Flood (बाढ़) क्या है?

Flood (बाढ़) के विषय में जानकारी

किसी भी देश की सीमा का निर्धारण पर्वतीय और मैदानी क्षेत्रों को मिलाकर किया जाता है | जिस देश में मैदानी भाग अधिक होता है, वहां पर रहने और खेती करने की व्यवस्था अधिक होती है और उसी के अनुरुप वह देश प्राकृतिक संसाधनों का प्रयोग करके विकास करता है | अगर देश में पर्वतीय भाग अधिक होता है, तो उस देश में Flood (बाढ़) का खतरा अधिक होता है | नदियां अपना मार्ग पर्वतीय भाग से मैदानी भाग की ओर बनाती है | वर्षा के समय नदियों में जल की मात्रा अधिक हो जाती है, जिससे बाढ़ की समस्या उत्पन्न होती है | इस पेज पर Flood (बाढ़) क्या है, बाढ़ नियंत्रण क्या है, राहत और बचाव कार्य के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें: CYCLONIC STORM (चक्रवाती तूफान) क्या है?

ADVERTISING

ये भी पढ़ें: फानी तूफ़ान (Cyclone Fani) क्या है

 बाढ़ क्या है (What is Flood)?

वर्षा की ऋतु में वर्षा अधिक होने पर नदियों में जल की मात्रा अधिक हो जाती है, जिससे यह जल आस- पास के सभी रिहायशी स्थानों पर भर जाता है और पूरा स्थान जलमग्न हो जाता है | लोगों के घरों में पानी आ जाता है, जिससे लोगों को ऊंचे स्थानों पर रहना पड़ना है, इससे उन्हें खाने- पीने और रहने की समस्या का सामना करना पड़ता है | अधिक दिन तक पानी घरों में रुकने के कारण मकान गिरने शुरू हो जाते है | कमजोर मकान तो एक दिन में ही गिर जाते है | इस प्रकार से कहा जा सकता है, कि रिहायशी स्थानों को कुछ दिनों तक जल मग्न रहने कि अवस्था को बाढ़ कहते है |

ये भी पढ़ें: मानसून (Monsoon) क्या है?

बाढ़ नियंत्रण (Control) क्या है?

बाढ़ नियंत्रण का अर्थ है, मानवीय उपायों के द्वारा जल के क्षेत्र को नियंत्रित करना | इसको नियंत्रित करने के मुख्य उपाय इस प्रकार है-

  • बाढ़ नियंत्रण के लिए नदी जलमग्न क्षेत्र में उपयुक्त भूमि एवं जल संरक्षण उपायों को करना चाहिए जिससे उस क्षेत्र का अपवाह अनियंत्रित न हो सके |
  • जिस स्थान पर प्रतिवर्ष बाढ़ की समस्या होती है, वहां के लिए नदी के किनारों ऊंचे बांध या किनारों को ऊंचा करना चाहिए जिससे पानी दूर तक न फैल सके |
  • नदी और नालों की जल निकास क्षमता को बीच में गहरा करके बढ़ाना चाहिए |
  • घूमती हुई नदियों को सीधा करना |
  • नदियों के ऊपरी भाग में जलाशय आदि संरचना बनाकर अपवाह की तीव्रता कम करना |

ये भी पढ़ें: माउन्ट आबू में घूमने लायक सबसे खूबसरत जगहें

बाढ़ राहत और बचाव कार्य

  • बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत और बचाव का कार्य एनडीआरएफ टीम के द्वारा किया जाता है, यह बाढ़ में फसें लोगों को बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों से निकाल कर सुरक्षित स्थान पर ले जाते है |
  • सरकार सुरक्षित स्थानों पर सेना और एनडीआरएफ टीम की सहायता से सुरक्षित कैम्पों का निर्माण करती है |
  • इन कैम्पों में सरकार खाने- पीने और रहने की समुचित व्यवस्था करने का प्रयास करती है, लेकिन वास्तविक रूप से समुचित व्यवस्था करने में हर बार असफल रहती है, जिससे लोगों को बहुत सी परेशानियों का सामना करना पड़ता है |
  • बाढ़ के समय एनडीआरएफ टीम बोटों और वायुयानों के द्वारा सर्वेक्षण करती है, इनका मुख्य उद्देश्य बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में फसें लोगों को सुरक्षित निकालना रहता है |
  • बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था करने में तब अधिक समस्या होती है, जब जल का प्रवाह अधिक तेज होता है | रात के समय राहत और बचाव कार्य करने में जन हानि की अधिक समस्या होती है |

ये भी पढ़ें: ज्योग्राफिकल इन्फॉर्मेशन सिस्टम

यहाँ पर हमनें Flood (बाढ़) क्या है, बाढ़ नियंत्रण क्या है, राहत और बचाव कार्य के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: येती हिममानव (Yeti) कौन है?

ये भी पढ़ें: शिव के 12 ज्योतिर्लिंग के नाम कहाँ पर स्थित हैं

ये भी पढ़े: यूनेस्को द्वारा घोषित भारत के 37 विश्व धरोहर स्थल

ये भी पढ़े: भारत का नक्शा किसने बनाया

ADVERTISING