पत्र क्या है (Patra Kya Hai)

पत्र  लिखने से सम्बंधित जानकारी (Information About Writting A Letter)

पूर्व समय में दूर रहने वाले अपने सबन्धियों अथवा मित्रों की कुशलता जानने के लिए तथा अपनी कुशलता का समाचार देने के लिए पत्र का प्रयोग किया जाता था उस समय आधुनिक साधन उपलब्ध नहीं थे, जैसे टेलीफोन, मोबाइल फोन, ई-मेल, फैक्स इत्यादि | पहले एक स्थान से दूसरे स्थान तक सन्देश भेजने के लिए एक मात्र साधन पत्र ही था | इसके लिए भारत सरकार ने डाक विभाग का गठन किया था, जिसका मुख्य कार्य पत्र को निश्चित स्थान तक पहुँचाना होता है, इसके बदले में आपको डाक टिकट के रूप में शुल्क देना होता है | इस पेज पर पत्र क्या है, यह कितने प्रकार के होते है तथा इसके  लिखने के तरीके के विषय में जानकारी दी जा रही है |

ये भी पढ़े: मुख्यमंत्री (CM) को पत्र कैसे लिखे, शिकायत, प्रार्थना पत्र

ये भी पढ़े: राष्ट्रपति (प्रेसिडेंट) को पत्र कैसे लिखे (Write Letter To President)

पत्र क्या है ? (Patra Kya Hai)

एक व्यक्ति द्वारा भावना रूपी शब्दों के संग्रह को दूसरे व्यक्ति के समक्ष लिखकर प्रकट किया जाता है, उसे पत्र कहा जाता है | एक पत्र के द्वारा अपनी बात व्यक्ति विशेष तक पहुँचायी जाती है, जिसके बाद पत्र ग्रहण करने वाले व्यक्ति के द्वारा इसका उत्तर पत्र के माध्यम से दिया जाता है| पत्र को चिट्ठी भी कहा जाता है |

ये भी पढ़े: प्रधान मंत्री को पत्र कैसे लिखे

पत्र के प्रकार (Types Of Letter)

पत्र मुख्यतः दो प्रकार के होते है-

(1)औपचारिक पत्र

(2)अनौपचारिक पत्र

औपचारिक पत्र (Formal Letter)

औपचारिक पत्र में प्रार्थना-पत्र (अवकाश, शिकायत, सुधार, आवेदन के लिए लिखे गए पत्र आदि), कार्यालयी-पत्र (किसी सरकारी अधिकारी, विभाग को लिखे गए पत्र आदि), व्यवसायिक-पत्र (दुकानदार, प्रकाशक, व्यापारी, कंपनी आदि को लिखे गए पत्र आदि) आते है |

ये भी पढ़े: पत्रकार कैसे बने

अनौपचारिक पत्र (Informal Letter)

इस प्रकार के पत्र में पत्र लिखने वाले और पत्र को प्राप्त करने के वाले व्यक्ति के बीच मधुर सम्बन्ध होते है, जिससे इसकी भाषा और शैली सम्बन्ध के आधार पर निर्धारित की जाती है |

ये भी पढ़े: व्यवहारवाद क्या है (Pragmastism Kya hai)

पत्र लिखने का तरीका (How To Write A Letter)

  • पता और दिनांक
  • पत्र चाहे औपचारिक हो या अनौपचारिक दोनों को ही इस प्रकार से लिखा जाता है-
  • सम्बोधन और अभिवादन
  • पत्र का विषय
  • पता की समाप्ति स्वनिर्देश और हस्ताक्षर
  • पत्र में सदैव अच्छी भाषा और शैली का प्रयोग किया जाना चाहिए
  • पत्र लिखते समय सुन्दर लेखन का प्रयोग किया जाना चाहिए, जिससे लिखने वाले व्यक्ति के व्यक्तित्व का पता चलता है

ये भी पढ़े: बेसिक शिक्षा अधिकारी (BSA) कैसे बने ?

यहाँ पर हमनें आपको पत्र क्या है, पत्र कितने प्रकार के होते है तथा लिखने के तरीके के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है

ये भी पढ़े: सहायक अध्यापक कैसे बने, योग्यता, वेतन

ये भी पढ़े: कैसे भरे सरकारी नौकरियों के ऑनलाइन फॉर्म

ये भी पढ़े: प्राइमरी का मास्टर (शिक्षक) कैसे बने, सैलरी, योग्यता