NFC क्या है एनएफसी कैसे काम करता है ?

एनएफसी (NFC) क्या है और इसके कार्य 

भारत में अधिकांश लोग स्मार्टफोन प्रयोग करते है, परन्तु उनमे से कुछ लोगों को ही NFC के विषय में जानकारी होगी, यह आपके मोबाइल में प्रयोग की जाने वाली टेक्नोलॉजी है, जिससे आप किसी भी समीप की डिवाइस से कम्युनिकेट कर सकते है | यह एक वायरलेस टेक्नोलॉजी है, जो डाटा शेयर करने में सहायता प्रदान करती है | भविष्य में इस टेक्नोलॉजी का प्रयोग अधिक बढ़नें की संभावना है | NFC क्या है एनएफसी कैसे काम करता है ? इसके बारे में आपको इस पेज पर विस्तार से बता रहे है |

ये भी पढ़े: प्रोग्रामर कैसे बने इसके लिए क्या करे

एनएफसी NFC क्या है ?

एनएफसी का पूरा नाम नियर फील्ड कम्युनिकेशन है, यह एक वायरलेस टेक्नोलॉजी है, जिसका प्रयोग दो डिवाइसों का कनेक्शन बनाने के लिए किया जाता है, इस कनेक्शन के माध्यम से दोनों डिवाइसों के बीच डाटा शेयर किया जा सकता है | यह मोबाइल के बैक कवर, बैटरी या मोबाइल के टॉप पर लगाया जाता है, मोबाइल के सेटिंग में जाकर इसे एक्टिवेट किया जा सकता है |

एनएफसी में इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडियो फील्ड का प्रयोग किया जाता है, डिवाइस के बीच में कनेक्शन बनाने के लिए डिवाइस को एक दूसरे से टच करना पड़ता है, इसकी रेंज 3-4cm तक होती है, इससे अधिक दूरी पर यह कनेक्शन कार्य नहीं करता है,  और इस तरह से डाटा शेयर नहीं हो पायेगा | एनएफसी में डेटा शेयरिंग की स्पीड 106kbps से लेकर 424kbps तक हो सकती है |

एनएफसी कार्य कैसे करता है ?

जब हम अपने मोबाइल की सेटिंग में जाकर एनएफसी को एक्टिव करते है, तो वह इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडियो फील्ड के माध्यम से अपने आस-पास के क्षेत्र में एक इलेक्ट्रोमैग्नेटिक का सर्किल बना लेता है | इसी प्रकार से आप दूसरी डिवाइस में भी एनएफसी को एक्टिव कर ले, जब इन दोनों का इलेक्ट्रोमैग्नेटिक क्षेत्र आपस में टच करेगा, तो दोनों के बीच एक कनेक्शन बन जायेगा | अब आप दोनों डिवाइसों में आपस में डेटा शेयर कर सकते है, जब एक डिवाइस से डेटा सेंट मोड से भेजा जायेगा, तो दूसरी डिवाइस को रिसीव मोड ऑन करना होगा, जिससे डाटा पहुंच सके | यही प्रक्रिया दूसरी डिवाइस में डेटा भेजने के लिए अपनानी होगी | इस तरह से यह कनेक्शन कार्य करता है |

एनएफसी चिप

एनएफसी एक छोटी सी चिप होती है, जिसे एनएफसी टैग भी कहा जाता है, यह एक माइक्रो चिप होती है, जिसमे आप कम बाईट्स(Bytes) के कमांड स्टोर कर सकते है, आप अपनी इच्छानुसार कमांड का स्टोर कर सकते है, जब आप अपनी डिवाइस को किसी अन्य एनएफसी डिवाइस के पास ले जायेंगे तब यह कमांड वर्क करना शुरू कर देगा |

एनएफसी चिप में कमांड डालने के लिए आप गूगल प्ले स्टोर पर जाकर एनएफसी ट्रिगर नामक एप का प्रयोग कर सकते है | इस एप के माध्यम से आप एनएफसी टैग के अंदर कमांड डाल सकते है |

ये भी पढ़े: कंप्यूटर एक्सपर्ट(Computer Expert) कैसे बने

एनएफसी मोड्स

nfc

एनएफसी डिवाइस में तीन मोड होते है |

1.पीअर टू पीअर (Peer to Peer) |

2.रीड / राईट मोड (Read/Write) |

3.कार्ड एमुलेशन (Card Emulation) |

पीअर टो पीअर (Peer to Peer)

इस मोड में दोनों डिवाइसों को एक्टिव रहना पड़ता है, तभी डेटा शेयर होता है |

रीड / राईट मोड (Read/Write)

यह वनवे कम्युनिकेशन है, इसमें आप डेटा को केवल रीड ही कर पाएंगे |

कार्ड एमुलेशन (Card Emulation)

इस मोड में आप एनएफसी डिवाइस को स्मार्ट कार्ड ,डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड की तरह प्रयोग कर सकते है |

एनएफसी का प्रयोग

1.एनएफसी का प्रयोग डाटा ट्रान्सफर करने के लिए किया जा सकता है |

2.एनएफसी का प्रयोग मोबाइल से पेमेंट करने में किया जा सकता है |

3.एनएफसी का प्रयोग आप बिजिनेस कार्ड की तरह भी कर सकते है |

4.एनएफसी का प्रयोग कैमरा में किया जा रहा है, जिससे ऑडियो, वीडियो और फोटो शेयर किये जा सकते है |

यहाँ पर हमनें आपको एनएफसी के विषय में जानकारी उपलब्ध करायी, यदि इस जानकारी से सम्बन्धित आपके मन में किसी प्रकार का प्रश्न आ रहा है, अथवा इससे सम्बंधित अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते है, तो कमेंट बाक्स के माध्यम से पूँछ सकते है,  हम आपके द्वारा की गयी प्रतिक्रिया और सुझावों का इंतजार कर रहे है |

हमारें पोर्टल kaiseinhindi.com के माध्यम से आप इस तरह की और भी जानकरियाँ प्राप्त कर सकते है | हमारे पोर्टल पर आपको करंट अफेयर्स, डेली न्यूज़,आर्टिकल तथा प्रतियोगी परीक्षाओं से सम्बंधित लेटेस्ट जानकारी प्राप्त कर सकते है, यदि आपको यह जानकारी पसंद आयी हो, तो हमारे facebook पेज को जरूर Like करे, तथा पोर्टल को सब्सक्राइब करना ना भूले |

ये भी पढ़े: सॉफ्टवेयर इंजीनियर कैसे बने