वर्ल्ड ब्लड डोनर डे (World Blood Donor Day) कब मनाया जाता है

वर्ल्ड ब्लड डोनर डे से सम्बंधित जानकारी  (World Blood Donor Day) 

मनुष्य के शरीर का विकास ब्लड या रक्त के माध्यम से होता है | यह शरीर के पोषक तत्वों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर भेजने का महत्वपूर्ण कार्य करता है | रक्त का निर्माण वैज्ञानिक तकनीक के द्वारा नहीं किया जा सकता है | यह केवल मनुष्य के शरीर में निर्माण होता है | भारत और विश्व के कई भागों में रक्त की कमी के कारण बहुत से लोगों की मृत्यु हो जाती है | इस समस्या के समाधान के लिए दूसरे व्यक्ति का रक्त दूसरे व्यक्ति को चढ़ाया जाता है | रक्त केवल रक्त दान  द्वारा ही मिल सकता है, इसलिए लोगों को जागरूक करने के लिए विश्व रक्तदान दिवस मनाया जाता है | इस पेज पर वर्ल्ड ब्लड डोनर डे (World Blood Donor Day) कब मनाया जाता है, इससे जुडने के फायदे के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें: हार्ट अटैक और कार्डियक अरेस्ट में क्या अंतर होता है?

वर्ल्ड ब्लड डोनर डे (World Blood Donor Day) कब मनाया जाता है

मनुष्य और पृथ्वी पर जीवित सभी जीव- जंतुओं के लिए स्वांस बहुत ही महत्वपूर्ण है | यह स्वांस तभी तक मिल पाती जब तक हमारा ह्रदय सुचारु रूप से कार्य करता रहता है | ह्रदय को सही ढंग से कार्य करने के लिए रक्त बहुत ही आवश्यक है, रक्त के द्वारा ही ह्रदय को ऑक्सीजन मिलता है जिससे वह सही ढंग से कार्य करता है | रक्त का निर्माण शरीर के बाहर नहीं किया जा सकता है | यह केवल एक व्यक्ति के दान करने पर ही दूसरे व्यक्ति को मिल सकता है, इससे जरुरत मंद लोगों के जीवन को संरक्षित किया जा सकता है |

रक्त की सबसे अधिक आवश्यकता एक्सीडेंट या ऑपरेशन के केस में होती है | आपके द्वारा दिया गया रक्त ऐसे लोगों को नया जीवन दे सकता है | इसके महत्व को सम्पूर्ण विश्व ने एक साथ माना है | इसलिए 14 जून को रक्तदान दिवस के रूप में मनाया जाता है | यह दिवस लोगों के बीच जागरूकता फैलाने का कार्य करता है | इस दिवस में लोगों को रक्त दान के विषय में नकारात्मक सोच को बदलने का कार्य किया जाता है, जिससे प्रेरित होकर लोग रक्तदान करे और जरुरत मंद लोगों की सहायता हो सके |

ये भी पढ़ें: रिप का क्या मतलब होता है (RIP Ka Kya Matlab Hota Hai)

फायदे (Benefits)

वजन घटाने में सहायता

नियमित रूप से रक्तदान करने से शरीर का वजन कम किया जा सकता है | इसके द्वारा युवाओं को अधिक फिट रखा जा सकता है | शोधकर्ताओं के अनुसार 450 मिली लीटर रक्त दान करने से आपके शरीर की 650 कैलोरी कम होती है, रक्तदान करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना आवश्यक है |

ये भी पढ़ें: गुड फ्राइडे (Good Friday) क्या होता है?

हेमोक्रोमैटोसिस को रोका जा सकता है

शरीर में हेमोक्रोमैटोसिस एक ऐसी अवस्था है जिसमें शरीर लौह (आयरन) का अवशोषण आवश्यकता से अधिक कर लेता है, जिससे हेमोक्रोमैटोसिस हो जाता है | रक्त दान करने से हेमोक्रोमैटोसिस की अवस्था नहीं आ सकती है |

ये भी पढ़े: डॉ भीमराव अंबेडकर की मृत्यु कैसे हुई

रक्त दान से जिगर और कैंसर का खतरा कम हो जाता है

यदि शरीर में लौह की अत्यधिक मात्रा हो जाती है, तो कैंसर होने का खतरा बढ़ जाता है | रक्तदान करने से शरीर में लौह की मात्रा को नियंत्रित किया जाता है | इससे जिगर से संबंधित बीमारियां भी कम होती है |

ये भी पढ़े: मदर टेरेसा की जीवनी

यहाँ पर हमनें आपको वर्ल्ड ब्लड डोनर डे (World Blood Donor Day) कब मनाया जाता है, इससे जुडने के फायदे के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: सुबह खाली पेट में पानी पीने के फायदे

ये भी पढ़े: लाल बहादुर शास्त्री की मौत का सच

ये भी पढ़े: महात्मा गांधी का जीवन परिचय

ये भी पढ़े: अटल बिहारी वाजपेयी का जीवन परिचय