Projector (प्रोजेक्टर) क्या है?

प्रोजेक्टर किसे कहते है (Projector Kise Kahte Hai) 

किसी भी चित्र को छोटे से परदे से लेकर बड़े परदे तक प्रदर्शित करने वाली इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस को प्रोजेक्टर कहा जाता है | प्रोजेक्टर का उपयोग लगभग सभी कंपनियों में ट्रेनिंग या प्लानिंग के लिए किये जाता है| इसका प्रयोग किसी बड़े हाल क्लास रूम और ऑडिटोरियम में किया जाता है| जिससे बड़ी संख्या में लोग एक साथ बैठ कर मीटिंग, ट्रेनिंग या प्लानिंग में भाग ले सके | इस पेज पर Projector (प्रोजेक्टर) क्या है, प्रोजेक्टर के प्रकार, कार्य, उपयोग, लाभ के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें: मल्टीमीडिया डिज़ाइनर के रूप में करियर कैसे बनाये

प्रोजेक्टर क्या है (Projector Kya Hai)

प्रोजेक्टर एक आउटपुट डिवाइस है | यह एक प्रकार का कंप्यूटर हार्डवेयर का भाग है, जिसके माध्यम से स्क्रीन को बड़े पर्दे पर दिखाया जाता है | यह लेंस के द्वारा परदे या दीवार पर चित्र का निर्माण करता है | इन चित्रों को बहुत ही दूर तक आसानी से देखा जा सकता है |

ये भी पढ़ें: वर्चुअल रियलिटी (Virtual Reality) क्या होता है

प्रोजेक्टर के प्रकार (Types Of Projector)

प्रोजेक्टर तीन प्रकार के होते है-

  • DLP ( Digital Light Processing )
  • LCD ( Liquid Crystal Display )
  • LED ( Light Emitting Diode )

DLP (Digital Light Processing)

इस प्रकार के प्रोजेक्टर एक चिप के आधार पर कार्य करते है, इसमें 2 मिलियन शीशों का प्रयोग किया जाता है, प्रत्येक शीशा लगभग माइक्रो मिलीमीटर का होता है| इसमें मुख्य रूप से लाल, नीला और हरा रंग ही प्रदर्शित होता था, लेकिन वर्तमान समय में तकनीक में सुधार होने के बाद 16.7 मिलियन रंगों में बदल जा सकता है |

ये भी पढ़ें: फिल्म इंडस्ट्री में करियर कैसे बनाये, कोर्स फ़ीस पूरी जानकारी

LCD (Liquid Crystal Display)

इस प्रकार के प्रोजेक्टर को सबसे अच्छे प्रोजेक्टरों में से माना जाता है| इसका प्रयोग फिल्म मेकिंग में किया जाता है| यह DLP प्रोजेक्टर से सस्ते होते है| आप इसके द्वारा दूर से प्रोजेक्शन कर सकते है, इनमें ज़ूम लेंस का इस्तेमाल किया जाता है|

ये भी पढ़ें: विभिन्न क्षेत्रों में करियर की संभावनाएं

LED (Light Emitting Diode)

इस प्रकार के प्रोजेक्टर को बहुत ही लम्बे समय तक यूज किया जा सकता है, गर्म होने पर यह तुरंत ही ठन्डे हो जाते है| इनकी कार्य क्षमता बहुत ही अधिक होती है| इन्हें बहुत ही टिकाऊ श्रेणी में रखा जाता है, जिससे लोग इन पर अधिक विश्वास करते है|

ये भी पढ़ें: वीडियो एडिटिंग में करियर कैसे बनायें

कार्य (Works)

प्रोजेक्टर के सॉफ्टवेयर को एक कंप्यूटर में इंस्टाल किया जाता है| जिसके बाद कम्यूटर के द्वारा इसे निर्देशित किया जाता है, प्रोजेक्टर में एक लेंस लगा होता है इस लेंस के द्वारा लाइट को किसी सफ़ेद बड़े परदे पर डाला जाता है | यह लाइट ही परदे पर चित्रों का प्रतिबिम्ब बनाती है, जिसे परदे पर बड़े रूप में देखा जा सकता है |

उपयोग (Uses)

प्रोजेक्टर का उपयोग शिक्षा के क्षेत्र में बहुत ही अधिक किया जाता है, इसके आलावा इसका प्रयोग किसी बड़े सेमिनार को देखने के लिए किया जाता है, जिससे सेमिनार के प्रत्येक व्यक्ति द्वारा स्टेज को देखा जा सके है |

लाभ (Benefit)

  • इनका प्रयोग छोटी इमेज को बड़ी इमेज करके देखने के लिए किया जाता है
  • इमेज की क़्वालिटी बहुत ही अच्छी होती है
  • यह कम जगह घेरते है
  • प्रोजेक्टर को आसानी से इनस्टॉल किया जा सकता है

ये भी पढ़ें: विज्ञापन के क्षेत्र में करियर कैसे बनाये

यहाँ पर हमनें आपको Projector (प्रोजेक्टर) के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: प्रोफेशनल फोटोग्राफर कैसे बने

ये भी पढ़े: सोशल मीडिया एक्सपर्ट के रूप में करियर कैसे बनाये ?

ये भी पढ़े: ऑडियोलॉजी में करियर कैसे बनाएं, कहाँ से करे कोर्स