पीओएस (POS) क्या है

पीओएस (POS) से सम्बंधित जानकारी

पीओएस (POS) को बिक्री का बिंदु भी कहा जाता है | यह बिंदु उस समय को संदर्भित करने का काम करता है जिस पर एक कार्डधारक और एक व्यापारी लेनदेन पूरा करने की प्रक्रिया करते  हैं। इसके साथ ही यह दोनों ऑनलाइन खरीदारी के अलावा  पारंपरिक रूप से किए गए लेनदेन में भी पाए जाते है जैसे- ईंट और पत्थर भंडार । इसके साथ ही पीओएस सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर के संयोजन का भी इस्तेमाल करता है क्योंकि, इसमें एक मैनुअल या इलेक्ट्रॉनिक कैश रजिस्टर, स्कैनर, वजन तराजू, टच स्क्रीन टर्मिनल और अन्य बिट्स और बोब्स की एक विस्तृत विविधता शामिल  का इस्तेमाल किया जा सकता है | इसलिए यदि आप भी पीओएस (POS) के विषय में जानना चाहते हैं, तो यहाँ पर आपको पीओएस (POS) क्या है, POS Full Form in Hindi, पीओएस के बारे में जानकारी प्रदान की जा रही है | 

पीएम यशस्वी छात्रवृत्ति योजना क्या है

पीओएस (POS) क्या है

पीओएस का अधिकतर इस्तेमाल विपणक अपने उत्पादों या सेवाओं के लिए करता हैं | ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि, उपभोक्ता अक्सर पीओएस स्थानों पर खरीद का निर्णय लेते हैं। इसके अलावा भौतिक दुकानों ने पारंपरिक रूप से अपने पीओएस को स्टोर से बाहर भी रख दिया करते है, ताकि जो ग्राहक स्टोर छोड़कर जाना चाहते हैं उन ग्राहकों द्वारा आवेग खरीद को बढ़ाया सकता है| इसके अलावा पीओएस एक ऐसी प्रणाली है, जो मुख्य रूप से एक स्थिति प्रणाली प्रदान करता है | इसके साथ ही पीओएस एक डिजिटल स्टोर लॉन्च करने और विपणन करने में सक्षम बनाने का काम करता है | इसलिए इसका इस्तेमाल करना आपके लिए सही विकल्प साबित हो सकता है |

पीओएस (POS) का फुल फॉर्म क्या है 

POS का फुल फॉर्म Point of Sale  होता है, जिसे हिंदी भाषा में ‘बिक्री केंद्र’  कहा जाता है | प्वाइंट-ऑफ-सेल (पीओएस) एक भौतिक स्थान (स्थान, दुकान या स्टोर) है,  जिस पर ग्राहकों को सामान बेचने का काम किया जाता है | इसमें कंप्यूटर की तरह काम किया जाता है | 

पीओएस (POS)

यह प्रकार की मशीन होती हैं, जो अकेली नगद रहित ट्रांजेक्शन करने का काम करती है, इससे ग्राहकों को खरीद की पर्ची (Purchase Receipt) भी बनाकर प्रदान की जा सकती है | यह मशीन इस तरह का काम बहुत जल्द करती है | अब लोग इस मशीन की सहायता से ही पैसे गिनने का काम कर सकते है और पर्ची बनाने  का भी  का पूरा कर सकते है |  

एक पॉस टर्मिनल आमतौर पर इन पर कार्य कर सकता है जैसे-

  1. Debit/Credit Card Processing
  2. Receiving Payments
  3. Making Purchase Receipts
  4. Creating Inventory

इसके अलावा एक खिलौने की दुकान पर एक होटल/रेस्टोरेंट जो पीओस  सिस्टम वो इन चारों से भिन्न होता है लेकिन, इनकी आधार-भूत संरचना और कार्य-प्रणाली में किसी भी प्रकार का कोई भी बदलाव नहीं आता है | 

योगी लैपटॉप योजना (Yogi Laptop Scheme) क्या है?

POS Machine की बनावट कैसी होती है 

पीओस एक कम्प्युटराइज्ड इलेक्‍ट्रॉनिक मशीन होती है, जिसे हार्डवेयर तथा सॉफ्टवेयर के मिश्रण से बनाया  गया है | यह एक ऐसी मशीन है जो बड़े-बड़े व्यापारियों को  बड़ी-बड़ी कतारों से होने वाले सर दर्द से  पूरी तरह से राहत प्रदान करती है और उनके कामो को आसान बना देती है | 

एक POS Machine के दो प्रमुख अवयव होते है 

  1. Software
  2. Hardware

पीओएस सॉफ्टवेयर का उपयोग 

सभी पीओएस मशीन कार्ड से भुगतान करने का काम करती है, खरीदे  गए सामान की पूरी जानकारी रखती है, ग्राहकों को खरीद पर्ची प्रदान करने का कार्य करती है, लेकिन इन सभी कार्यों को अच्छे से करने के लिए “Software” का उपयोग किया जाता है | इसमें सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि पॉस सिस्टम व्यापारी के बैंक खाता में पैसा ट्रांसफर  किये जा सके | इसके साथ ही पूरे सामानों की जानकारी को पढ़ा जा सके और डेबिट क्रेडिट कार्ड की पुष्टि करके भुगतान प्राप्त करने का भी काम किया जा सकता है |

पीओएस हार्डवेयर   

Monitor/Touch Screen – जिस उपकरण की मदद से कैशियर, क्लर्क अथवा ऑपरेटर POS Software का इस्तेमाल करते है, उस डिवाईस को मॉनिटर कहा जाता है इसके अलावा पीओएस मशीन में इन-बिल्ट स्क्रीन दी हुई होती है, जिसके माध्यम से सॉफ्टवेयर इंटरफेस उपलब्ध करवाया जाता  है | 

POS System के प्रकार 

POS System के इस प्रकार है-

  • Retail POS System
  • Small Business POS Systems
  • Mobile POS System
  • Cloud POS System
  • Restaurant POS Systems
  • Bar and Nightclub POS Systems
  • Salon and Spa POS System

यहाँ पर हमने आपको पीओएस (POS)  के विषय में जानकारी उपलब्ध कराई है | अधिक जानकारी के लिए पोर्टल kaiseinhindi.com पर विजिट करे |

किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना (KVPY) क्या है?