ब्लैक बॉक्स (Black Box) क्या होता है

दोस्तों आपने बहुत बार ब्लैक बॉक्स के बारे में जरूर सुना होगा, सम्भवतः आपने ज्यादातर ये शब्द न्यूज़ में तो जरूर ही सुना होगा जोकि किसी विमान के हताहत होने पर बताया जाता है | इसे फ्लाइट रिकॉर्डर (Flight Recorder) भी कहा जाता है क्योंकि विमान से सम्बन्धित जारी गतिविधियों का रिकॉर्ड में इसी में समाहित होता है | चलिए आगे Black Box से संबंधित तमाम जानकारी जैसे Black Box किसे कहता है, इसकी विमान में क्या जरुरत है तथा ये कैसे काम करता है, विस्तृत रूप से समझाया गया है |

Read: मंथली एवरेज बैलेंस (Monthly Average Balance) क्या है

ब्लैक बॉक्स क्या है (Black Box in Hindi)

ब्लैक बॉक्स विमान में लगा हुआ है एक तरह का डिवाइस होता है जोकि विमान से जुडी कई तरह की जानकारी रिकॉर्ड करता रहता है आमतौर पर इसे विमान के पिछले हिस्से में लगाया जाता है और जब भी विमान में कभी कोई कमी या क्षतिग्रस्त होती है तो इसी ब्लैक बॉक्स के माध्यम से जानकारी जुटाकर इसका निवारण किया जाता है |

source:howstuffworks.com

ब्लैक बॉक्स किस धातु का बना होता है

यह बड़ा ही महत्वपूर्ण प्रश्न है जोकि अक्सर प्रतियोगिता परीक्षा में पूछ लिया जाता है अत: आप इसे ध्यान से पढ़े और स्मरण रखे कि black box टाइटेनियम धातु का बना होता है जिससे किसी भी हालत में इसे कम से कम क्षति हो |

ब्लैक बॉक्स का रंग और इसका इतिहास (Color and History of Black Box)

दिखने में ब्लैक बॉक्स लाल रंग का होता है जिससे इसे “रेड एग” के नाम से भी जाना जाता था | इसकी भीतरी दिवार काले रंग की होती है, सम्भवतः इसे से इसका नाम ब्लैक बॉक्स जाना जाने लगा |

जब वर्ष 1953 से 1954 में हवाई हादसों की संख्या में बहुत तेज़ी आ गई, तब विमान की सुरक्षा एवम निगरानी की दृष्टि से एक उपकरण का सुझाव माँगा गया और काफी खोज के बाद “ब्लैक बॉक्स” नामक उपकरण का आविष्कार किया गया जोकि आज के युग में एक मील का पत्थर साबित हो चूका है |

Read: न्यूक्लियर सप्लायर्स ग्रुप (NSG) क्या है

ब्लैक बॉक्स की सरंचना (Structure)

यह दो हिस्सों से मिलकर बना होता है जिसमे से पहले हिस्से को फ्लाइट डाटा रिकॉर्डर (Flight Data Recorder) कहा जाता है, इसका कार्य विमान की ऊचाई, स्पीड, तापमान से लेकर करीब 88 तरह के आकडे रिकॉर्ड करना है | यह 25 घंटो से ज्यादा समय की जानकारी रखता है |

इसमें से दूसरा हिस्सा है कॉकपिट वोईस रिकॉर्डर (Cockpit Voice Recorder), इसका कार्य विमान केबिन से लेकर अलार्म, कॉकपिट की आवाज़, इंजन से निकली आवाज़े सहित विमान के अंतिम 2 घंटे में हुई आवाजो की रिकॉर्डिंग करना है |

ब्लैक बॉक्स कैसे कार्य करता है (Working of Black Box)

ब्लैक बॉक्स की संरचना इतनी ठोस बनाई जाती है जिससे आपतकाल में भी इसे कोई नुकसान ना पहुचे| यह 1100 डिग्री के तापमान को 1 घंटे तक सहन कर सकता है और 30 दिन तक बिना इलेक्ट्रिसिटी के भी काम कर सकता है | जब कभी भी ब्लैक बॉक्स किसी हादसे के कारण किसी जगह गिरता है तो यह तुरंत तरंगो द्वारा आवाज़ करने लगता है और 30 दिन तक लगातर यह कार्य करता है | इसकी आवाज़ 2-3 किमी तक के क्षेत्र में पहुच सकती है जिससे खोजी दल इसे ढूँढ सके| यहाँ तक की अगर यह समुदंर के अंदर 14000 किमी तक की गहराई से भी सिग्नल भेजने में सक्षम है |

ज्यादातर मामलो में ब्लैक बॉक्स से निकली तस्वीर ज्यादा अच्छी या साफ़ नहीं होती और कभी ब्लैक बॉक्स मिलता भी नहीं है, फिर भी यह विमान का एक महत्वपूर्ण उपकरण है जिससे कई तरह की जानकारी मिल सकती है |

दोस्तों यह था हमारा ब्लैक बॉक्स पर आधारित आर्टिकल, उम्मीद है आपको पसंद आया होगा| हमे समर्थन के लिए इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करे |

इन्हें भी जरूर पढ़े

Read: मोबाइल फ़ोन हीट (Mobile Heating) होने से कैसे बचाए ?

Read: कंप्यूटर से वायरस (Virus) कैसे डिलीट करे ?