नौकरी के लिए IQ के साथ CQ है बेहद जरूरी, जानें क्या है ये CQ

नौकरी के लिए IQ के साथ CQ है बेहद जरूरी  

आज के समय में विश्व की सारी कम्पनियाँ अपने यहाँ रोजगार देने से पहले व्यक्ति का आई क्यू के साथ सीक्यू भी जांचती है, सीक्यू का अर्थ ‘कल्चरल कोशचेंट’ होता है, जिसके अंतर्गत जॉब प्राप्त करने वाला व्यक्ति अपने आपको कार्य क्षेत्र के लिए उसके अनुरूप होने का प्रयास करता है, इसमें वह सामने वाले व्यक्ति के हाव-भाव और उनके रहन- सहन को अपनाता है, वहां की भाषा को बोलने का प्रयास करता है, यदि उस व्यक्ति के अंदर अपने आप को बदलने की अधिक क्षमता होती है, तो मल्टीनेशनल कम्पनियों को उस व्यक्ति को एक देश से दूसरे देश में स्थित अपनी शाखा में स्थान्तरण करने में आसानी होती है, नौकरी के लिए IQ के साथ CQ बेहद जरूरी क्यों है ? इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है |

ये भी पढ़े: अपने अंदर के Talent को कैसे पहचाने

ये भी पढ़े: विज्ञापन के क्षेत्र में करियर कैसे बनाये

सीक्यू

जब कोई व्यक्ति अपने क्षेत्र से निकल कर अन्य किसी स्थान पर जाता है, वह व्यक्ति उस स्थान के अनुसार अपने आप को बदलने का प्रयास करता है अथार्त उस संस्कृति को अपनाता है और उसी के अनुरूप भाषा सीखता है, उसी के अनुरूप अपनी बॉडी लैंग्वेज बदलकर सामने वाले व्यक्ति को प्रभावित करने का प्रयास करता है, उस व्यक्ति के द्वारा सामने वाले व्यक्ति की तरह दिखने का प्रयास किया जाता है, इसलिए विश्व में सभी बैंक और सेनाओं में अभ्यर्थी को भर्ती करने से पहले इस गुण की जाँच की जाती है, जिससे उनके  बिजनेस को आगे कोई भी परेशानी  का सामना न करना पड़े |

ये भी पढ़े: बेहतर प्रेजेंटेशन देने के टिप्स

विश्व में सीक्यू की मांग

आज के समय में आधुनिक सुविधाओं के कारण देशों की सीमाओं को व्यक्ति ने पार कर लिया है, किसी भी व्यक्ति को सफल होने के लिए आईक्यू से ज्यादा आवश्यक सीक्यू है, यह गुण सभी के अन्दर होना चाहिए, चाहे  वह व्यक्ति किसी भी प्रोफेशन से जुड़ा हुआ हो जैसे  वैज्ञानिक,अध्यापक या फिर बैंक में काम करना हो सभी के अन्दर यह योग्यता होनी चाहिए, क्योंकि ऐसे लोग बहुत लोगो के साथ संपर्क स्थापित करते है, उनसे बात करते है, आपस में एक- दूसरे के विचार का आदान- प्रदान करते है, जिसके माध्यम से उनकी कामयाबी निश्चित होती है, इसलिए सारी कम्पनियाँ इस समय अभ्यर्थी का सीक्यू लेवल चेक करना शुरू कर दिया है |

ये भी पढ़े: विश्व मे कितने देश है, उनकी सूची 

सीक्यू का मापन

सीक्यू का मापन कुछ निर्धारित प्रश्नों पर होता है, प्रथम होता है, सीक्यू ड्राइव, अथार्त दूसरे देश, समुदाय या संस्कृति के विषय में जाननें की इच्छा, इसके बाद सीक्यू नॉलेज अथार्त किसी भी समुदाय के बारे में जानकारी प्राप्त करना और दूसरे समुदाय के बीच अंतर को समझना, इसके बाद दूसरे समाज या समुदाय के साथ योजना बनाना, इसके अतिरिक्त सीक्यू एक्शन के माध्यम से किस प्रकार से सामने वाले व्यक्ति के साथ तालमेल बैठाया जाता है, यदि किसी का सीक्यू कम है, तो वह व्यक्ति अपने तरीके से सबकुछ करने का प्रयास करेगा |

ये भी पढ़े: सरकारी नौकरी कैसे मिलेगी

सीक्यू का अध्ययन

वर्ष 2011 के एक अध्ययन के अनुसार  आईक्यू, इमोशनल इंटेलीजेंस और सीक्यू, ये तीन तरह की बुद्धिमत्ता को बताया गया है, यह अध्ययन स्विस मिलिट्री एकेडमी में किया गया था, वहाँ पर कई देशों से आये सैनिको की सहायता की जा रही थी, वह एक दूसरे के साथ कार्य कर रहें थे, उनके पास आईक्यू, इमोशनल इंटेलीजेंस और सीक्यू तीनो थे इसके द्वारा उनको विदेश में जॉब प्राप्त करने में आसानी होगी, जॉब मिलने के पश्चात उनका प्रमोशन जल्दी ही होगा, इसी वजह से अधिकतर कंपनियां, कर्मचारी रखने से पहले लोगों के सीक्यू की जाँच करती है |

ये भी पढ़े: इंटरव्यू की तैयारी कैसे करे

यहाँ पर हमनें आपको नौकरी के लिए IQ के साथ CQ के विषय में बताया, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहें है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करें, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करे

ये भी पढ़े: सफलता के लिए जरुरी है Focus

ये भी पढ़े: सरकारी नौकरी मिलेगी जरूर अगर आपका करेंट अफेयर्स होगा मजबूत