वेटरिनरी डॉक्टर (Veterinary Doctor) कैसे बनें

वेटरिनरी डॉक्टर किसे कहते है (Veterinary Doctor)

भारत में अन्य देशो की अपेक्षा यहाँ सबसे अधिक पशु-पक्षी पाए जाते है। इनमें पालतु और जंगली दोनों प्रकार के होते है। पिछले कुछ वर्षो से पशुओं में होने वाली जानलेवा बीमारियों से इनकी मृत्यु का आकड़ा बढ़ता जा रहा है| जिसके कारण सरकार द्वारा इस दिशा में उपयोगी कदम उठाए जा रहे हैं, जिससे इस क्षेत्र में काफी नौकरियां उत्पन्न हुई हैं। हमारे देश में पशुओं की संख्या देखते हुए पशु चिकित्सक अर्थात वेटरनरी डॉक्टर की काफी कमी है। समय के साथ मौसम और जलवायु में आए बदलाव के कारण पशु-पक्षी भी जानलेवा बिमारी का शिकार होते है, लेकिन उनके इलाज के लिए वेटरनरी डॉक्टर मुश्किल से मिलते है। यदि आप भी पशु-पक्षियों से प्यार करते है, और इन बेजुवानों के दर्द को दूर करना चाहते है तो आपके लिए वेटरनरी डॉक्टर का प्रोफेशन बेहतर साबित हो सकता है। वेटरिनरी डॉक्टर (Veterinary Doctor) कैसे बनें ? इसके बारें में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहें है|

ये भी पढ़े: डॉक्टर कैसे बने

ये भी पढ़े: 12th के बाद कैरियर कैसे बनाये

वेटरिनरी डॉक्टर क्या होता है (Veterinary Doctor Kya Hota Hai)

एक वेटरनरी डॉक्टर को हिंदी में पशु चिकित्सक कहते है| पशु चिकित्सक पशुओं की बिमारी का पता लगाकर उनका इलाज करते  है। इसके साथ-साथ पशुओं का टीकाकरण, सर्जरी और ऑपरेशन जैसे काम भी एक वेटरनरी डॉक्टर ही करते है। वहीं पेट्स और फार्म में रहने वाले पशुओं की देखभाल जैसे काम करना और समय-समय पर उनके टेस्ट लेना जैसे काम भी एक वेटरनरी डॉक्टर को करते है।

योग्यता (Eligibility)

वेटरनरी डॉक्टर अर्थात पशु चिकित्सक बननें के लिए अभ्यर्थी को 12वीं में फिजिक्स, केमिस्ट्री और बायोलॉजी में 50 प्रतिशत अंको से उत्तीर्ण होना आवश्यक है।

ये भी पढ़े: मेडिकल लैब तकनीशियन कैसे बनें (Medical Lab Technician)

आयु (Age)

अभ्यर्थी की आयु आयु 17 से 22 वर्ष होना अनिवार्य है|

वेटरिनरी डॉक्टर कैसे बनें (Pashu Chikitsak Kaise Bane)

पशु चिकित्सक बनने के लिए किसी भी छात्र को सबसे पहले पशु चिकित्सक के लिए होने वाली प्रवेश परीक्षा उत्तीर्ण करना आवश्यक है| पहले यह परीक्षा ऑल इण्डिया प्री वेटनरी टेस्ट के नाम से होती थी, परन्तु वर्तमान में इस परीक्षा का आयोजन  नेशनल एलीजिबिलिटी कम इन्ट्रेन्स टेस्ट (नीट) के माध्यम से किया जाता है| छात्रों को प्रवेश इस परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर किया जाता है। भारत में इस परीक्षा के माध्यम से 15 प्रतिशत सीटों पर एडमीशन किया जाता है, जबकि शेष सीटे उस राज्य के अभ्यर्थियों द्वारा भरी जाती है, जिस राज्य में वह इंस्टीट्यूट है।

ये भी पढ़े: जीएनएम (GNM) कोर्स प्रवेश परीक्षा

कोर्स (Course)

पशु चिकित्सक बननें के लिए डिग्री और डिप्लोमा कोर्स उपलब्ध है। आप इनमें से कोई कोर्स कर सकते है-

  • डिप्लोमा इन वेटरनरी फार्मेसी (2 वर्षीय डिप्लोमा)
  • मास्टर ऑफ वेटरनरी साइंस (2 वर्षीय डिग्री)
  • पीएचडी इन वेटरनरी साइंस ( 2 वर्षीय डिग्री)
  • बैचलर ऑफ वेटरनरी साइंस एंड एनिमल हस्बैंड्री (5 वर्षीय डिग्री)

इसके पाठ्यक्रम में आपको थ्योरी तथा प्रैक्टिकल दोनों का ज्ञान दिया जाता है। शुरू में आपको एनॉटोमी, बायोकेमिस्ट्री, फिजियोलॉजी, न्यूट्रीशन, लाइवस्टॉक मैनेजमेंट ऐंड प्रोडक्शन, पैथोलॉजी तथा जेनेटिक्स आदि के विषय में पढाया जाता है। इसके बाद प्रैक्टिकल ट्रेनिंग के लिए वेटेरिनरी हॉस्पिटलों में भेजा जाता है।

ये भी पढ़े: फार्मासिस्ट कैसे बने

प्रमुख शिक्षण संस्थान (Educational Institutions)

  • दिल्ली पैरामेडिकल एंड मैनजमेंट इंस्टिट्यूट, नई दिल्ली
  • पंडित दीन दयाल उपाध्याय पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय, उ.प्र
  • इंडियन वेटरनरी रिसर्च इंस्टीट्यूट, बरेली यूपी
  • बिहार वेटरनरी कॉलेज, पटना
  • नेशनल डेयरी रिसर्च इंस्टीट्यूट, करनाल
  • इंडियन वेटरनरी रिसर्च इंस्टीट्यूटस कोलकाता
  • खालसा कॉलेज ऑफ वेटरनरी एंड एनिमल साइंसेज, पंजाब
  • कॉलेज ऑफ वेटरनरी एंड एनिमल सांइस, बीकानेर
  • मद्रास वेटरनरी कॉलेज, चेन्नई
  • आनंद एग्रीकल्चरल यूनिवर्सिटी, आनंद, गुजरात

ये भी पढ़े: विभिन्न क्षेत्रों में करियर की संभावनाएं

कोर्स के बाद नौकरी (Job After Course)

एक पशु चिकित्सक के रूप में आपको कई सरकारी और गैर सरकारी पशु चिकित्सालय में आपको एक डॉक्टर के रूप में कार्य कर सकते है|  इसके अतिरिक्त एनिमल रिसर्च सेंटर, डेरी फार्म, शिक्षण संस्थान, फार्मास्यूटिकल कंपनी आदि में आपको आसानी से जॉब मिल सकती है। आप अपनी इच्छानुसार स्वयं का क्लिनिक खोलकर भी अपना अच्छा करियर बना सकते है। वहीं रिसर्च में जाकर आप कई देशों में फेलोशिप भी कर सकते है।

सैलरी (Salary)

एक पशु चिकित्सक को सैलरी उसके पद और अनुभव के आधार पर निर्धारित की जाती है। कई सरकारी वेटरनरी केंद्रों में आपको जूनियर वेटरनरी सर्जन के रूप में नौकरी मिल सकती है। यहां पर आपको शुरूआत में 15 से 20 हजार रूपये प्रतिमाह मिलते है। कुछ वर्षो के बाद अनुभव बढनें पर वेतन में वृद्धि होती रहती है|

ये भी पढ़े: प्लांट पैथोलॉजी में करियर कैसे बनाये

यहाँ पर हमनें वेटरनरी डॉक्टर अर्थात पशु चिकित्सक बननें के बारें में बताया| यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है|

ये भी पढ़े: नीट (NEET) परीक्षा क्या है

ये भी पढ़े: (Private Jobs) प्राइवेट नौकरी कैसे पाए फॉर फ्रेशेर्स

ये भी पढ़े: फिजिकल (Physical) और मेडिकल टेस्ट (Medical Test) क्या होता है