भारत के महान्यायवादी (अटॉर्नी जनरल) की सूची

भारत के महान्यायवादी (Attorney General) की लिस्ट 

भारत का महान्यायवादी (Attorney General) भारत सरकार का मुख्य कानूनी सलाहकार तथा भारतीय उच्चतम न्यायालय में सरकार का प्रमुख वकील होता है । भारत के महान्ययवादी की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति द्वारा अनुच्छेद 76 के अंतर्गत की जाती है । देश के अटॉर्नी जनरल का मुख्य कर्तव्य कानूनी मामलों में केंद्र सरकार को सलाह देना और कानूनी प्रक्रिया के अंतर्गत  जिम्मेदारियों का पालन करना होता है, जिन्हें राष्ट्रपति की ओर से उनके पास भेजा जाता है । उन्हें देश के किसी भी न्यायालय में उपस्थित होने का अधिकार प्राप्त है, इसके साथ-साथ वह संसद की कार्यवाही में भी सम्मिलित होनें का अधिकार प्राप्त है | अटॉर्नी जनरल को मतदान करनें का अधिकार नहीं होता है । भारत के महान्यायवादी (अटॉर्नी जनरल) की नियुक्ति कैसे होती है ? इनके वेतन, योग्यता के बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है |

ये भी पढ़े: राष्ट्रपति शासन लागू होने पर क्या-क्या बदल जाता है

ये भी पढ़े: क्या है देश के राष्ट्पति के अधिकार 

महान्ययवादी (Attorney General) की नियुक्ति

भारत के महान्ययवादी की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति द्वारा अनुच्छेद 76 के अंतर्गत की जाती है । महान्यायवादी के पद पर नियुक्त नियुक्त होने किए लिए व्यक्ति को सर्वोच्च न्यायालय का न्यायाधीश के समतुल्य योग्यता होना आवश्यक है | संविधान द्वारा महान्यायवादी का कार्यकाल निश्चित नहीं किया गया है, परन्तु उन्हें राष्ट्रपति द्वारा कभी भी पदमुक्त किया जा सकता है, तथा वह राष्ट्रपति को कभी भी अपना त्यागपत्र देकर पदमुक्त हो सकते है |

महान्ययवादी का वेतन

संविधान के अनुसार महान्ययवादी का वेतन और भत्ते निर्धारित नहीं किये गये है, उन्हें राष्ट्रपति द्वारा निर्धारित पारिश्रमिक प्राप्त होता है

ये भी पढ़े: राज्य सभा के सांसद कैसे बने 

महान्ययवादी की योग्यता

  • उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश की योग्यता रखनें वाले व्यक्ति को महान्ययवादी के पद पर नियुक्त किया जाता है
  • महान्ययवादी के पद पर नियुक्त होनें वाले व्यक्ति को भारत का नागरिक होना अनिवार्य है
  • उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश के रूप में पांच वर्ष कार्य करनें का अनुभव अथवा किसी उच्च न्यायालय में वकालत का 10 वर्ष का अनुभव होना चाहिए

ये भी पढ़े: संविधान किसे कहते है, लिखित संविधान का क्या अर्थ है ?

महान्यायवादी के कार्य

  • महान्यायवादी उन कानूनी मामलों पर भारत सरकार को सलाह देते है, जो राष्ट्रपति द्वारा भेजे अथवा आवंटित किए जाते हैं
  • महान्यायवादी राष्ट्रपति द्वारा भेजे या आवंटित किए गए कानूनी चरित्र के अन्य कर्तव्यों का प्रदर्शन करता है
  • वह संविधान के द्वारा या किसी अन्य कानून के अंतर्गत उस पर सौंपे गए कृत्यों का निर्वहन करता है
  • महान्यायवादी भारत सरकार का विधि अधिकारी होता है, जो सुप्रीम कोर्ट में सभी मामलों में भारत सरकार का पक्ष रखता है
  • भारत सरकार को किसी क़ानूनी सलाह की आवश्यकता होनें पर वह अपनी राय सरकार के समक्ष प्रस्तुत कर उन्हें अवगत कराते है

ये भी पढ़े: राज्यपाल की नियुक्ति कैसे होती है,कौन करता है

महान्यायवादी के अधिकार

  • महान्यायवादी को अपने कर्तव्यों के निष्पादन में भारत के राज्य क्षेत्र में सभी न्यायालयों में सुनवाई का अधिकार प्राप्त है
  • वह संसद के दोनों सदनों या उनके संयुक्त बैठकों की कार्यवाही में सम्मिलित होनें का अधिकार प्राप्त है, परंतु अनुच्छेद 88 के अंतर्गत उन्हें वोट देने का अधिकार नहीं है
  • अनुच्छेद 88 के अंतर्गत वह संसद की किसी भी समिति में (जिसमें वह सदस्य के रूप में नामांकित हो) बोलने अथवा सम्मिलित होनें का अधिकार है
  • महान्यायवादी के पास वह सभी विशेषाधिकार प्राप्त है, जो संसद के एक सदस्य को प्राप्त होती है

ये भी पढ़े: भारतीय संविधान की 11 वीं अनुसूची में शामिल विषयो की सूची

भारत के सभी अटॉर्नी जनरल या महान्यायवादियों की सूची

क्र०स०        नाम                कार्यकाल
1. एम सी सीतलवाड़ 28 जनवरी 1950 – 1 मार्च 1963
2. सी.के. दफ्तरी 2 मार्च 1963 – 30 अक्टूबर 1968
3. निरेन डे 1 नवंबर 1968 – 31 मार्च 1977
4. एस वी गुप्ते 1 अप्रैल 1977 – 8 अगस्त 1979
5. एल.एन. सिन्हा 9 अगस्त 1979 – 8 अगस्त 1983
6. के परासरण 9 अगस्त 1983 – 8 दिसंबर 1989
7. सोली सोराबजी 9 दिसंबर 1989 – 2 दिसंबर 1990
8. जी रामास्वामी 3 दिसंबर 1990 – 23 नवंबर 1992
9. मिलन के. बनर्जी 21 नवंबर 1992 – 8 जुलाई 1996
10. अशोक देसाई 9 जुलाई 1996 – 6 अप्रैल 1998
11. सोली सोराबजी 7 अप्रैल 1998 – 4 जून 2004
12. मिलन के. बनर्जी 5 जून 2004 – 7 जून 2009
13. गुलाम एस्सजी वाहनवति 8 जून 2009 – 11 जून 2014
14. मुकुल रोहतगी 12 जून 2014 – 30 जून 2017
15. के.के. वेणुगोपाल 30 जून 2017 से अभी तक

ये भी पढ़े: उच्चतम न्यायालय के न्यायधीश को हटाने की क्या प्रक्रिया है

यहाँ आपको हमनें भारत के महान्यायवादी अर्थात अटॉर्नी जनरल की नियुक्ति, वेतन, योग्यता के बारे में बताया , यदि आपके मन में इससे सम्बंधित कोई प्रश्न आ रहा है, तो आप हमसे कमेंट बॉक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके प्रश्न का उत्तर अतिशीघ्र देंगे | हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करे, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: धारा 370 क्या है

ये भी पढ़े:  क्या है देश के प्रधान मंत्री के अधिकार

ये भी पढ़े: Career In Law After 12th-Graduation