भारत के पास कितनी पनडुब्बी (Submarine) है ?

भारतीय नौसेना की पनडुब्बियों की संख्या  (Numbers Of Submarine)

किसी भी देश की सुरक्षा में नौसेना बहुत ही बड़ी भूमिका का निर्वहन करती है| नौसेना के पास कई प्रकार के हथियार और संसाधन है, जिसकी सहायता से वह देश की जल सीमा की रक्षा करती है| नौसेना के पास पनडुब्बी एक बहुत सहायक सैन्य उपकरण है, जिसकी सहायता से युद्ध में पानी के अंदर रहकर दुश्मन सेना के साथ युद्ध लड़ा जाता है| पनडुब्बी एक प्रकार का जलयान है जो पानी के अन्दर चलता है| विश्व की पहली पनडुब्बी एक डच वैज्ञानिक द्वारा सन 1602 में और पहली सैनिक पनडुब्बी टर्टल 1775 में बनाई गई थी| इस पेज पर भारतीय नौसेना की पनडुब्बियों के विषय में जानकारी दी जा रही है|

ये भी पढ़ें: भारत और पाकिस्तान के पास कितने परमाणु बम है

ये भी पढ़ें: भारत के पड़ोसी देश और उनकी राजधानी, मुद्रा

भारत में प्रथम पनडुब्बी (India’s First Submarine)

वर्ष 1988 में भारत ने पहली बार परमाणु पनडुब्बी रूस से किराये पर ली थी| इस पनडुब्बी को वर्ष 1991 में वापस कर दिया गया वर्तमान समय में भारत के पास 9 सिंधुघोष क्लास या किलो क्लास डीजल इलेक्ट्रिक पनडुब्बियां हैं| इन पनडुब्बियों का निर्माण रूस के रोसवुरुसहेनी एवं भारतीय रक्षा मंत्रालय के बीच हुए समझौते के अंतर्गत किया गया है| इसके अतिरिक्त चार अन्य पनडुब्बियां जर्मनी द्वारा निर्मित शिशुमार क्लास डीज़ल इलेक्ट्रिक पनडुब्बियां है| वर्तमान समय में परमाणु पनडुब्बी आईएनएस चक्र को दुनिया की सबसे शक्तिशाली पनडुब्बियों में से एक माना गया है|

ये भी पढ़ें: जैश-ए-मोहम्मद (Jaish-e-Mohammed) कौन है पूरी जानकारी

ये भी पढ़ें: क्या है भारत चीन सीमा विवाद ?

भारतीय नौसेना की पनडुब्बियों की सूची (Submarines List)

भारतीय नौसेना की पनडुब्बियों की सूची इस प्रकार से है-

नाम डेट ऑफ़ कमीशन प्रकार
चक्र04 अप्रैल 2012परमाणु संचालित
सिंधुघोष30 अप्रैल 1986डीजल
सिंधुध्वज12 जून 1987डीजल
सिंधुराज20 अक्टूबर 1987डीजल
सिंधुवीर26 अगस्त 1988डीजल
सिंधुरत्न22 दिसंबर 1988डीजल
सिंधुकेसरी16 फरवरी 1989डीजल
सिंधुकीर्ति04 जनवरी 1990डीजल
सिंधुविजय08 Mar 1991डीजल
सिंधुशस्त्र19 जुलाई 2000डीजल
शिशुमार22 सितंबर  1986डीजल
शंकुश20 नवंबर 1986डीजल
शालिकी07 Feb 1992डीजल

ये भी पढ़े: सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल ब्रह्मोस की खासियत

ये भी पढ़े: भारत की राष्ट्रभाषा क्या है ?

भारत की नई पनडुब्बी INS करंज

इस पनडुब्बी को मझगांव डॉकयार्ड लिमिटेड ने फ्रांसीसी कंपनी मेसर्स नेवल ग्रुप के साथ ट्रांसफर ऑफ़ टेक्नोलॉजी के समझौते के अंतर्गत बनाया है | यह स्टेल्थ और एयर इंडिपेंडेंट प्रॉपल्शन समेत कई तरह की तकनीकों से युक्त है | आईएनएस करंज को सतह और पानी के अंदर से टॉरपीडो और ट्यूब लॉन्च्ड एंटी-शिप मिसाइल दागने की क्षमता से युक्त किया गया है, जिससे वह युद्ध के समय दुश्मनों के जहाज को ध्वस्त कर सके |

यहाँ पर हमनें आपको भारतीय नौसेना की पनडुब्बियों के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: भारत का नक्शा किसने बनाया

ये भी पढ़े: भारत के प्रमुख शोध-संस्थान (India’s Major Research Institute)