Algorithm क्या है, इसके लाभ और हानि

Algorithm किसे कहते है ?

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के क्षेत्र में अल्गोरिथम शब्द बहुत ही महत्वपूर्ण है, यदि आप को एक अच्छा प्रोग्रामर बनना है, तो आपको अल्गोरिथम के विषय में सही से जानकारी होनी चाहिए | अल्गोरिथम को आप इस प्रकार से समझ सकते है, जब हम कोई कार्य करने का विचार करते है, तो उसके लिए हमको क्या-क्या करना होगा और कौन से स्टेप फॉलो करने होंगे, इसी प्रकार से कंप्यूटर में भी प्रोग्राम बनाते समय अल्गोरिथम बनाया जाता है, जिससे प्रोग्राम अच्छी तरह से चल सके | इस पेज पर इसके विषय में विस्तार से जानकारी दी जा रही है |

ये भी पढ़े: प्रोग्रामर कैसे बने इसके लिए क्या करे

अल्गोरिथम क्या है ?

प्रोग्रामिंग भाषा में प्रोग्राम लिखने से पूर्व अल्गोरिथम बनाया जाता है, जिससे प्रोग्राम बन सके | अल्गोरिथम का प्रयोग किसी भी विशेष समस्या का समाधान करने में जो स्टेप डिफाइन किये जाते है, उसे अल्गोरिथम कहा जाता  है, अथवा किसी समस्या का निवारण करने में जो विधि अपनायी जाती है, उसे अल्गोरिथम कहा जाता है |

अल्गोरिथम का उदाहारण

अल्गोरिथम को समझने के लिए आप मान लीजिये की आपको कॉल करना है, तो इसके लिए अल्गोरिथम क्या होगा, इसके लिए हम इसका अल्गोरिथम स्टेप बाई स्टेप इस प्रकार से लिख सकते है |

स्टेप 1 : सबसे पहले मोबाइल का लॉक खोलेंगे |

स्टेप 2 : अब डायल (dial) या फिर फ़ोन नंबर को ओपन करेंगे |

स्टेप 3 : फ़ोन नंबर डायल करेंगे या फिर कांटेक्ट पर क्लिक करेंगे |

स्टेप 4 : अब कॉल बटन पर क्लिक करेंगे |

ये भी पढ़े: पीडीऍफ़ फाइल (PDF File) क्या है, और कैसे बनाते है ?

अल्गोरिथम कैसे लिखे ?

स्टेप 1: स्टार्ट |

स्टेप 2 :  दो नंबर ले a और b   |

स्टेप 3 : अब दोनों को जोड़ दे और इसे किसी sum वैल्यू में स्टोर कर दे |

स्टेप 4 : अब रिजल्ट शो करे |

स्टेप 5 : स्टॉप  |

इस प्रकार से आप अल्गोरिथम लिख सकते है |

अल्गोरिथम के लाभ

1.अल्गोरिथम के माध्यम से किसी भी समस्या का हल ढूढ़ने में आसानी होती है, जिसे आसानी से समझा जा सकता है |

2.आप अल्गोरिथम को फ्लो चार्ट में कन्वर्ट कर सकते है,उसके बाद इसे किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में बदला जा सकता है |

ये भी पढ़े: कंप्यूटर और लैपटॉप में फंक्शन कीज (Function keys)का क्या उपयोग होता है

अल्गोरिथम से हानि

किसी भी बड़े प्रोजेक्ट हेतु अल्गोरिथम बनाने में बहुत समय व्यर्थ हो जाता है, क्योकि आपको पहले अल्गोरिथम लिखना होगा, फिर फ्लो चार्ट बनाना होगा, इसके बाद आपको इसे प्रोग्रामिंग कोड में बदलना होगा, जिससे आपका काफी समय बर्बाद होता है |

यहाँ पर हमनें आपको अल्गोरिथम के विषय में जानकारी दी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करे, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: एन्क्रिप्ट डिवाइस (Encrypt Device) और एन्क्रिप्ट एसडी कार्ड क्या है ?