राज्यसभा सदस्य का चुनाव कैसे होता है

राज्यसभा सदस्य का चुनाव 

भारत में द्विसदनीय शासन व्यवस्था को अपनाया गया है, इन्हीं दोनों सदन में उच्च सदन को राज्य सभा कहा जाता है | राज्य सभा कभी भी भंग नहीं हो सकती है, इसके एक-तिहाई सदस्य प्रत्येक 2 साल में सेवा-निवृत होते हैं, इनका कार्यकाल छ: वर्ष का होता है | राज्य सभा में 12 सदस्यों को राष्ट्रपति के द्वारा मनोनीत किया जाता है तथा इसके अतिरिक्त अन्य सदस्यों का चुनाव किया जाता है | राज्य सभा के सदस्यों की अधिकतम संख्या 250 निर्धारित की गई है, वर्तमान समय में यह संख्या 245 है | इस पेज पर राज्यसभा सदस्य का चुनाव कैसे होता है ? इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे |

 ये भी पढ़े: राज्य सभा के सांसद कैसे बने

ये भी पढ़े: लोक सभा एवं राज्य सभा में क्या अंतर होता है

राज्यसभा का गठन

राज्यसभा का पहली बार गठन 3 अप्रैल, 1952 को हुआ था | उस समय इसका नाम काउंसिल ऑफ स्टेट्स था | राज्य सभा की पहली बैठक 13 मई, 1952 को हुई थी | 23 अगस्त, 1954 को राज्य सभा के सभापति ने घोषणा की इसे हिंदी में राज्य सभा कहा जायेगा | तब से अब तक हम इसे राज्य सभा के नाम से जाना जाता है |

एकल संक्रमणीय प्रणाली

इस प्रणाली के अंतर्गत विधान सभा के प्रतिनिधियों के द्वारा राज्य सभा के चुनाव में खड़े प्रत्याशियों को अपनी रुचि के अनुसार 1, 2, 3, 4 इत्यादि संख्या प्रदान की जाती है | प्रत्याशी को चुनाव जीतने के लिए निर्धारित कोटे को प्राप्त करना अनिवार्य रहता है, यदि प्रत्याशी निर्धारित कोटे को प्राप्त कर लेता है, तो वही पर मतगणना रोक दी जाती है, तथा उसे विजेता घोषित कर दिया जाता है |

कोटा = [मतों की कुल संख्या / (नियत प्रतिनिधि संख्या + 1)]+1

सम्बंधित लेख (Related Articles)

उदाहरण

उत्तर प्रदेश राज्य में कुल 403 विधान सभा सीटें है, तथा राज्य सभा की कुल 31 सीटें है, अब उत्तर प्रदेश से राज्य सभा सांसद चुनने के लिए कितने विधायकों का समर्थन प्राप्त होना चाहिए इसके लिए कुल विधायकों की संख्या को चुने जाने वाले राज्य सभा सांसदों की संख्या में एक जोड़कर विभाजित किया जाता है |

जैसे- 10 राज्यसभा सांसदों का चयन करना है, तो इसमें 1 जोड़ दिया जायेगा | अब यह संख्या 11 हो जाएगी | कुल विधायक की संख्या 403 इसको 11 से विभाजित किया जायेगा | विभाजित करने पर 36.66 संख्या प्राप्त होती है | इसका अर्थ है, कि राज्यसभा सांसद बनने के लिए प्रत्याशी को 37 मतों  वोटों की आवश्यकता होगी | आप इस प्रकार से राज्यसभा सदस्य के चुनाव का आकलन कर सकते है |

ये भी पढ़े: लोकसभा में कितनी सीटें हैं ?

यहाँ पर हमनें आपको राज्यसभा सदस्य के चुनाव के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़े: लोकसभा का चुनाव कैसे होता है

ये भी पढ़े: Full Form of UPA and NDA in Hindi (राजग और संप्रग क्या है)

ये भी पढ़े: शासन (Governance) और प्रशासन (Administration) में क्या अंतर है?