CYCLONIC STORM (चक्रवाती तूफान) क्या है?

CYCLONIC STORM (चक्रवाती तूफान) के विषय में जानकारी

विश्व में 70 प्रतिशत जल है और 30 प्रतिशत स्थल है, इसलिए विश्व के अधिकांश देशों की सीमा रेखा जल क्षेत्र में आती है | इस जल क्षेत्रों में उठने वाली तेज हवाओं के कारण समुद्र का जल स्थल की तरफ आता है, गति अधिक होने के कारण रास्ते में पड़ने वाली इमारतों, पेड़- पौधों, बिजली के खम्भों, घरों को भारी नुकसान होता है | इस पेज पर चक्रवाती तूफान क्या है, बचाव, हानि, यह कैसे आता है, के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें: फानी तूफ़ान (Cyclone Fani) क्या है

चक्रवाती तूफान क्या है, यह कैसे आता है (WHAT IS CYCLONIC STORM, HOW DOES IT COME)?

हवा सदैव उच्च दबाव वाले क्षेत्र से निम्न दाब वाले क्षेत्र की तरफ जाती है | पृथ्वी अपने अक्ष पर 24 घंटे में एक चक्कर लगाती है | विषुवत रेखा पर पृथ्वी का तापमान सबसे अधिक होता है | तापमान अधिक होने के कारण यहां की गर्म वायु ऊपर की तरफ बहुत तेजी से जाती है, जिससे इस स्थान पर निम्न दाब उत्पन्न हो जाता है | वायु इस स्थान को भरने के लिए तेजी से आती है, जिससे वायु की गति बहुत ही तेज हो जाती है | पृथ्वी की गति के कारण यह एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाने लगती है | इस प्रकार वायु निम्न दाब के केंद्र बिंदु जिसे आई या आंख कहते है के चारों ओर तेजी से चक्कर लगाने लगती है | आई या आंख में सबसे कम वायु दाब होता है | इस केंद्र बिंदु से हवा ऊपर की तरफ जाती है, इस प्रकार चक्रवात बनते है |

स्थल पर वायु गर्म होती है, जोकि गर्म होकर ऊपर उठती है, इस खाली स्थान को भरने के लिए समुद्र की हवा स्थल की ओर आती है | यह हवा अपने साथ समुद्र का पानी भी लेकर आती है, जोकि लहरों के रूप में होती है | समुद्र में उत्पन्न चक्रवात तेजी से स्थल की तरफ आते इनकी गति के अनुसार ही नुकसान होता है |

पृथ्वी के दोनों गोलार्द्ध में चक्रवाती तूफान देखने को मिलते है | दक्षिणी गोलार्द्ध में चक्रवात की गति घड़ी की सुई की दिशा में होती है और उत्तरी गोलार्द्ध में यह घड़ी की सुई के विपरीत दिशा में होती है |

ये भी पढ़ें: मानसून (Monsoon) क्या है?

हानि (LOSS)

चक्रवाती तूफान में तेज हवाएं चलती है, इससे मार्ग में पड़ने वाली सभी पेड़- पौधे, घर, बिजली के खंभें इत्यादि बुनयादी चीजों को बहुत ही नुकसान होता है | इससे जन- जीवन पूरी  तरह से अस्त- व्यस्त हो जाता है | चक्रवाती तूफान के साथ समुद्र का पानी भी आता है, जिससे आस- पास क्षेत्रों में बाढ़ जैसे हालात बन जाते है |

ये भी पढ़ें: भारत के प्रमुख शोध-संस्थान (India’s Major Research Institute)

बचाव (RESCUE)

  • चक्रवाती तूफान से बचने के लिए आप पहले घबराएं नहीं और शांति बनाये रखे |
  • संपर्क में रहने के लिए आपको अपने मोबाइल फोन को फुल चार्ज रखना होगा |
  • मौसम की अपडेट के लिए आपको लगातार टीवी और रेडियों के संपर्क में रहना होगा |
  • तूफान आने से पहले ही जरूरत के कागज़ात और कीमती सामान को एक प्लास्टिक बैग में रखना चाहिए |
  • आपको एक इमरजेंसी किट को तैयार करना है, इस किट में सुरक्षित रहने का सामान होना आवश्यक है |
  • मवेशियों व पशुओं को बांधकर न रखें |
  • पीने के पानी का स्टॉक बना ले |
  • छोटे बच्चों की जरूरत जैसे खाना और दवा को सदैव अपने साथ रखे |
  • तूफान आने से पहले किसी सुरक्षित स्थान पर चले जाएं |

ये भी पढ़ें: माउन्ट आबू में घूमने लायक सबसे खूबसरत जगहें

ये भी पढ़ें: ज्योग्राफिकल इन्फॉर्मेशन सिस्टम

यहाँ पर हमनें आपको चक्रवाती तूफान क्या है, बचाव, हानि, यह कैसे आता है, के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: येती हिममानव (Yeti) कौन है?

ये भी पढ़ें: शिव के 12 ज्योतिर्लिंग के नाम कहाँ पर स्थित हैं

ये भी पढ़ें: ऑगमेंटेड रियलिटी  क्या होता है (Augmented Reality)

ये भी पढ़ें: Multimedia (मल्टीमीडिया) क्या है ?