कंप्यूटर और लैपटॉप में फंक्शन कीज (Function keys)का क्या उपयोग होता है

कंप्यूटर और लैपटॉप में फंक्शन कीज का महत्व 

आज के समय में कंप्यूटर और लैपटॉप अत्यंत आवश्यक डिवाइस बन गए है, जिनकी आवश्यकता हमे प्रतिदिन पड़ती है, इन  डिवाइसों के माध्यम से हम अपने अधिकांश कार्य आसान बनाते है, जिससे समय और पैसे की बचत होती है, इसके लिए कंप्यूटर और लैपटॉप का प्रयोग अच्छी तरह से आना चाहिए, इसे आपरेट करनें के लिए आपको फंक्शन कीज के विषय में जानकारी होनी चाहिए जिससे कार्य करना काफी सरल हो जाता है | इस पेज पर आपको फंक्शन कीज (Function keys) के विषय में जानकारी प्रदान की जा रही है |

ये भी पढ़े: LAN, MAN, WAN क्या है इनमे क्या अंतर है |

फंक्शन कीज (Function keys) क्या है ?

कंप्यूटर और लैपटॉप के कीबोर्ड में सबसे ऊपर वाली लाइन में F1 से F12 तक की कीज को फंक्शन कीज कहा जाता है, इनका प्रयोग प्रत्येक सॉफ्टवेयर में अलग-अलग होता है |

keys

F1 फंक्शन की(key) का प्रयोग

यह कंप्यूटर की सबसे बड़ी फंक्शन की है, इसे  F1 कहा जाता है, यदि आप अपने कंप्यूटर या फिर लैपटॉप में F1 key को दबाते है, तो यह आपके सामने हेल्प सेण्टर खोल देगा, यदि आप माइक्रोसॉफ्ट वर्ड पर कार्य कर रहे और आपको सॉफ्टवेयर से सम्बंधित कोई सहायता चाहिए, तो आप इसका प्रयोग कर सकते है, जिसको दबाते ही आपके सामने सहायता सेण्टर खुल जायेगा |

F2 फंक्शन की(key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज का प्रयोग करके आप अपना समय बचा सकते है, इसके माध्यम से आप किसी भी फोल्डर को रिनेम अथवा फोल्डर का नाम बदल सकते है |

F3 फंक्शन की (key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज का प्रयोग करके आप विंडो सर्च मेनू का विकल्प ओपन कर सकते है, इसके माध्यम से आप किसी सॉफ्टवेयर या कंप्यूटर में सर्च कर सकते है |

F4 फंक्शन की(key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज (Function keys) का प्रयोग ऑल्ट के साथ किया जाता है, alt+F4 करने पर कंप्यूटर में जो भी एप्लीकेशन सामने खुला हुआ है, वह बंद हो जायेगा | यदि आप डेक्सटॉप पर जाकर alt+F4 का प्रयोग करते है, तो आपके सामने शट डाउन (Shut Down) का आप्शन आ जायेगा, जिसके द्वारा आप कंप्यूटर को बंद या फिर रीस्टार्ट कर सकते है |

ये भी पढ़े: हैकर कैसे बने – जाने एथिकल हैकिंग के कोर्स

F5 फंक्शन की (key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज (Function keys) का प्रयोग लैपटॉप या कंप्यूटर को कंटिन्यू रिफ्रेश करने के लिए किया जाता है | किसी वेबसाइट के पेज को रीलोड करने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है |

F6 फंक्शन की (key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज (Function keys) का प्रयोग करके आप लैपटॉप पर आवाज कम कर सकते है, किसी भी ब्राउज़र पर जाकर  F6 प्रेस करके आप सीधे एड्रेस बार में जाकर यूआरएल टाइप कर सकते है |

F7 फंक्शन की (Key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज (Function keys) का प्रयोग लैपटॉप में आवाज अधिक करने के लिए किया जाता है |

F7 फंक्शन का अधिकांश प्रयोग एमएस वर्ड स्पेलिंग चेक करने के लिए किया जाता है |

F8 फंक्शन की(key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज (Function keys) का प्रयोग सेफ मोड का आप्शन शो करने के लिए किया जाता है, इसका प्रयोग विंडो बूट टाइम पर सेफ मोड सेलेक्ट करने के लिए किया जाता है |

F9 फंक्शन की(key) का प्रयोग

F9 फंक्शन की (key) का प्रयोग विंडोज में नहीं किया जाता है, परन्तु इसका प्रयोग एमएस वर्ड में  शिफ्ट और ऑल्ट कीवर्ड के साथ किया जाता है |

F10 फंक्शन की(key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज (Function keys) का प्रयोग विंडोज में नहीं किया जाता है, लेकिन यदि आप एमएस वर्ड में शिफ्ट और F10 दबायेंगे (shiFt+F10) तो आपके सामने शॉर्टकट का मेन्यू खुल जायेगा |

ये भी पढ़े: सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने

F11 फंक्शन की(key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज (Function keys) का प्रयोग ब्राउज़र को फुल स्क्रीन मोड में करने के लिए किया जाता है |

F12 फंक्शन की(key) का प्रयोग

इस फंक्शन कीज (Function keys) का प्रयोग लैपटॉप में फ्लाइट मोड ऑन करने के लिए किया जाता है | इसका प्रयोग एमएस वर्ड में फाइल को सेव एस करने के लिए किया जाता है |

यहाँ पर हमनें आपको फंक्शन कीज के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करे, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: कंप्यूटर एक्सपर्ट(Computer Expert) कैसे बने