UP APO क्या होता है कैसे बने, योग्यता, वेतन पूरी जानकारी

UP APO क्या होता है कैसे बने 

भारत में न्याय प्रदान करने के लिए सर्वोच्च न्यायालय, उच्च न्यायालय और जिला सत्र न्यायालय की व्यवस्था प्रदान की गयी सर्वोच्च न्यायालय का क्षेत्र सम्पूर्ण भारत है, उच्च न्यायालय का क्षेत्र पूरा राज्य होता है, सत्र न्यायालय का क्षेत्र पूरा जिला होता है | इन सभी न्यायालयों में सरकार के मुकदमों की पैरवी करने के लिए एक व्यक्ति की नियुक्ति की जाती है, जिसे सर्वोच्च न्यायालय में महान्यायवादी, उच्च न्यायालय में महाधिवक्ता तथा जिला सत्र न्यायालय में सहायक अभियोजन अधिकारी (APO) के नाम से जाना जाता है, इस पेज पर UP APO क्या है, इसके लिए योग्यता और वेतन के विषय में जानकारी प्रदान की जा रही है |

ये भी पढ़े: भारत के महान्यायवादी (अटॉर्नी जनरल) की सूची

ADVERTISEMENT विज्ञापन

ये भी पढ़े: Career In Law After 12th-Graduation

UP APO क्या होता है ?

उत्तर प्रदेश के जिले में सत्र न्यायालय में जो व्यक्ति सरकार की तरफ से मुकदमे की पैरवी करते है, उन्हें Assistant Prosecution Officer कहा जाता है, हिंदी भाषा में इसे सहायक अभियोजन अधिकारी के नाम से जाना जाता है |

ADVERTISEMENT विज्ञापन

ये भी पढ़े: एडवोकेट कैसे बने 

UP APO कैसे बने ?

उत्तर प्रदेश में आप दो प्रकार से APO बन सकते है, प्रथम अनुभव के आधार पर तथा दूसरा APO की परीक्षा उत्तीर्ण करके |

ये भी पढ़े: साइबर लॉ में करियर कैसे बनाये

ADVERTISEMENT विज्ञापन

अनुभव के आधार पर

  • अनुभव के आधार पर निम्न योग्यता का निर्धारण किया गया है |
  • अभ्यर्थी भारत का नागरिक होना चाहिए |
  • अभ्यर्थी की आयु न्यूनतम 35 होनी चाहिए |
  • APO बनने के लिए आपके पास वकालत करने का 7 वर्ष का अनुभव होना चाहिए |

APO की परीक्षा के आधार पर

  • अभ्यर्थी को एलएलबी की परीक्षा उत्तीर्ण करना अनिवार्य है |
  • इसके लिए अनुभव की आवश्यकता नहीं होती है |

ये भी पढ़ें: PCS कैसे बने

अनुभव और परीक्षा के आधार पर चयन में अंतर

यदि आप अनुभव के आधार पर चयनित होते है, तो राज्य सरकार की इच्छा के अनुसार APO के पद पर रह सकते है | सरकार बदलने पर आपके स्थान पर अन्य व्यक्ति का चयन किया जा सकता है | अगर आपका चयन परीक्षा के माध्यम से होता है, तो आपका कार्यकाल परमानेंट रहता है, चाहे राज्य में कोई भी सरकार रहे |

ये भी पढ़े: UPPSC सिलेबस की सम्पूर्ण जानकारी

ये भी पढ़े: जज कैसे बने ?

APO की योग्यता

APO बनने के लिए आपको एलएलबी की परीक्षा उत्तीर्ण होना अनिवार्य है, इसके बाद आप APO की परीक्षा में सम्मिलित हो सकते है |

आयु सीमा (Age Limit)

इसकी परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए अभ्यर्थी की आयु 21 वर्ष से 40 वर्ष के बीच में होनी चाहिए |

की परीक्षा

यह परीक्षा तीन स्तरों में विभाजित है |

  • प्रारंभिक परीक्षा (प्रश्न वैकल्पिक प्रकार)
  • मुख्य परीक्षा (लिखित परीक्षा)
  • पर्सनालिटी टेस्ट (साक्षात्कार)

ये भी पढ़े: प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करे

APO परीक्षा

परीक्षा परीक्षा का प्रकार पेपर अंक
प्रारंभिक परीक्षा प्रश्न वैकल्पिक प्रकार 1 पेपर 150 अंक
मुख्य परीक्षा लिखित परीक्षा 4 पेपर 400 अंक
पर्सनालिटी टेस्ट साक्षात्कार 50 अंक

ये भी पढ़ें: SDM Officer कैसे बने

परीक्षा पैटर्न

विषय अंक
भाग- I
सामान्य ज्ञान
राष्ट्रीय / अंतर्राष्ट्रीय स्तर की वर्तमान घटना 10
भारतीय राजनीति और अर्थव्यवस्था 8
सामान्य विज्ञान 8
भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन 8
विश्व भूगोल और प्रदूषण 8
भारत का इतिहास 8
भाग- II भारतीय साक्ष्य अधिनियम 25
यूपी पुलिस अधिनियम और विनियम 15
भारतीय दंड संहिता 35
आपराधिक प्रक्रिया संहिता 25

ये भी पढ़े: प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कैसे करे

मुख्य परीक्षा पैटर्न

अंग्रेज़ी 100
हिंदी 100
सामान्य ज्ञान 100
साक्ष्य का कानून 100
आपराधिक कानून और प्रक्रिया 100

APO का वेतन

इस पद के लिए पे स्केल रुपये 9300 – 34800 है | सातवें वेतन आयोग में यह 47600 बेसिक हो गयी है |

ये भी पढ़े: सुप्रीम कोर्ट के जज कैसे बनते हैं

यहाँ, हमने सहायक कार्यक्रम अधिकारी (APO) के बारे में जानकारी प्रदान की है। यदि इस जानकारी से संबंधित कोई प्रश्न हो या यदि आप इससे संबंधित अतिरिक्त जानकारी प्राप्त करना चाहते हों, तो कृपया टिप्पणी बॉक्स के माध्यम से पूछें। हम आपकी प्रतिक्रिया और सुझाव का इंतजार कर रहे हैं।

ये भी पढ़े : इंटरव्यू की तैयारी कैसे करे

ये भी पढ़े: उच्चतम न्यायालय के न्यायधीश को हटाने की क्या प्रक्रिया है