ED (प्रवर्तन निदेशालय) क्या है?

ED (प्रवर्तन निदेशालय) के विषय में जानकारी

भारत में कुछ समय से ईडी का नाम समाचारपत्रों और टीवी चैनलों में प्रमुखता से लिया जाता है | ईडी का नाम हाई प्रोफाइल केस में अधिकांशतः लिया जाता है | ईडी भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग के अधीन एक विशेष वित्तीय जांच एजेन्सी है | यह एजेन्सी भारत में विदेशी सम्पत्ति मामला, धन-शोधन(Money Laundering), आय से अधिक संपत्ति की जांच करती है | इस पेज पर ED (प्रवर्तन निदेशालय) क्या है, अधिकार, कार्य, ईडी का फुल फॉर्म के विषय में बताया जा रहा है |

ये भी पढ़ें: Money Laundering (मनी लॉन्ड्रिंग) क्या है?

ED (प्रवर्तन निदेशालय) क्या है?

ED (प्रवर्तन निदेशालय) भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग के अंतर्गत एक जाँच एजेंसी है, इसका मुख्यालय नयी दिल्ली में है | इसकी स्थापना 1 मई 1956 को हुई थी | ED में सभी उच्च अधिकारियों की नियुक्ति आईएएस, आईपीएस, आईआरएस रैंक के अधिकारियों में से की जाती है | यह एक गैर संवैधानिक निकाय है | यहाँ पर गैर संवैधानिक का अर्थ है, कि इस संस्था का वर्णन संविधान में नहीं किया गया था | इसका लोकप्रिय नाम ईडी (ED) है |

ED (प्रवर्तन निदेशालय) क्या है?

ये भी पढ़ें: शेयर मार्केट में निवेश कैसे किया जाता है?

ईडी का फुल फॉर्म (Full Form)

ईडी का फुल फॉर्म Directorate of Enforcement या Directorate General of Economic Enforcement हिन्दी भाषा में इसे प्रवर्तन निदेशालय के नाम से जाना जाता है |

ये भी पढ़ें: सरकारी बांड (Government Bond) क्या है?

अधिकार (Rights)

ED (प्रवर्तन निदेशालय) विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियम, 1973 के अंतर्गत कार्य करता था | इस अधिनियम को फेरा के नाम से जाना जाता था | 1 जून 2000 को फेमा लागू कर दिया गया कुछ समय के बाद फेमा से सम्बंधित सभी मामलें भी ईडी के अधिकार क्षेत्र में कर दिए गए | वर्तमान समय ईडी फेरा 1973 और फेमा 1999 के अंतर्गत कार्यवाही करता है |

ये भी पढ़ें: चेक बाउंस (Cheque Bounce) का क्या मतलब होता है?

कार्य (Work)

  • ईडी फेमा, 1999 के उल्लंघन से संबंधित सूचना को प्राप्त करता है, यह सूचनाएं इसे केंद्रीय और राज्य सूचना अभिकरणों, शिकायतों आदि से प्राप्त होती है |
  • यह “हवाला” फॉरेन एक्सचेंज रैकेटियरिंग, निर्यात प्रक्रियाओं का पूरा न होना, विदेशी विनिमय का गैर प्रत्यावर्तन तथा फेमा, 1999 के तहत उल्लंघन करने पर मामले की जाँच और निर्णय लेता है |
  • न्यायिक निर्णय कार्यवाही के अंतर्गत दंड की वसूली करता है, इसके लिए वह नीलामी इत्यादि प्रक्रिया का अनुपालन करता है |
  • ईडी पूर्ववर्ती फेरा, 1973 के तहत न्याय अभियोजन, अपील न्यायनिर्णयन के मामलों का प्रबंध करता है |
  • प्रवर्तन निदेशालय विदेशी मुद्रा और तस्करी निवारण अधिनियम के संरक्षण (सीओएफईपीओएसए) के अंतर्गत सिफारिश तथा कार्यवाही करता है |
  • यह पीएमएलए अपराध के अपराधी के विरूद्ध सर्वेक्षण, जांच, जब्ती, गिरफ्तारी, अभियोजन कार्य को पूर्ण करता है |
  • ईडी पीएमएलए के अंतर्गत अपराधी के हस्तांतरण के साथ-साथ अपराध की प्रक्रियाओं की जब्ती, कुर्की के संबंध में संविदाकारी राज्य को या से पारस्परिक कानूनी सहायता की मांग करना तथा प्रदान करता है |

ये भी पढ़ें: Extradition Treaty (प्रत्यर्पण संधि) क्या है?

यहाँ पर हमनें ED (प्रवर्तन निदेशालय) के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी है, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

ये भी पढ़ें: BHIM (भीम) एप क्या है?

ये भी पढ़ें: वीसा (Visa) कैसे मिलता है डॉक्यूमेंट, फीस, ऑनलाइन आवेदन

ये भी पढ़ें: वायदा कमोडिटी बाजार कारोबार में कैसे पाए सफलता

ये भी पढ़ें: दुनिया के सबसे अमीर देशों की सूची