ़े: PCS की तैयारी कैसे करें|

बीपीओ का फुल फॉर्म

बीपीओ का फुल फॉर्म Business Process Outsourcing है, इसमें एक बीपीओ कंपनी अपने विदेशी ग्राहकों को सेवा प्रदान करने के लिए भारतीय युवाओं को नौकरी पर रखती हैं |

केपीओ का फुल फॉर्म

केपीओ का फुल फॉर्म नॉलेज प्रोसेस आउटसोर्सिंग (Knowledge process outsourcing) है, इसमें किसी क्षेत्र के विशेषज्ञ के रूप में सेवा प्रदान की जाती है |

ये भी पढ़े: कैंपस प्लेसमेंट (Campus Placement) की तैयारी कैसे करे 

बीपीओ और केपीओ में जॉब कैसे प्राप्त करे

बीपीओ और केपीओ प्रोफेशनल बनने के लिए आपको यह निर्धारित करना होगा कि आप किस विभाग में शामिल होना चाहते हैं, वित्त, लेखांकन, इलेक्ट्रिकल या डिजाइनिंग आदि विभिन्न कार्यों के लिए न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता अलग-अलग है और यह कार्यविशेष पर निर्भर करती है |

 इसमें आपको ग्राहकों से घंटों बात करना पड़ सकता है और कंपनी की सेवाओं से जुड़े ग्राहक के प्रत्येक प्रश्न का संतुलित और संतोषजनक उत्तर देना होता है, आपको भाषा का भी आपको अच्छा ज्ञान होना चाहिए | आपकी अंग्रेजी में पकड़ होनी चाहिए, यदि आपको अंग्रेजी अच्छी आती है, तो आप इस क्षेत्र में जल्द ही सफलता प्राप्त कर लेंगे |

ये भी पढ़े: जॉब (Job) असली है या नकली कैसे पहचाने

ट्रेनिंग

किसी भी बीपीओ और केपीओ कम्पनी में कार्य करने के लिए आपको प्रशिक्षण लेना आवश्यक है | भारत के कई शहरों जैसे नई दिल्ली, बंगलुरु, चेन्नई, मुंबई, पुणे, जयपुर आदि में बीपीओ और केपीओ ट्रेनिंग क्लासेस होती है | ट्रेनिंग के बाद आप किसी भी बीपीओ और केपीओ कम्पनी में जॉब के लिए आवेदन कर सकते है |

प्रमुख कम्पनी

जेनपैक्ट, डब्ल्यूएनएस ग्लोबल, आईबीएम दक्ष, आदित्य बिरला मिनेक्स वर्ल्डवाइड, टीसीएस बीपीओ, विप्रो बीपीओ, फर्स्ट सोर्स,  इनफ़ोसिस बीपीओ, एचसीएल बीपीओ तथा ईएक्सएल सर्विस होल्डिंग आप इनमे जॉब के लिए आवेदन कर सकते है |

वेतन

कार्यक्षेत्र के अनुरूप वेतनमान अलग-अलग है, प्रारम्भ में आपको 9000 रूपये से 12000 रूपये वेतन आसानी से प्राप्त हो जायेगा |

ये भी पढ़े: गूगल में नौकरी कैसे पाये 

अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर बीपीओ और केपीओ की भागीदारी

विश्व की प्रमुख कंपनियां एशिया के बाजार की ओर अग्रसर हो रही है, जिसका प्रमुख कारण एशिया में श्रम का मूल्य कम होना है | भारत या अन्य देश के बेरोजगार युवाओं के लिए यह रोजगार का अवसर प्रदान करते है, इस प्रकार से एक युवा ग्रामीण क्षेत्र से निकल कर बीपीओ और केपीओ के माध्यम से अपनी आर्थिक स्थिति को मजबूत कर रहे है |

बीपीओ और केपीओ के क्षेत्र में मांग एवं आपूर्ति

बीपीओ और केपीओ का क्षेत्र बहुत ही विस्तारित है, इसमें सदैव अच्छे व्यक्तियों की मांग बनी रहती है, उदाहारण के रूप में यूएस व यूके की कंपनियां अपने लिए डाटा एंट्री ऑपरेटर, शिपमेंट एग्जीक्यूटिव, वेब डिज़ाईनर और ग्राफिक डिज़ाईनर को नौकरी पर रखती हैं, इस पद के लिए साधारण रूप से इससे सम्बंधित डिप्लोमा व सर्टिफिकेट कोर्स की आवश्यकता होती है | यदि आपके पास कंप्यूटर के क्षेत्र में डिग्री नहीं है, फिर भी आपको बीपीओ में नौकरी आसानी से प्राप्त हो जाती है | बीपीओ में व्यक्तियों की मांग के अनुरूप पूर्ति रहती है |

ये भी पढ़े: नौकरी के लिए IQ के साथ CQ है बेहद जरूरी

केपीओ में उच्च शिक्षित व्यक्तियों की आवश्यकता होती है, इसलिए इस क्षेत्र में व्यक्तियों की कमी रहती है, इसलिए इस क्षेत्र में वेतन अच्छा प्राप्त होता है | यदि आप किसी भी क्षेत्र के विशेषज्ञ है, तो आपको इसमें अच्छा वेतन प्राप्त हो सकता है |

सकारात्मक

  • इस क्षेत्र में आसानी से रोजगार प्राप्त हो जाता है, इस क्षेत्र में विकल्प अधिक है, इसलिए आप को रोजगार की पर्याप्त अवसर प्राप्त होते है
  • एशिया के कई देशों की आर्थिक स्थिति इस क्षेत्र के कारण सही हुई है
  • इस क्षेत्र के कारण वर्षो से गरीबी रेखा के नीचे अपना जीवन-यापन करने वाले परिवारों की आर्थिक स्थिति में सुधार हुआ है

ये भी पढ़े: कैसे भरे सरकारी नौकरियों के ऑनलाइन फॉर्म

नकारात्मक

  • बीपीओ/केपीओ के क्षेत्र में कार्य का दबाव बहुत अधिक रहता है, इसलिए व्यक्तियों की नींद पूरी न होने के कारण उन्हें कई प्रकार के रोग हो जाते है
  • इस क्षेत्र में कार्य की अवधि अधिक है, अवधि के अनुरूप व्यक्ति को वेतन प्राप्त नहीं हो रहा है, इसका प्रमुख कारण उस देश की सरकारों की उदासीनता है
  • इस क्षेत्र के व्यक्ति धन के आभाव में स्वयं को शोषित महसूस करते है, जिससे वह अपने कार्य से संतुष्ट नहीं रहते है
  • अभी तक बीपीओ/केपीओ के लिए सरकारों के द्वारा कोई भी कानून नहीं बनाया गया है, जिससे कर्मचारी की प्रतिष्ठा और आत्म-सम्मान को कम्पनियां हानि पहुँचाती है, उनके ऊपर सदैव जॉब जाने का ख़तरा बना रहता है, जिससे उनका करियर अस्थिर रहता है

ये भी पढ़े: सरकारी नौकरी कैसे मिलेगी

यहाँ पर हमनें आपको बीपीओ और केपीओ के विषय में बताया, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: सीसीसी (CCC) कोर्स क्या होता है

ये भी पढ़े: Current Affairs की तैयारी कैसे करे

ये भी पढ़े: सरकारी नौकरी मिलेगी जरूर अगर आपका करेंट अफेयर्स होगा मजबूत