पूरा (PURA) मॉडल क्या है

पूरा (PURA) मॉडल से सम्बंधित जानकारी

भारत के महान और प्रसिद्द वैज्ञानिक और देश के 11वें राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम देश की सेवा में विशेष योगदान रहा है | उन्होंने देश को आगे बढ़ाने के लिए बहुत से प्रयास किये | देश कुछ सबसे महत्वपूर्ण संगठनों डीआरडीओ और इसरो में कार्य करके देश की सेवा की। इसी तरह से देश के ग्रामीण क्षेत्र के विकास हेतु कलाम जी ने एक विज़न दिया, जिसका नाम “Provision of Urban Amenities to Rural Areas (PURA)” है | इस विजन के अंतर्गत देश के ग्रामीण इलाकों के विकास क्षेत्र में बढ़ावा मिलेगा | यदि आप पूरा (PURA) मॉडल के बारे में जानना चाहते है, और इसका फुल फॉर्म क्या होता है, इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते है तो यहां पर इसकी जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है |

आयुष्मान भारत योजना क्या है 

“पूरा”का फुल फॉर्म (PURA Full Form in Hindi)

PURA का फुल फॉर्म “Provision of Urban Amenities to Rural Areas” होता है, जिसका हिंदी में उच्चारण ‘प्रोविजन ऑफ़ अर्बन एमेनिटीज टू रूरल एरियाज’ होता है | इसका हिंदी में अर्थ “ग्रामीण क्षेत्रों में शहरी सुविधाओं का प्रावधान” होता है | इसका मुख्य उद्देश्य ग्रामीण क्षेत्रों को विकसित करना और उसमे शहरी सुविधाओं को उपलब्ध करवाना है |

जानिये PM मोदी द्वारा सरकारी योजनाएं !

पूरा (PURA) मॉडल क्या है

वर्ष 2020 तक विकसित भारत का सपना देखने वाले देश के पूर्व राष्‍ट्रपति डॉ. एपीजे अब्‍दुल कलाम ने एक सपना और देखा था जिसका नाम ‘Provision of Urban Amenities to Rural Areas (PURA) पूरा’ है। सन 2003 में गणतंत्र दिवस के अवसर पर कलाम जी ने राष्‍ट्र को संबोधित करते हुए ग्रामीण इलाकों को विकसित करने लिए ‘पूरा (PURA) मॉडल’ का कॉन्‍सेप्‍ट दिया था। कलाम जी का विजन था कि ग्रामीण क्षेत्रों में शहरों जैसे बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराई जा सकें। जिसके द्वारा न केवल ग्रामीण इलाकों की आबादी के जीवन स्‍तर में सुधार आये, बल्कि शहरों की तरफ लगातार बढ़ते पलायन पर भी नियंत्रण पाया जा सके। कलाम जी की इस सोच से प्रभावित होकर बीजेपी (BJP) की अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार ने वर्ष 2004 में ‘पूरा (PURA) मॉडल’ स्‍कीम के पायलेट प्रोजेक्‍ट की शुरुआत की थी। जिसके अंतर्गत शहरों में दी जाने वाली सुविधाएं जैसे सड़क, बिजली, संचार सुविधा, ज्ञान व राेजगार के अवसर, यातायात संपर्क, ग्रामीण बैंक की सुविधा, ग्रामीण स्‍तर पर उपलब्ध कराने की मुहिम चलाई गई |

क्या है स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया

पूरा (PURA) योजना को सफलता

केंद्र सरकार के ग्रामीण विकास मंत्रायल द्वारा चलाई गई इस योजना को एशियाई विकास बैंक से भी आर्थिक सहयोग दिया गया। इस योजना के अंतर्गत देश में जमीनी स्तर पर सात पायलट प्रोजेक्‍ट चलाए गए। फिर इसके बाद और भी अन्य कई मंत्रालयों और निजी क्षेत्रों को भी इस योजना से जोड़ा गया। परन्तु यह योजना जमीन स्‍तर पर पूरी तरह नाकाम रही। इसके बाद फिर यूपीए (UPA) सरकार ने वर्ष 2012 में इस योजना की नए तरीके से शुरुआत की। इस बार योजना का फोकस ज्ञान और राेजगार न करके, जलापूर्ति, साफ-सफाई और सड़क तक ही सीमित कर दिया गया। उस समय के तत्‍कालीन ग्रामीण विकास मंत्री जयराम रमेश ने डॉ. एपीजे अब्‍दुल कलाम के इस ड्रीम प्रोजेक्‍ट ‘पूरा (PURA) मॉडल’ को पूरी तरह से नाकाम बताया था।

क्या है प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना

पूरा (PURA) मॉडल का निष्कर्ष

इस तरह से समय – समय पर लगभग 10 वर्षों तक चली इस योजना पर करोड़ों रुपये खर्च होने के बावजूद भी डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम जी का ग्रामीण क्षेत्रों को शहरों जैसी सुविधा उपलब्ध करवाने का विजन सिर्फ पायलट प्रोजेक्‍ट बनकर ही रह गया।

पशुपालन लोन किस योजना के अंतर्गत ले

यहाँ पर हमनें पूरा (PURA) मॉडल योजना के बारें में जानकारी दी गई है| यदि इस जानकारी से रिलेटेड आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न या विचार आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है, हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है | अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे पोर्टल kaiseinhindi.com पर विजिट करते रहे |

किसान विकास पत्र (KVP) योजना क्या है